Submit your post

Follow Us

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

ओडिशा का मलकानगिरी जिला. यहां के स्वाभिमान अंचल एरिया का जंतुरई गांव. गणतंत्र दिवस के पहले की रात. शनिवार 25 जनवरी. गांव में माओवादी आये. गांववालों से लड़ाई हुई तो गांववालों ने एक माओवादी गंगा मढ़ी को पीट-पीटकर मार डाला.

सूत्र बताते हैं कि जन्तुरई गांव में दो हथियारबंद माओवादी बाइक पर सवार होकर आये. उन्होंने गांववालों से कहा कि कल गणतंत्र दिवस नहीं मनाना है. कहा कि काला दिवस मनाओ. गांव में सड़क निर्माण का कार्य भी हो रहा था. माओवादियों ने इस काम में बाधा पहुंचाने की कोशिश की. डराने के लिए हवाई फायरिंग भी की.

गांववालों ने मानने से इंकार कर दिया. गांववालों ने माओवादियों पर पत्थर और तीर चलाना शुरू कर दिया. 1 लाख के इनामी माओवादी गंगा मढ़ी की मौके पर ही मौत हो गयी. वहीं दूसरा 4 लाख का इनामी माओवादी जिप्रा हत्रिका घायल हो गया. गांववालों ने उसे पकड़कर सुरक्षाबलों को सौंप दिया. दोनों ही प्रतिबंधित गुमा एरिया कमिटी के सदस्य बताये जा रहे हैं.

Maosits Burnt Houses Of Villagers In Jadomba, Malkangiri, Odisha
मलकानगिरी में माओवादी और ग्रामीणों में लड़ाई हुई. गांववालों ने लाख रूपए के इनामी माओवादी को मार गिराया. बदले में माओवादियों ने जडोम्बा गांव के दर्जनभर घरों में आग लगा दी.

माओवादियों ने बाद में इस कार्रवाई का बदला भी लिया. 26 जनवरी की शाम उन्होंने पास के ही जडोम्बा गांव के लगभग एक दर्जन घरों में आग लगा दी. अब जन्तुरई और जडोम्बा गांव के लोगों ने डरकर गांव छोड़ दिया है, और पास के ही BSF कैम्प में शरण ली है.

मलकानगिरी के एसपी आरडी खिलारी ने मीडिया से बातचीत में बताया,

“सूचना मिलने पर सुरक्षाकर्मी घटनास्थल पर पहुंचे. वहां हमने देखा कि दो माओवादी बेहोश पड़े हुए हैं. वे गंभीर रूप से घायल थे.”

एसपी खिलारी ने बताया कि जडोम्बा, जन्तुरई, पेपरमेत्तला गांव के लोग अमूमन डर से माओवादियों का समर्थन करते थे. अब गांववाले मुख्यधारा से जुड़ने का मतलब समझने लगे हैं. और उन्होंने फैसला लिया है कि माओवादियों का विरोध किया जाए.

Maosits Burnt Houses Of Villagers In Jadomba, Malkangiri, Odisha 2
माओवादियों के बदले की कार्रवाई के बाद गांववालों ने पास के बीएसएफ कैंप में शरण ली है.

बकौल एसपी, गांववालों को लगता है कि माओवादियों की वजह से उन्हें विकास कार्यक्रमों का लाभ नहीं मिल पा रहा है. गांववालों की सुरक्षा के सवाल पर कहा कि भरसक प्रयास कर रहे हैं कि लोगों को सुरक्षित रख सकें, और विकास कार्य भी जारी रह सकें.

स्वाभिमान अंचल क्षेत्र में 9 ग्राम पंचायतें हैं, और इन ग्राम पंचायतों में 151 गांव आते हैं. लगभग दो दशक से यहां माओवादियों का राज रहा है. आंध्र प्रदेश-ओडिशा बॉर्डर की स्पेशल जोनल कमिटी के माओवादी सदस्य इन इलाकों में ऑपरेट करते रहते हैं. कहते हैं कि एक तरफ बालीमेला झील और दूसरी तरफ पहाड़ियों के होने से ये इलाका लम्बे समय तक सरकार की पहुंच से दूर था. हिन्दुस्तान टाइम्स में छपी खबर की मानें तो जुलाई 2019 में एक पुल के निर्माण के बाद यहां के लगभग 37 हज़ार लोगों तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचा था.

और अब है ये एपिसोड, जहां गांववाले खुद ही माओवादियों से मोर्चा ले रहे हैं. हालांकि पुलिस का ये भी कहना है कि ग्रामीणों को क़ानून यूं हाथ में लेने से बचना चाहिए.


लल्लनटॉप वीडियो : बालाघाट वो इलाका जिसे सरकार सबसे ज्यादा नक्सल प्रभावित मानती है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

कोरोना इफेक्ट: टाटा ग्रुप के इतिहास में पहली बार सैलरी को लेकर ऐसा होने जा रहा है!

छोटी कंपनियों के बाद बड़ी कंपनियां भी चपेट में हैं.

रेल मंत्री ने रात के दो बजे तक महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे को ताबड़तोड़ 12 ट्वीट क्यों किए?

इतने ट्वीट के बाद भी सीएम या महाराष्ट्र सरकार की ओर से जवाब नहीं मिला.

क्रिकेट मैच खेलने दिल्ली से सोनीपत पहुंचे मनोज तिवारी ये क्या कर बैठे?

और तो और सोशल मीडिया पर क्रिकेट खेलने का वीडियो भी अपलोड किया.

गेंद को थूक लगाकर चमकाने पर रोक, क्या बोले टीम इंडिया के बॉलिंग कोच?

भारतीय क्रिकेट टीम के बॉलिंग कोच भरत अरुण ने किस बात पर चिंता जताई है?

एयर इंडिया की फ्लाइट्स में मिडिल सीट की बुकिंग को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला दिया है

ईद की छुट्टी के बावजूद वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चीफ जस्टिस एसएस बोबडे की बेंच ने की सुनवाई.

तबलीगी जमात पर बीजेपी नेता के सवाल को लेकर स्वास्थ्य मंत्री ने कायदे की बात कही है

लॉकडाउन पर कहा-इसने एक तरह से प्रभावी सामाजिक वैक्सीन की तरह काम किया.

राजगढ़ SHO सुसाइड के बाद पूरे थाने ने मांगा ट्रांसफर, केस में आया कांग्रेस विधायक पूनिया का नाम

राजगढ़ थानाप्रभारी विष्णुदत्त विश्नोई का शव 23 मई को मिला था.

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने पीएम मोदी के लॉकडाउन के फैसले पर ये क्या बोल दिया?

ठाकरे ने पैकेज को लेकर भी केंद्र पर निशाना साधा है.

एक दिन पहले आई घरेलू उड़ानों के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय की नई गाइडलाइंस में क्या है?

25 मई से घरेलू उड़ानें शुरू हो रही हैं.

कटहल सिर पर गिरने से चोट आई, अस्पताल पहुंचा तो पता चला कोरोना पॉजिटिव है

मामला केरल के कासरगोड का है.