Submit your post

Follow Us

बीटिंग रिट्रीट समारोह में नहीं बजेगी महात्मा गांधी की पसंदीदा धुन

26 जनवरी (26 January) या गणतंत्र दिवस. ये देश के उन त्योहारों में से एक है जिसमें लोगों के अंदर देशभक्ति जगाने की जरूरत नहीं पड़ती. आमतौर पर देर से उठने वाले भी सुबह 7 बजे से दूरदर्शन पर परेड देखने बैठ जाते हैं. गणतंत्र दिवस एक दिन का उत्सव नहीं है. देश में ये उत्सव पूरे सप्ताह मनाया जाता है. और 29 जनवरी को बीटिंग रिट्रीट के साथ खत्म होता है. लेकिन इस बार बीटिंग रिट्रीट थोड़ा अलग होगा. क्योंकि इस बार बीटिंग रिट्रीट में गांधी जी की मनपसंद धुन ‘अबाइड विद मी’ नहीं बजाई जाएगी.

क्या है पूरा मामला?

‘अबाइड विद मी’ इंग्लिश कवि हेनरी फ्रांसिस लाइट का लिखा हुआ एक भजन है. कहा जाता है कि ये भजन महात्मा गांधी को काफी पसंद था. साल 1950 से गणतंत्र दिवस की बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी में एक इस भजन की धुन बजाई जाती रही है. बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी 29 जनवरी को होती है और 30 जनवरी को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या हुई थी. लेकिन इस बार ये धुन नहीं बजाई जाएगी. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी में बजाई जाने वाली धुनों की लिस्ट में 26 धुन शामिल हैं, लेकिन इस लिस्ट में ‘अबाइड विद मी’ का नाम नहीं है.

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्ति.
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्ति.

ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है. साल 2020 में भी इस सेरेमनी में ‘अबाइड विद मी’ की धुन नहीं बजाई गई थी. हालांकि, इस बात पर सवाल उठे तो पिछले साल यानी 2021 में इस धुन को दोबारा लिस्ट में शामिल किया गया. इस बार अभी तक इस धुन को हटाने पर कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं आई है.

इस बार बजेंगी ये धुनें

इस बार की बीटिंग रिट्रीट सेरमनी की शुरुआत बिगुल पर फैनफेयर गीत के साथ होगी. इसके बाद समारोह में मास बैंड वीर सैनिक गीत और पाइप्स एंड ड्रम्स बैंड 6 धुन बजाएंगे. केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल के बैंड तीन धुन बजाएंगे. इसके बाद एयरफोर्स का बैंड 4 धुन प्ले करेगा. वहीं इस बार फ्लाइट लेफ्टिनेंट एल एस रूपाचंद्रन की तरफ से खास लड़ाकू धुन की भी प्रस्तुति शामिल होगी.

एयरफोर्स के बाद नेवी का बैंड 4 धुनें बजाएगा. फिर आर्मी मिलिट्री बैंड- ‘केरल’, ‘सिकी ए मोल’ और ‘हिंद की सेना’ नाम की 3 धुनें बजाएगा. मास बैंड 3 और ‘कदम-कदम बढ़ाए जा’, ड्रमर्स कॉल और ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ की धुनों की प्रस्तुति दी जाएगी. ‘सारे जहां से अच्छा’ धुन के साथ समारोह का समापन होगा. पूरे समारोह में 44 ब्यूगलर्स (बिगुल बजाने वाले), 16 ट्रंपेट प्लेयर्स और 75 ड्रमर्स शामिल होंगे.


वीडियो: 26 जनवरी 1950 को ही क्यों लागू हुआ भारतीय संविधान

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

हंसी होगी, संगीत होगा और होंगे सौरभ द्विवेदी!

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

कार्रवाई पर संजय राउत भड़क गए हैं.

यूपी सरकार के लिए गोरखनाथ मंदिर हमला 'आतंकी घटना', हमलावर के पिता ने क्या बताया?

यूपी सरकार के लिए गोरखनाथ मंदिर हमला 'आतंकी घटना', हमलावर के पिता ने क्या बताया?

यूपी सरकार ने आरोपी के खिलाफ तगड़ी जांच के आदेश दे दिए हैं.

1 अप्रैल से E-Invoicing अनिवार्य, फर्जी बिल बनाने वालों की नींद उड़ी

1 अप्रैल से E-Invoicing अनिवार्य, फर्जी बिल बनाने वालों की नींद उड़ी

20 करोड़ सालाना बिक्री पर ई-इनवॉइसिंग जरूरी, टैक्स चोरी थमेगी.

रुचि सोया के FPO के 'चमत्कार' को नमस्कार करने के बजाय SEBI ने क्यों दिखाई सख्ती?

रुचि सोया के FPO के 'चमत्कार' को नमस्कार करने के बजाय SEBI ने क्यों दिखाई सख्ती?

वजह पतंजलि समूह का एक कथित संदेश बताया गया है?

योगी सरकार 2.0 में राज्यमंत्री बने नेताओं के बारे में ये बातें जानते हैं आप?

योगी सरकार 2.0 में राज्यमंत्री बने नेताओं के बारे में ये बातें जानते हैं आप?

कई पुराने तो कुछ नए चेहरों को मंत्रीमंडल में जगह मिली है.

योगी आदित्यनाथ ने ली CM पद की शपथ, जानें कौन-कौन बना मंत्री

योगी आदित्यनाथ ने ली CM पद की शपथ, जानें कौन-कौन बना मंत्री

योगी आदित्यनाथ के साथ 52 मंत्रियों ने भी ली शपथ

बीरभूम हिंसा पर सीएम ममता बनर्जी ने क्या कहकर अपनी ही पुलिस पर निशाना साधा?

बीरभूम हिंसा पर सीएम ममता बनर्जी ने क्या कहकर अपनी ही पुलिस पर निशाना साधा?

ममता बनर्जी ने घटना के पीछे साजिश होने की आशंका भी जताई.

बिहार विधानसभा में शून्य हुई VIP, तीनों विधायक बीजेपी में शामिल

बिहार विधानसभा में शून्य हुई VIP, तीनों विधायक बीजेपी में शामिल

बोचहां विधानसभा उपचुनाव और एमएलसी इलेक्शन से पहले मुकेश सहनी को तगड़ा झटका.

यूनिवर्सिटी बनी ही नहीं, राजस्थान सरकार ने बिल पेश कर दिया, फिर हुई मिट्टी पलीद!

यूनिवर्सिटी बनी ही नहीं, राजस्थान सरकार ने बिल पेश कर दिया, फिर हुई मिट्टी पलीद!

सरकार को बिल वापस लेना पड़ा, बीजेपी बोली- पूरे कुएं में भांग है.