Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

750 किलो प्याज की कमाई किसान ने पीएम को भेजी, ये गर्व की नहीं शर्म की बात है

19.61 K
शेयर्स

कुछ दिन पहले दिल्ली में किसान थे. उसके पहले मुंबई में किसान थे. दिल्ली मुंबई किसानों की जगहें नहीं हैं. उनको अपने खेतों में होना चाहिए, जो गांव में होते हैं. लेकिन उनको पैदल चलकर शहर आना पड़ा. सरकार के कान पर जूं रेंगवाने. अपनी मांग पर ध्यान दिलाने. तमाम पेट भरे लोगों ने उनको ही निशाना बनाया और कहा कि वो राजनीति से प्रेरित हैं. इतना कम रेट कहां मिलता है? लेकिन महाराष्ट्र के एक किसान ने अपने एक रुपए प्रति किलो की प्याज की कमाई गुस्से में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मनी ऑर्डर कर दी है.

महाराष्ट्र में नासिक जिला है, निफाड तहसील है और इस तहसील में रहते हैं संजय साठे. संजय ‘आधुनिक किसान’ की गिनती में आते हैं. 2010 में इनको कृषि मंत्रालय द्वारा बराक ओबामा से मिलने के लिए चुना गया था. बराक उस वक्त अमेरिका के राष्ट्रपति थे, भारत के दौरे पर आए थे. हमने अपनी खेती की शान दिखाने के लिए उनके सामने संजय साठे को पेश किया था.

अब संजय का जो हाल है वो उन्होंने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया. कहा कि “मैंने 750 किलो प्याज उगाई इस सीजन में. पिछले हफ्ते मंडी पहुंचा तो एक रुपया प्रति किलो का रेट लगा. बहुत घिस-घिसाकर, मिन्नतें करके 1.40 रुपए प्रति किलो तक लाया. पूरा साढ़े सात क्विंटल प्याज 1064 रुपए में बेचना पड़ा. ”

भयंकर निराशा में डूबे संजय आगे बताते हैं कि “चार महीने की कड़ी मेहनत का ये फल मिलता देख बहुत तकलीफ हुई. ” इसके बाद संजय ने पीएम मोदी तक अपना गुस्सा पहुंचाने के लिए वो 1064 रुपए डिजास्टर रिलीफ फंड को भेज दिए. 54 रुपए अपनी जेब से लगाए, पोस्ट ऑफिस से मनी ऑर्डर के लिए. निफाड के डाकघर से 29 नवंबर को ये भारी रकम प्रधानमंत्री को भेज दी गई. संजय कहते हैं कि उनको किसी पॉलिटिकल पार्टी से कोई मतलब नहीं है लेकिन सरकार जो किसानों की तरफ से कान में उंगली डाले बैठी है उससे प्रॉब्लम है.

हर साल किसान अपना प्याज, टमाटर, दूध सड़कों पर फेंकते हैं. सूरत नहीं बदल रही.
हर साल किसान अपना प्याज, टमाटर, दूध सड़कों पर फेंकते हैं. सूरत नहीं बदल रही.

ओबामा से कैसे मिले थे

संजय बताते हैं कि वो किसानों के लिए चलने वाली एक सर्विस लंबे समय से सुनते आ रहे हैं. जिसको एक टेलिकॉम कंपनी चलाती है. मौसम वगैरह की सटीक जानकारी उसमें रहती थी जिसकी वजह से उनको फसल बढ़ाने में फायदा मिला. इसी के चलते लोकल रेडियो स्टेशन्स पर बोलने बुलाया जाता था. आठ साल पहले जब ओबामा आए तो मुंबई के सेंट जैवियर कॉलेज में इनका स्टॉल लगा और एंटरप्रेटर के जरिए ओबामा ने बात भी की.

नासिक देश का 50 फीसदी प्याज उगाता है. हर साल इस सीजन में वहां से किसानों के प्याज फेंकने की खबरें आती हैं. महाराष्ट्र किसानों की आत्महत्या में नंबर एक स्टेट है. पूरे देश के किसानों का यही हाल है. आप उनको ट्रोल कर सकते हैं. उनकी समस्याओं पर गलबजी करते हुए नजरअंदाज कर सकते हैं. लेकिन आने वाले खतरे से बच नहीं सकते.


देखें वीडियो, किसानों की समस्याओं और उनके निदान पर:

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Maharashtra farmer Sanjay Sathe gets Rs 1,064 for 750 kg of onion, sends money to PM Naraendra Modi

क्या चल रहा है?

बर्थडे के दिन शहीद हुआ मिराज फाइटर पायलट, किस्मत थोड़ा साथ देती तो बच जाता!

बेंगलुरु में मिराज 2000 फाइटर जेट हुआ क्रैश, दोनों पायलटों शहीद.

वित्तमंत्री पीयूष गोयल का बजट के दौरान 3 करोड़ का झूठ!

जानिए 3 करोड़ इनकम टैक्स पेयर्स को फायदा पहुंचाने का वित्तमंत्री का दावा कितना सच्चा.

बजट : मिडिल क्लास वाले मकान पर मिल रही इन छूटों को देख खुश हो जाएंगे

टैक्स स्लैब बढ़ने की खुशी में आपने ये ऐलान तो मिस नहीं किया.

पर्रिकर की नाक में नली क्यों लगी रहती है?

फिलहाल पर्रिकर एम्स दिल्ली में हैं. उनकी तस्वीरें अक्सर वायरल होती हैं.

बजट के सबसे बड़े एलान में एक झोल है

5 लाख से ज्यादा कमाने वालों को नहीं मिलेगा टैक्स छूट का फायदा!

श्रमयोगी मानधन योजना के 8 पॉइंट्स: 55 रुपया महीना जमा करने पर 3,000 रुपए की पेंशन

लेकिन हर एक के लिए नहीं है ये योजना, जानिए कौन-कौन इस स्कीम के दायरे में आएंगे

बजट 2019 का बड़ा ऐलान, डबल हुई इनकम टैक्स में छूट की सीमा

सरकार ने स्टैंडर्ड डिडक्शन को भी बढ़ा दिया है.

क्या मोदी सरकार यह कदम कश्मीरी विस्थापितों का भरोसा जीत पाएगा?

30 साल बाद भी कश्मीरी पंडितों के लिए नहीं खुल रही है घर लौटने की राह

पीयूष गोयल के आस-पास बैठे नेताओं को पहचानते हैं आप?

जानते हैं तो राजनीति के पक्के जानकार हैं, नहीं जानते हैं फिर सही जगह आए हैं..

बजट 2019: किसानों के खाते में सीधे पहुंचेंगे 6000 रुपए

क्या है प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना