Submit your post

Follow Us

हत्या से पहले कौन लखबीर सिंह को गांव से सिंघु बॉर्डर लाया था? गांव के लोगों ने बड़ी जानकारी दी

सिंघु बॉर्डर पर लखबीर सिंह नाम के व्यक्ति की निर्मम हत्या के मामले में नई जानकारियां सामने आई हैं. अलग-अलग मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि इस हत्या का मुख्य आरोपी सरबजीत सिंह कई बार लखबीर सिंह के गांव में देखा गया है. इससे इस आरोप को बल मिलता है कि लखबीर सिंह अपनी मर्जी से सिंघु बॉर्डर नहीं आए थे, बल्कि उन्हें लाया गया था. उनके परिवार और गांव के लोगों ने तो ये दावा भी किया है कि सिंघु बॉर्डर आने के लिए लखबीर को पैसों का लालच दिया गया था. इसके अलावा लखबीर के परिवार के बारे में भी पता चला है, जो इस वक्त बहुत बुरी स्थिति से गुजर रहा है.

गांव में सरबजीत का आना-जाना था

अंग्रेज़ी मैगज़ीन दी कारवां में छपी एक रिपोर्ट इस हत्याकांड में सरबजीत सिंह की भूमिका के और पन्ने खोलती है. पत्रिका के मुताबिक सरबजीत को कुछ समय पहले लखबीर सिंह के गांव में देखा गया था. गांव के कम से कम 2 लोगों ने उसे देखने का दावा किया है. उन्होंने कारवां को बताया कि 2-3 महीने पहले उन्होंने लखबीर सिंह के गांव चीमा कलां में सरबजीत को देखा था. वहीं 12 अक्टूबर को यानी हत्या से 3 दिन पहले लखबीर सिंह को एक ‘बोलेरो कैंपर’ गाड़ी में 2 निहंग सिखों के साथ देखा गया था. पत्रिका की रिपोर्ट के मुताबिक आरोपी सरबजीत बोलेरो कैंपर गाड़ी में ही एक से ज्यादा बार चीमा कलां गांव में देखा गया है.

दी कारवां के अलावा अंग्रेज़ी अख़बार दी इंडियन एक्सप्रेस ने पंजाब पुलिस के एक बड़े अधिकारी के हवाले से बताया है कि सरबजीत सिंह ही लखबीर को सिंघु बॉर्डर पर लेकर गया था. इस अधिकारी के मुताबिक सरबजीत ने पूछताछ में खुद ये जानकारी दी है.

13 अक्टूबर को आख़िरी बार गांव में दिखा था लखबीर

दी कारवां ने गांव के रहने वाले एक प्राइवेट बैंक के कर्मचारी के हवाले से बताया है कि 13 अक्टूबर की सुबह पीड़ित लखबीर सिंह आख़िरी बार दिखे थे. वहीं कुछ गांव वालों ने 12 अक्टूबर की घटना का ज़िक्र भी किया. उस दिन लखबीर पास की अनाज मंडी में काम की तलाश में गए थे. लेकिन किसी ने उन्हें काम नहीं दिया, क्योंकि वो कथित तौर पर नशे के आदी थे. पत्रिका का कहना है कि तभी लखबीर सिंह को दो निहंग सिख अपनी बाइक में बिठाकर ले गए. कुछ देर के बाद उन्हें स्थानीय गौशाला में मवेशियों को खाना देते हुए देखा गया था.

कई भाषाएं जानता था सरबजीत

गांव के एक व्यक्ति ने दी कारवां को बताया कि वहां बस स्टैंड के पास बनाए जा रहे लंगर हॉल के आसपास सरबजीत को कई बार देखा जा चुका है. वो गांव की सीमा के नजदीक बने एक हैंडपंप पर नहाते हुए भी दिख चुका है. रिपोर्ट के मुताबिक़ कुछ गांव वालों ने यहां तक दावा किया कि सरबजीत को पंजाबी के अलावा गुजराती, मराठी और कुछ दूसरी भाषाएं भी आती हैं.

Lakhbir Singh
लखबीर सिंह के पिता और बहन.

दुबई में काम कर चुका है सरबजीत

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि सरबजीत 5-6 साल की उम्र से ही गुरदासपुर के खुजाला गांव में अपने मामा के साथ रहने लगा था. वो 10वीं पास करने के बाद दुबई चला गया था. वहां 4-5 साल रहा. लौटने के बाद सरबजीत ने 2007 में शादी की. क़रीब 10 साल बाद 2017 में उसका तलाक हो गया. इसके बाद 2017 में ही सरबजीत महाराष्ट्र के नांदेड़ स्थित हजूर साहिब गुरुद्वारा चला गया. वहां उसने दीक्षा ली और निहंग (सिख योद्धा) बन गया.

सरबजीत ने काटे हाथ-पांव?

लखबीर के मर्डर के लिए 4 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है. इनमें नारायण सिंह नाम का आरोपी भी शामिल है. ग्रामीण अमृतसर के एसपी राकेश कौशल ने दी कारवां को बताया कि नारायण सिंह 15 अक्टूबर की सुबह सिंघु पहुंचा था. वहां वो पहली बार सरबजीत से मिला था. रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस की पूछताछ के दौरान नारायण ने बताया कि जैसे ही वो वहां पहुंचा उसने सरबजीत ने कहा,

“बेअदबी कर दित्ती, गुरु साहिब बेअदबी होउ गई, अंग वड़ ते, वद्दो एह्नु.”

मतलब, बेअदबी हुई है, गुरु साहिब का अपमान किया गया है, टुकड़े-टुकड़े कर दो इसके.

एसपी राकेश कौशल के मुताबिक नारायण के ये बताने पर बाकी सिख निहंग भावुकता में भड़क गए और लखबीर को मारना शुरू कर दिया. पुलिस अधिकारी ने पत्रिका को बताया कि उस वक़्त लखबीर का एक हाथ और एक पांव सरबजीत ने काट दिया. कई बार तलवारों से वार किया.

हालांकि हत्या की पूरी जिम्मेदारी नारायण सिंह ने ली है. रिपोर्ट के मुताबिक उसने पुलिस से कहा है कि वो भावनाओं में बह गया और बिना सोचे समझे ये सब कुछ किया.

Raj Kaur Lakhbir
लखबीर की बहन राज कौर.

बुरी हालत में परिवार

उधर पीड़ित लखबीर सिंह के परिवर की स्थिति बहुत खराब बताई जा रही है. दी लल्लनटॉप ने लखबीर के परिवार हालात जानने के लिए कुछ स्थानीय लोगों से बात की. नाम ना छापने की शर्त पर उन्होंने बताया,

“लखबीर का परिवार वाकई बुरी स्थिति में है. वो परिवार में कमाने वाला अकेला शख़्स था. नशा करता था लेकिन जो भी थोड़ा-बहुत पैसा घर लाता था, उसी से गुज़ारा चल रहा था. लखबीर के परिवार में विक्लांग पिता, बहन और बहन की बेटी है. मकान भी बुरी स्थिति में है. लखबीर के बाद अब परिवार में कोई भी कमाने वाला नहीं बचा है. बेअदबी जैसे मामले में नाम आने की वजह से राजनीतिक पार्टियां या धार्मिक संगठन परिवार की मदद के लिए आगे नहीं आ रहे. किसान नेता भी विवाद में पड़ना नहीं चाहते इसलिए दूरी बनाए हुए हैं. परिवार मानसिक तनाव से गुज़र रहा है. और जांच एजेंसियों की लगातार निगरानी उन्हें बेचैन कर रही है.”

इस सबके बीच गांव के लोगों ने ये आरोप भी लगाया है कि उन्हें डराया-धमकाया जा रहा है. दी कारवां की रिपोर्ट में गांव के एक पूर्व सरपंच सोनू चीमा ने ये दावा किया है. उनका कहना है कि कुछ राजनीतिक लोग और अधिकारी गांव वालों पर चुप रहने का दबाव बना रहे हैं. चीमा ने पत्रिका से कहा है, “ग्रामीण तब सच बताएंगे, जब उन्हें सुरक्षा और न्याय का आश्वासन दिया जाएगा.”


वीडियो- लखबीर सिंह की हत्या के पहले का ये वीडियो किसी नए षडयंत्र की तरफ इशारा कर रहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?