Submit your post

Follow Us

कुलभूषण की फांसी पर रोक लगी, लेकिन भारत की कई बातें नहीं मानी गईं

472
शेयर्स

पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव पर अंतरराष्ट्रीय अदालत (ICJ) का फैसला आ गया है. फैसले के मुताबिक कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगा दी गई है. नीदरलैंड्स के द हेग के पीस पैलस में 16 जजों की मामले की सुनवाई के बाद ‘प्रेजिडेंट ऑफ द कोर्ट’ जस्टिस अब्दुलकावी अहमद यूसुफ ने फांसी रोकने का आदेश दिया है. 15-1 से आए इस फैसले में कोर्ट ने कहा है कि पाकिस्तान अपने फैसले पर फिर से विचार करे. कोर्ट ने ये भी कहा है कि कुलभूषण जाधव को वकील दिया जाए, ताकि वो अपनी बात रख सके.

क्या कहा इंटरनेशनल कोर्ट ने?

कुलभूषण जाधव की फांसी रोकने का फैसला 15-1 से आया है. कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है-

# फांसी पर फिलहाल रोक लगे.

# कुलभूषण को काउंसलर की इज़ाजत दी जाए.

# मामले पर नए सिरे से सुनवाई होगी.

# कोर्ट ने कहा कि पाकिस्तान ने वियना कन्वेंशन का उल्लंघन किया है.

# कोर्ट ने कहा है कि कुलभूषण जाधव के मामले की सुनवाई का अधिकार इस कोर्ट के पास है.

# कोर्ट ने भारत की उस दलील को नहीं माना है, जिसमें भारत ने कुलभूषण जाधव को रिहा करने की मांग की थी.

क्या है मामला?

कुलभूषण पनवेल के रहने वाले हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उनका पासपोर्ट ठाणे पासपोर्ट ऑफिस से बना है और उस पर नाम हुसैन मुबारक पटेल ही लिखा है. कुलभूषण के पिता सुधीर जाधव मुंबई पुलिस में एडिश्नल कमिश्नर रहे हैं. जाधव भारत के पूर्व नौसैनिक हैं. बिजनेस के सिलसिले में उनका ईरान आना-जाना लगा रहता था. पाकिस्तान के दावे के मुताबिक जाधव के पास हुसैन मुबारक पटेल के नाम का भी एक पासपोर्ट था. रिपोर्ट्स के मुताबिक ईरान में कुछ पाकिस्तानी अधिकारियों ने उन्हें अपने परिवार के साथ मराठी में बात करते सुना था, जिसके बाद जाधव को ट्रेस किया जाने लगा और फिर अरेस्ट कर लिया गया. पाकिस्तान का दावा है कि जाधव को 3 मार्च, 2016 को बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया गया था. 22 दिन बाद 25 मार्च, 2016 को पाकिस्तान के विदेश सचिव ने इस्लामाबाद स्थित भारत के उच्चायुक्त को इसकी जानकारी दी थी.

मिलिट्री कोर्ट ने सुनाई थी फांसी की सजा

गिरफ्तारी के बाद कुलभूषण जाधव पर पाकिस्तानी की मिलिट्री कोर्ट में मुकदमा चला था. अप्रैल, 2017 में पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट ने जाधव को फील्ड जनरल कोर्ट मार्शल के तहत फांसी की सजा सुनाई थी. विएना संधि के तहत भारत ने 8 मई, 2017 को पाकिस्तान के इस फैसले के खिलाफ नीदरलैंड्स के द हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) में अपील की थी. भारत की ओर से हरीश साल्वे और पाकिस्तान की ओर से खवर कुरैशी ने मामले की पैरवी की थी. सुनवाई के बाद 15 मई को आईसीजे ने फैसला सुरक्षित रख लिया. 18 मई, 2017 को आईसीजे ने कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा को अंतिम फैसला आने तक रोकने का आदेश दिया. इसके बाद आईसीजे में 15 जजों की बेंच ने करीब 26 महीने तक मामले की सुनवाई की और 17 जुलाई को फैसला सुनाया.

अब क्या होगा?

अब एक बार फिर से इस मामले की सुनवाई पाकिस्तान की अदालत में होगी. कोर्ट का आदेश है कि पाकिस्तान कुलभूषण जाधव के फैसले का रिव्यू करे और कुलभूषण का काउंसलर मुहैया करवाए, ताकि जब फिर से पाकिस्तान की कोर्ट में मुकदमा चले तो कुलभूषण के पास भी बात रखने का मौका हो.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

गुजरात में पादने का कम्पटीशन हो रहा है, जानिए नियम क्या हैं

इनाम भी हैं, तरह-तरह के.

संजय दत्त ने बताया, जब पापा सुनील दत्त की शूटिंग पर डाकू उन्हें किडनैप करने आ गए!

'मुझे जीने दो' की शूटिंग के दौरान हुआ था वाकया.

ओह दुखद! 867 ओवर बाद करियर की पहली नो बॉल फेंकी और उसी पर विकेट गिरा

कौन है ये बदनसीब बॉलर?

कांग्रेस के चंदे में पांच गुना बढ़ोतरी हो गयी, किसने सबसे ज़्यादा दिया?

सोनिया-राहुल ने कितना दिया, ये भी पढ़ लो.

सारा अली खान के स्कूल के दिनों का वीडियो वायरल, देखकर पहचान नहीं पाएंगे

तारीफ़ भरे कमेंट्स की झड़ी लग गई है.

10 साल पहले हुई खुदाई में निकले 1600 साल पुराने 'प्रेमी' कंकालों से जुड़ा सच सामने आया

एक ऐसा सच जो प्रेम के बारे में आपकी सोच बदल देगा.

एक ही आदमी ने 1 मिनट में IRCTC पर 11 लाख रुपये के टिकट बुक किए, पुलिस सकते में!

एक साथ 426 टिकट बुक हुए, मतलब धांधली सॉलिड है.

कल पक्का पता चल जाएगा कि इसरो के चंद्रयान का क्या हुआ

नासा की ये मशीन खोलेगी सारे राज.

ICICI बैंक में अकाउंट है? अगर हां, तो ज़ोर का झटका बहुत ज़ोर से लगने वाला है

कैश जमा करवाना और निकालना भारी पड़ने वाला है.

360 km का सफर तय कर गोल्ड मेडल लेने पहुंची, मगर बुर्के की वजह से खाली हाथ लौटी

लड़की ने बुर्का पहना था, इसलिए मंच से लौटाया गया.