Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

जौन एलिया जो कहते थे, मुझे खुद को तबाह करने का मलाल नहीं है

2.55 K
शेयर्स

उर्दू के गुलशन में कई जादुई खुशबू वाले फूल महके. ऐसे ही एक मकबूल फूल को दुनिया ने शायर जौन एलिया के नाम से जाना. जनाब के कहे शेर आज भी ट्विटर पर ‘ट्रेंडियाने’ लगते हैं. 14 दिसंबर 1931 को जन्मे जॉन एलिया साहेब अपने बर्थडे पर ट्विटर ट्रेंड नाम की चिड़िया को अपनी शायरी से दबोचे रहे. आइए करीब से जानिए इस शायर और उसके अकेलेपन से भरे अशआरों को:

जौन साहेब यूपी के अमरोहा में पैदा हुए थे. पिता अल्लामा शफीक हसन एलिया जाने-माने विद्वान और शायर थे. पांच भाइयों में सबसे छोटे जौन एलिया ने 8 साल की उम्र में पहला शेर कहा.

इंडिया से मुहब्बत थी. लेकिन बंटवारा हमारे नसीब में लिखा जा चुका था. बंटवारे के 10 साल बाद न चाहते हुए जौन पाकिस्तान के कराची जा बसे.

एक उर्दू पत्रिका थी, इंशा. इसी को निकालने के दौरान जाहिदा हिना से मुलाकात हुई. इश्क हुआ. शादी हुई. तीन बच्चे हुए लेकिन रिश्ता ज्यादा दिन चल नहीं पाया. फिर हुआ 1984 में तलाक. खफा मिजाज के जौन गम में डूब गए. शायरी से लेकर जिंदगी तक में खुद को बर्बाद करने की बात करने लगे.

‘अपनी शायरी का जितना मुंकिर* मैं हूं, उतना मुंकिर मेरा कोई बदतरीन दुश्मन भी न होगा. कभी कभी तो मुझे अपनी शायरी. बुरी, बेतुकी, लगती है इसलिए अब तक मेरा कोई मज्मूआ शाये नहीं हुआ और जब तक खुदा ही शाये नहीं कराएगा. उस वक्त तक शाये होगा भी नहीं.’  *मुंकिर: खारिज करने वाला

‘यानी, गुमान, लेकिन, गोया’ किताबें छपीं. हाथों हाथ बिकीं. जिंदगी में खुद को नाकामयाब मानने वाले जौन 8 नवंबर 2002 को चल बसे. लेकिन उनके शेर आज भी फेसबुक, ट्विटर, किताबों और आशिकों के बीच जिंदा हैं.  पढ़िए जौन एलिया के 15 मशूहर शेर.

मैं भी बहुत अजीब हूं, इतना अजीब हूं कि बस
ख़ुद को तबाह कर लिया और मलाल भी नहीं

जो गुज़ारी न जा सकी हम से
हम ने वो ज़िंदगी गुज़ारी है

कौन इस घर की देख-भाल करे
रोज़ इक चीज़ टूट जाती है

यूं जो तकता है आसमान को तू
कोई रहता है आसमान में क्या

कितने ऐश उड़ाते होंगे कितने इतराते होंगे
जाने कैसे लोग वो होंगे जो उस को भाते होंगे

मैं भी बहुत अजीब हूं इतना अजीब हूं कि बस
ख़ुद को तबाह कर लिया और मलाल भी नहीं

मैं रहा उम्र भर जुदा ख़ुद से
याद मैं ख़ुद को उम्र भर आया

क्या बताऊं के मर नहीं पाता
जीते जी जब से मर गया हूं मैं

रोया हूं तो अपने दोस्तों में
पर तुझ से तो हंस के ही मिला हूं

हो रहा हूं मैं किस तरह बर्बाद
देखने वाले हाथ मलते हैं

ख़ूब है शौक़ का ये पहलू भी
मैं भी बर्बाद हो गया तू भी

उस गली ने ये सुन के सब्र किया
जाने वाले यहां के थे ही नहीं

अपना ख़ाका लगता हूं
एक तमाशा लगता हूं

सीना दहक रहा हो तो क्या चुप रहे कोई
क्यूं चीख़ चीख़ कर न गला छील ले कोई

ख़ूब है इश्क़ का ये पहलू भी
मैं भी बर्बाद हो गया तू भी

देखिए: जौन एलिया क्यों थे उदास?


ये स्टोरी ‘दी लल्लनटॉप’ के लिए विकास ने की थी.


वीडियो देखें:

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
know about famous pakistani shair poet jaun elia

क्या चल रहा है?

बजट से पहले वित्त मंत्री क्यों बदल दिया मोदी सरकार ने

पीयूष गोयल को दिया गया अतिरिक्त प्रभार.

नरेंद्र मोदी और अमित शाह को नींद नहीं आएगी, ये ताजा सर्वे देखने के बाद

इंडिया टुडे-कार्वी के सर्वे के मुताबिक यूपी में बड़ा उलटफेर हो सकता है इस बार आम चुनाव में.

न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ आख़िरी 2 ODI और टी-20 सीरीज़ में कोहली के बगैर खेलेगा भारत

वनडे और टी20 में नहीं खेलेंगे.

राहुल गांधी ने कहा, प्रियंका को बस 2 महीने के लिए नहीं भेज रहा यूपी

अपनी बहन प्रियंका के कांग्रेस महासचिव बनने पर अध्यक्ष राहुल गांधी ने क्या कहा...

इस कंपनी ने अपने कर्मचारियों के लिए पैसों का पहाड़ लगा दिया

चुने गए हरेक कर्मचारी को करीब 62 लाख रुपए का बोनस दिया है.

हार्दिक पंड्या मुद्दे पर पहली बार बोले करण जौहर

सारी बातें पंड्या को बचाने वाली कहीं, सिवाय एक बात के!

केदार जाधव ने अगर ये कैच पकड़ लिया होता तो न्यूज़ीलैंड 120 भी न पहुंचती!

वर्ल्ड कप से पहले ऐसी गलती घातक है.

स्टंप माइक ने पाकिस्तानी कप्तान की वो बात पकड़ ली जो उन्हें सस्पेंड करवा सकती है

अफ्रीका के बल्लेबाज के खिलाफ जो कहा वो खतरनाक है.