Submit your post

Follow Us

केरल : गर्भवती हथिनी की मौत पर कुछ भी लिखने से पहले पूरा मामला जान लीजिए

केरल में गर्भवती हथिनी की मौत के मामले में नई जानकारियां सामने आई हैं. मामले की जांच कर रहे वन अधिकारियों ने हथिनी को जानबूझकर पटाखों से भरा अनानास खिलाए जाने की बात पर शक़ जताया है. अधिकारियों का कहना है कि ये आमतौर पर जंगली इलाकों में जानवरों से बचने के लिए लगाया गया ट्रैप हो सकता है, जिसे हथिनी ने खा लिया होगा.

3 जून को मीडिया में ख़बरें आईं कि केरल में हथिनी को पटाखों से भरा अनानास खिला दिया गया. इससे गर्भवती हथिनी की मौत हो गई. इस ख़बर के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने हथिनी के लिए इंसाफ़ की बातें लिखीं. इसे साम्प्रदायिक रंग देने की भी कोशिश की गई. हालांकि, अधिकारियों का कहना है कि जंगल से लगे इलाकों में आमतौर पर लोग जानवरों से बचने के लिए ऐसे ट्रैप बिछाते हैं. इसका धर्म से कोई लेना देना नहीं है.

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि पर्यावरण मंत्रालय इस मामले की पूरी गंभीरता से जांच करा रहा है. और दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

# शुरुआती ख़बर कहां से आई?

हथिनी को लोकल लोगों ने पटाखों से भरा फल खिलाया ये नैरेशन एक फ़ॉरेस्ट अफ़सर की फ़ेसबुक पोस्ट से सामने आया. मोहन कृष्णन नाम के इस फ़ॉरेस्ट अफ़सर ने फेसबुक पर एक भावुक पोस्ट लिखी. और यहीं से पहले सोशल मीडिया और फिर उसके बाद मीडिया में ये ख़बर आई कि हथिनी को लोकल लोगों ने धोखे से पटाखों से भरा अनानास खिला दिया.

मोहन कृष्णन ने लिखा था,

वो हथिनी गांव में खाने की तलाश में आई थी. लेकिन वो वहां रहने वालों की शैतानी से अनजान थी. शायद उसने सोचा होगा कि गर्भवती होने की वजह से लोग उसपर दया करेंगे. उसने सभी पर भरोसा किया. जब उसने अनानास खाया और वो उसके मुंह में ही विस्फोट कर गया तब उसे शायद ही यक़ीन हुआ हो कि कोई ऐसा भी सोच सकता है.

लेकिन मोहन कृष्णन की पोस्ट में लिखी बातें ‘अक्षरशः’ सच नहीं थीं.

The Lallantop ने इस मामले में ख़बर सामने लाने वाले अफसर मोहन कृष्णन से बात करने की कोशिश की. उन्होंने इस मामले पर कोई बयान देने से मना कर दिया.

इस पोस्ट में ये नहीं लिखा था कि सुदूर जंगली इलाकों में रहने वाले लोग जंगली सूअरों या ख़तरनाक जानवरों से बचने के लिए इस तरीके का इस्तेमाल करते हैं. हालांकि, वन संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत ये ग़ैर-क़ानूनी है.

अधिकारियों के काफ़ी कोशिश करने के बाद भी हथिनी पानी के बाहर नहीं आई (तस्वीर फ़ेसबुक)
अधिकारियों के काफ़ी कोशिश करने के बाद भी हथिनी पानी के बाहर नहीं आई (तस्वीर फ़ेसबुक)

# सच क्या है?

इस मामले में स्थानीय संवाददाता ने बताया,

जंगल से हाथी इससे पहले भी गांव में आते रहे हैं और इधर-उधर जो भी दिख जाता है उसे खा लेते हैं. गांव के लोग जंगली जानवरों को कुछ खिलाने से भी परहेज़ करते हैं. इसलिए पुलिस इस मामले में अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ वन्य जीव  संरक्षण अधिनियम की धाराओं के तहत मुक़दमा दर्ज करके जांच कर रही है. उन लोगों को खोजा जा रहा है जिन्होंने ये ट्रैप लगाया था.

# अधिकारी क्या कह रहे हैं?

मामले में चीफ़ वाइल्ड लाइफ़ ऑफिसर सुरेंदर कुमार ने बताया,

फ़िलहाल जांच में ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं जिससे इस नतीजे पर पहुंचा जाए कि लोकल लोगों ने जानबूझ कर हथिनी को मारने के इरादे से उसे पटाखों से भरा फल खिलाया. 28 मई को ही केस रजिस्टर कर लिया गया है. हमने कुछ लोगों से इस मामले में पूछताछ भी की है. शुरुआती जांच में ऐसा लग रहा है कि पटाखों वाला फल जंगली सूअरों के लिए बिछाया गया ट्रैप था, जिसमें हथिनी दुर्भाग्यवश फंस गई.

अधिकारी ये भी कह रहे हैं कि हाथी आमतौर पर एक दिन में कई किलोमीटर का सफ़र कर लेते हैं इसलिए ये पता करना बहुत मुश्किल है कि हथिनी के साथ ये दुर्घटना कहां हुई होगी. चीफ़ वाइल्ड लाइफ ऑफिसर ने ये जानकारी भी दी कि हथिनी मलप्पुरम में नहीं बल्कि पलक्कड़ ज़िले में पाई गई थी. शुरुआत में आई ख़बरों में ज़्यादातर मलप्पुरम का ही ज़िक्र किया गया था.

केरल के साइलेंट वैली नेशनल पार्क (SVNP) के स्टाफ़ ने ही सबसे पहले हथिनी को ट्रेस किया था. 23 मई के दिन हथिनी बेहद कमज़ोर हालत में स्टाफ़ को पहली बार दिखाई दी थी. रैपिड बचाव दल के तौर पर काम कर रहे मोहन कृष्णन ने 30 मई को हथिनी के मरने के बाद फ़ेसबुक पोस्ट डाली. इस पोस्ट के सामने आने के बाद अनानास में पटाखे खिलाने वाली बात ख़बर बनी.

हालांकि जिस डॉक्टर ने इस हथिनी का पोस्टमार्टम किया उन्होंने कहा,

पटाखे मुंह में फटने की वजह से हथिनी के जबड़े बुरी तरह घायल थे. इस वजह से हथिनी कई दिनों से कुछ भी खा या पी नहीं पा रही थी. जिस फल के खाने से ऐसा हुआ वो अनानास ही था ये कहा नहीं जा सकता.

फ़िलहाल मामले की जांच जारी है. जांच पूरी होने के बाद ही ये तय होगा कि गर्भवती हथिनी ने पटाखों से भरा फल कहां से और कब खाया?


ये वीडियो भी देखें:

लोग इस ऐप की मदद से अपने फोन से चाइनीज़ ऐप हटा रहे थे, गूगल ने गेम कर दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'निसर्ग' चक्रवात क्या है और ये कितना ख़तरनाक है?

'निसर्ग' नाम का मतलब भी बता रहे हैं.

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.