Submit your post

Follow Us

भाई के घर में मिली सरकारी एम्बेसडर, विकास दुबे करता था इस्तेमाल!

कानपुर में आठ पुलिसवालों की हत्या का आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे फरार है. पुलिस उसकी तलाश में जुटी है. जगह-जगह छापे मारे जा रहे हैं, लेकिन कामयाबी नहीं मिली है. इसी बीच लखनऊ में विकास दुबे के भाई दीप प्रकाश के घर से दो एम्बेसडर कार बरामद हुई है. इनमें से एक एम्बेसडर कार सरकारी है. इसका नंबर UP32 BG 0156 है.

जानकारी के अनुसार, 4 जुलाई को पुलिस ने लखनऊ में विकास दुबे के भाई के  घर पर छापा मारा. यहां पर यह सरकारी एम्बेसडर कार दिखाई दी. इसके बारे में घरवालों से पूछताछ की गई. लेकिन उनके पास इस गाड़ी के कागज नहीं मिले. ऐसे में पुलिस ने बाकी गाड़ियों के साथ सरकारी एम्बेसडर को भी सीज कर लिया. साथ इसकी जांच शुरू कर दी.

2014 में नीलामी में खरीदी थी सरकारी एम्बेसडर

इंडिया टुडे के पत्रकार कुमार अभिषेक की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस जांच में पता चला कि UP32 BG 0156 नंबर वाली गाड़ी उत्तर प्रदेश सरकार ने साल 2004 में खरीदी थी. यह गाड़ी राज्यपाल के प्रधान सचिव के नाम पर है. 10 साल तक सरकारी उपयोग के बाद साल 2014 में इसकी नीलामी की गई. नीलामी में दीप प्रकाश ने यह सरकारी एम्बेसडर खरीदी थी. लेकिन उसने इसे अपने नाम पर ट्रांसफर नहीं कराया था. साथ ही सात साल से गाड़ी का फिटनेस सर्टिफिकेट भी नहीं बनवाया गया. उसने गाड़ी की जानकारी छुपाई.

सरकारी एम्बेसडर से जताता था रसूख

कुमार अभिषेक ने पुलिस के हवाले से बताया कि इस एम्बेसडर कार से विकास दुबे नेताओं और सरकारी अफसरों से मिलने जाता था. इसके जरिए वह अपना रसूख दिखाता था. वह यह मैसेज देता था कि उसे सरकार ने गाड़ी दे रखी है.

विकास का भाई दीप प्रकाश भी फरार

वहीं पुलिस पर हमले के बाद से विकास का भाई दीप प्रकाश भी फरार है. जानकारी के अनुसार, वह 4 जुलाई की सुबह फरार हुआ. पुलिस उसकी भी तलाश कर रही है. उसके किसी आश्रम से जुड़े होने की खबरें हैं. विकास की मां सरला देवी ने भी इस बारे में पुष्टि की है. इसके बाद से पुलिस आश्रम के बारे में जानकारी जुटा रही है.

गांव में विकास के घर को तोड़ा

इससे पहले विकास दुबे के बिकरू गांव वाले मकान को जेसीबी से गिरा दिया गया था. घर गिराने के लिए विकास दुबे की उसी जेसीबी का इस्तेमाल किया गया है, जिसके जरिए पुलिस टीम को घेरा गया था. पुलिस ने जांच के दौरान यह कार्रवाई की. घर के साथ ही वहां मौजूद गाड़ियों और ट्रैक्टर को भी तोड़ डाला गया. बताया जाता है कि विकास दुबे ने अवैध तरीके से यह घर बना रखा था. पुलिस पर हमला इसी घर के बाहर हुआ था.


Video: कानपुर में उस रात क्या-क्या हुआ था, विकास दुबे की मामी ने पूरी कहानी बताई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?

भारत-चीन के तनाव के बीच पीएम मोदी ने लद्दाख़ पहुंचकर किससे बात की?

पहले राजनाथ सिंह जाने वाले थे, नहीं गए.

मलेरिया वाली जिस दवा को कोरोना में जान बचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे, वो उल्टा काम कर रही है?

हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन पर चौंकाने वाली रिसर्च!

इस साल के आख़िर तक मिलने लगेगी कोरोना की 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन!

भारत बायोटेक के अधिकारी ने क्या बताया?

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.

भारत सरकार के चाइनीज़ ऐप बंद करने के स्टेप पर TikTok ने चिट्ठी में क्या लिखा?

अपने यूज़र्स के बारे में भी कुछ कहा है.