Submit your post

Follow Us

इंडिया में 5G नेटवर्क ट्रायल शुरू हुए तो जूही चावला कोर्ट क्यों पहुंच गईं?

इंडिया में 5G नेटवर्क का ट्रायल जल्द शुरू होने को है. साथ ही लेटेस्ट न्यूज़ ये है कि एक्ट्रेस जूही चावला इंडिया में 5G ट्रायल को रुकवाने के लिए अदालत पहुंच गईं हैं. जूही ने अदालत में अर्जी डाली है कि भारत में टेलिकॉम कम्पनीज़ को 5G ट्रायल करने से रोका जाए. क्यों चाहती हैं जूही ये ट्रायल रुकवाना, क्या है पूरा मामला आइये समझते हैं.

#5G

लंबे वक़्त से टेलिकॉम कंपनियां सरकार से भारत में 5G ट्रायल की मांग कर रहीं थीं. इस मांग को मई की शुरुआत में सरकार ने मान लिया और आखिरकार ट्रायल की मंज़ूरी दे दी. सरकार ने टेलिकॉम कंपनियों को आदेश दिए कि वो 5G ट्रायल सिर्फ बड़े शहरों तक सीमित ना रखें. बल्कि गांव, कस्बों, छोटे शहरों के इलाकों में भी इसका ट्रायल किया जाए. इस काम के लिए सरकार ने कंपनियों को 6 महीने का वक़्त दिया है.

इंडिया में एयरटेल, जियो, वोडाफ़ोन, आईडिया, एमटीएनएल जैसी कंपनियां इस ट्रायल का हिस्सा हैं. इन कंपनियों का 5G उपकरणों के लिए एरिक्सन, नोकिया, सैमसंग और सीडॉट जैसी कंपनियों के साथ टाई-अप है. हालांकि चाइना से खराब रिश्तों के चलते इस ट्रायल में किसी भी चाइनीज़ कंपनी को शामिल नहीं किया गया है.

स्पीड की बात करें तो 5G इंटरनेट 4G इंटरनेट से लगभग सौ गुना तेज़ होता है. जिसका मतलब है 5G आने के बाद ऑटोनॉमस व्हिकल्स, वर्चुअल रिएलटी और इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स जैसी चीज़ें भी धीरे-धीरे कॉमन होती चली जाएंगी.

#जूही चावला क्यों चाहती हैं ट्रायल रोकना?

जूही चावला ने भारत में 5G ट्रायल रोकने के लिए अदालत में अर्जी डाल दी है. जिसकी 31 मई को पहली सुनवाई भी हो चुकी है. जूही का मानना है 5G का आना पर्यावरण के लिए बेहद नुकसानदेह हो सकता है. इस बारे में बात करते हुए जूही ने मीडिया से कहा,

“हम टेक्नोलॉजी के खिलाफ़ नहीं हैं. बल्कि हमें तो लेटेस्ट टेक्नोलॉजी के डिवाइस इस्तेमाल करने में मज़ा आता है. जिसमें वायरलैस कम्युनिकेशन भी शामिल है. लेकिन इन लेटेस्ट उपकरणों के इस्तेमाल के साथ ही हम लगातार इससे होने वाले खतरों को लेकर एक असमंजस में भी बने रहते हैं. जब हमनें इन उपकरणों और नेटवर्क टावर्स से निकलने वाली रेडिएशन के बारे में रिसर्च की, तब हमें कई पर्याप्त कारण मिले जो ये साबित करते हैं कि रेडिएशन लोगों के स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक है.”

जूही का कहना है 5G आने के बाद इंटरनेट स्पीड के साथ रेडिएशन भी सौ गुना बढ़ जाएगा. 24 घंटे, 12 महीने, 365 दिन हम रेडिएशन में रहेंगे. कोई भी इंसान, जानवर, पेड़ पौधे, चिड़िया, जीव, जन्तु इससे बच नहीं पाएगा. जूही के मुताबिक़ 5G प्लान से समस्त धरती के पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य को गंभीर खतरा है.

दो टाइप की रेडिएशन तरेंगें होती हैं. खतरा सिर्फ़ एक टाइप की तरंगों से है.
दो टाइप की रेडिएशन तरेंगें होती हैं. खतरा सिर्फ़ एक टाइप की तरंगों से है.

# क्या वाकई इतना ज्यादा खतरा है ?

इसका जवाब थोड़ी सी साइंस समझ कर आप को खुद मिल जाएगा. दो टाइप की रेडिएशन तरंगें होती हैं.
1-आयोनाइजिंग रेडिएशन.
2- नॉन आयोनाइजिंग रेडिएशन.

आयोनाइजिंग रेडिएशन की तीव्रता काफ़ी तेज़ होती हैं. उदाहरण के लिए अल्ट्रावॉयलेट तरंगें जैसे एक्स रे और गामा रेज़. ये तरंगें शरीर को नुकसान पहुंचा सकती हैं. शरीर की कोशिकाओं और डीएनए तक पर असर छोड़ सकती हैं. इसलिए ही कहा जाता है कि बार-बार एक्स-रे न कराएं. यहां तक कि सूरज की रोशनी में भी ज्यादा देर बैठने को मना किया जाता है.

दूसरी हैं नॉन आयोनाइजिंग रेडिएशन. इनकी तीव्रता काफी कम होती है. इन वेव्स में इतनी ताकत नहीं होती कि शरीर पर कोई रिएक्शन कर सकें. उदहारण के तौर पर रेडियो वाली मीडियम वेव, शॉर्ट वेव और एफएम वाली तरंगें. इसी तरह की तरंगों का इस्तेमाल टीवी सिग्नल, सेलफोन 4जी और 5जी तकनीक में होता है. अमेरिकन कैंसर सोसाइटी ने रेडियो वेव्स पर कई बरसों तक की गई अपनी स्टडी में पाया है कि इनका इंसानों पर कोई भी बुरा प्रभाव नहीं पड़ रहा है. इस मामले में  टेलीकम्युनिकेशन मिनिस्ट्री का भी बयान है. उनका कहना है,

“SERB (साइंस एंड इंजीनियरिंग रिसर्च बोर्ड) की रिसर्च के मुताबिक़ कहीं भी ये पुष्टि नहीं होती है कि 2G, 3G, 4G, 5G तरंगों का मानव, जानवरों, पक्षियों, पेड़-पौधों या अन्य जीव जंतुओं पर कोई असर होता है. “

इंडिया में 5G के असर के बारे में विस्तार से पढने के लिए यहां क्लिक करें .जूही चावला केस में आगे कोई भी महत्वपूर्ण अपडेट आएगी तो हम आपको फौरन सूचित कर देंगे.


ये स्टोरी दी लल्लनटॉप में इंटर्नशिप कर रहे शुभम ने लिखी है.


वीडियो: तुषार कपूर ने बॉलीवुड में 20 साल पूरे होने पर किए खुलासे, बताया करीना से क्यों रहते थे दूर?

 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

वैक्सीनेशन पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को घेरा, पूछा- वैक्सीन का एक रेट क्यों नहीं?

वैक्सीन की कमी, राज्यों के टेंडर जैसे मुद्दों पर भी सरकार से तीखे सवाल किए.

यूपी के महोबा में कूड़ा ढोने वाली गाड़ी से शव मोर्चरी में पहुंचाया

विवाद बढ़ता देख अब जांच के आदेश दिए गए.

इस जिले के DM का आदेश- वैक्सीनेशन के बिना नहीं मिलेगी सरकारी कर्मचारियों को सैलरी

कुछ सरकारी कर्मचारियों ने इस फैसले पर नाराजगी जताई.

छेड़छाड़ कर स्लॉट गायब करने की बात पर सरकार ने कहा-कोविन प्लेटफॉर्म हैक नहीं हो सकता

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों का कहना है कि ऐप के साथ छेड़छाड़ कर स्लॉट गायब किए जा रहे हैं.

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की PM केयर्स फंड से इस तरह मदद करेगी सरकार

कमाऊ सदस्यों को खोने वाले परिवारों के लिए भी योजना का ऐलान.

PM मोदी के साथ मीटिंग को लेकर विवाद पर ममता बनर्जी बोलीं- इस तरह मेरा अपमान न करें

कहा-मुझे खुद इंतजार करना पड़ा.

UP बोर्ड: 10वीं की परीक्षा नहीं होगी, 12वीं का एग्जाम जुलाई के दूसरे सप्ताह में!

शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा का ऐलान.

अलीगढ़: जहरीली शराब से अब तक 22 की मौत, NSA के तहत कार्रवाई के निर्देश

आरोपियों पर 50-50 हजार का इनाम घोषित.

राजस्थान: बीच सड़क गोली मारकर डॉक्टर दंपति की हत्या के मामले में पुलिस को क्या पता चला है?

सोशल मीडिया में वायरल है CCTV फुटेज.

वो तस्वीर जिसमें पहलवान सुशील कुमार खुद सागर को पीटते दिख रहे हैं

'स्टेडियम में मारपीट के दौरान गैंगस्टर के भाई को पेशाब पिलाने की भी कोशिश हुई थी'.