Submit your post

Follow Us

जम्मू-कश्मीर: पासपोर्ट नियमों में क्या बदलाव हुए कि सरकारी कर्मचारियों ने सिर पकड़ लिया?

एक नए सरकारी आदेश ने जम्मू-कश्मीर के सभी सरकारी कर्मचारियों की चिंता बढ़ा दी है. गुरुवार, 16 सितंबर को केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के सरकारी कर्मचारियों के लिए सर्कुलर के जरिये ये आदेश जारी किया गया. इसके मुताबिक अब जम्मू-कश्मीर के सरकारी कर्मचारियों को पासपोर्ट हासिल करने के लिए विजिलेंस क्लियरेंस लेना होगा. इसके लिए उनका वेरिफिकेशन जिन नियमों के तहत किए जाएगा, उनमें कुछ नई बातें जोड़ी गई हैं. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, इसी ने कर्मचारियों को परेशान कर दिया है.

दरअसल, अब समय-समय पर जम्मू-कश्मीर के सरकारी कर्मचारियों के कैरेक्टर और उनकी पिछली जिंदगी के बारे में एक रिपोर्ट तैयार की जाएगी. अगर इस रिपोर्ट में गंभीर कमी या खामी निकल गई तो कर्मचारी को पासपोर्ट नहीं मिलेगा और नौकरी जाने की भी नौबत आ सकती है.

किस आधार पर बनेगी कैरेक्टर रिपोर्ट?

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, नए आदेश के अनुसार जम्मू कश्मीर के सभी सरकारी कर्मचारियों को पासपोर्ट के लिए विजिलेंस क्लियरेंस हासिल करना होगा. इसके लिए उनकी कैरेक्टर और एंटीसीडेंट (यानी नौकरी से पहले की जिंदगी से जुड़ी) रिपोर्ट बेदाग होनी चाहिए.

बेदाग से मतलब?

मतलब ये रिपोर्ट कर्मचारियों को तभी मिलेगी जब वे गैरकानूनी, देश-विरोधी, असंवैधानिक या अन्य प्रकार की आपत्तिजनक गतिविधियों में शामिल नहीं पाए जाएंगे. मिसाल के लिए तोड़फोड़, जासूसी, राजद्रोह, आतंकवाद, देशद्रोह/अलगाववाद , विदेशी हस्तक्षेप, हिंसा के लिए उकसाना आदि में शामिल नहीं होना है. अगर कोई कर्मचारी इन गैरकानूनी कामों में शामिल पाया जाएगा तो उस पर कार्रवाई की जाएगी. उसे कैरेक्टर रिपोर्ट से भी वंचित किया जा सकता है. फिर पासपोर्ट मिलना तो दूर नौकरी से भी हाथ धोना पड़ सकता है.

कौन से बदलाव बने चिंता के कारण?

आदेश के तहत ‘जम्मू और कश्मीर सिविल सेवा (चरित्र और पूर्ववृत्त) निर्देश, 1997’ में हाल ही में कुछ नए नियम जोड़े गए हैं. इन नियमों को संविधान के आर्टिकल 311 (2) के खंड (क) के प्रावधानों के तहत पारित किया गया है. ये प्रशासन को सुरक्षा के आधार पर कर्मचारी के खिलाफ जांच गठित किए बिना ही उसे बर्खास्त करने की शक्ति देता है.

इन नियमों में कहा गया है,

“अगर किसी सरकारी कर्मचारी का कोई रिश्तेदार या परिवार का कोई सदस्य तोड़फोड़, जासूसी, राजद्रोह, आतंकवाद, देशद्रोह/अलगाववाद, विदेशी हस्तक्षेप, हिंसा के लिए उकसाना या किसी अन्य असंवैधानिक काम में शामिल है, और इस बात की जानकारी उस सरकारी कर्मचारी को है तो उसे तुरंत ही पुलिस को इसके बारे में बताना होगा.

यही नहीं, अगर सरकारी कर्मचारी ने इस तरह के गैरकानूनी काम और उसे करने वाले के प्रति सहानुभूति दिखाई है या पुलिस को जानकारी नहीं दी, तो उस स्थिति में उस पर आपराधिक कार्रवाई की जाएगी. ऐसे कर्मचारी की नौकरी भी जा सकती है. “

रुक सकता है प्रमोशन

इंडियन एक्सप्रेस ने बताया है कि नियमों के तहत समय-समय पर रिपोर्ट तैयार की जाएगी. प्रतिकूल, या कहें खराब रिपोर्ट वाले कर्मचारियों की सूची प्रशासनिक विभागों को भेजी जाएगी. वहां उनका सारा रिकॉर्ड रखा जाएगा. इससे क्या होगा? अगर किसी कर्मचारी का प्रमोशन होना है और उसकी कैरेक्टर रिपोर्ट में कुछ खामियां हैं तो उसका प्रमोशन उसी वक्त रोका जा सकता है.

स्क्रीनिंग कमेटी के हाथ में सारी पावर

नए नियमों में ये भी कहा गया है कि विजिलेंस क्लियरेंस के संबंध में एक केंद्रशासित प्रदेश स्तरीय स्क्रीनिंग कमेटी बनाए जाएगी. यही कमेटी तय करेगी कि गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल या इसके आरोपित सरकारी कर्मचारी पर क्या फैसला करना है. बताया गया है कि यूटी लेवल की इस स्क्रीनिंग कमेटी के हेड प्रधान गृह सचिव होंगे. इस कमेटी के हाथ में कर्मचारी को सस्पेंड और नौकरी से बर्खास्त करने की पावर भी होगी.

(आपके लिए ये स्टोरी हमारे साथी आयूष ने लिखी है.)


जम्मू-कश्मीर: एक आतंकी ने पुलिसकर्मी को बीच बाजार में गोली मारी, इलाज के दौरान मौत

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

Bull Run कांड में सेबी का फैसला, एक ही परिवार के 6 लोगों पर लगा बैन.

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

कांग्रेस की पहली लिस्ट में 50 महिला उम्मीदवार शामिल हैं

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

तस्वीर गौर से देखेंगे तो समझ आ जाएगा, हम तो बता ही देंगे.

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

बीते 24 घंटों के भीतर यूपी के दो कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है.

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने असल में क्या कहा है?

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

कोरोना के केस बढ़ने के बीच DDMA की नई गाइडलाइंस जारी.

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP की तारीफ़ का सच.

Nykaa का IPO अशनीर ग्रोवर और कोटक महिंद्रा के बीच जंग की वजह कैसे बन गया?

Nykaa का IPO अशनीर ग्रोवर और कोटक महिंद्रा के बीच जंग की वजह कैसे बन गया?

BharatPe के लीगल नोटिस और अशनीर ग्रोवर के 'गाली' वाले ऑडियो पर क्या बोला Kotak?

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi भारत में सबसे ज्यादा मोबाइल बेचने वाली चीनी कंपनी है.

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद ने कहा, "मुसलमानों से हिंदुओं को मरवाओगे क्या?"