Submit your post

Follow Us

एक बार फिर दोहराया जाएगा शाह बानो केस?

5
शेयर्स

एक सीधी-साधी, छोटे शहर की मिडिल क्लास मुसलमान औरत का पति एक दिन उसे तलाक दे देता है. ये औरत अपने 15 साल के शादीशुदा जीवन में पहले ही बहुत कुछ सह चुकी थी. और अब उसकी मर्ज़ी के बगैर उसे तलाक दे दिया जाए, ये उसे बर्दाश्त नहीं हुआ. 37 साल की शायरा कोर्ट जा पहुंची. और सिर्फ अपनी फ़रियाद लेकर नहीं. बल्कि इस मांग के साथ कि ट्रिपल तलाक का सिस्टम ख़त्म कर दिया जाए.

शायरा की शादी को 15 साल हो चुके हैं. शादी के तुरंत बाद ही उन्हें दहेज़ के लिए प्रताड़ित करना शुरू कर दिया गया. शायरा के दो बच्चे हुए. लेकिन उसके बाद भी वो प्रेगनेंट होती रही. और उसका पति बिना उसकी मर्ज़ी से उसका अबॉर्शन करवाता रहा. लेकिन अपना घर, अपने रिश्ते, और खानदान का मां बचाने के लिए उसने कभी कोई शिकायत नहीं की. जब इंडिया टुडे की संवाददाता महा सिद्दीकी ने शायरा की मां पूछा, कि उनकी बेटी ने अपनी तरफ से तलाक क्यों नहीं मांगा, मां ने कहा कि उन्हें अंदाजा ही नहीं था कि उनकी बेटी की हालत इतनी खराब है.

शायरा की मां फिरोजा बानो कहती हैं कि उन्हें डर था कि अगर शादी टूट गई तो परिवार की बदनामी होगी. “शायरा का पति हमेशा कहता कि वो तलाक़ ले लेगा. पर हम बहुत सीधे-साधे लोग हैं. अपनी बेटी की शादी को बचाए रखना चाहते थे.

शायरा बीमार थी. अपने मायके गई हुई थी जो उत्तराखंड के काशीपुर में है. उसका कहना है कि उससे झूठ कहकर उसे एक डाक भेजी गई. उसके पति ने उसे फ़ोन कर कहा कि वो प्रॉपर्टी के कागज़ भेज रहा है. और शयारा को ये डाक रिसीव करनी ही पड़ेगी. शायर ने जब लिफाफा खोला तो पाया कि उसमें तलाकनामा है. और इस तरह 15 साल की शादी कुछ मिनटों में ख़त्म हो गई.

शायरा ने सोशियोलॉजी में एमए किया है. लेकिन आज तक कभी नौकरी नहीं की. हमेशा अपने पति पर निर्भर रही. और तलाक के वक़्त उसे महज 16 हजार रूपये का मेहर दे कर टालना चाहा. जसके खिलाफ शायरा आज कोर्ट में जा पहुंची है. मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने शायरा के खिलाफ इस्लाम के नियम तोड़ने के आरोप में केस फाइल कर दिया है

इधर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) के सदस्य कमाल फारूकी का कहना है,

इस्लाम से कानून को एक केस के लिए नहीं तोड़ा जा सकता. आज तलाक़ के कानून में बदलाव मांग रहे हैं. कल कहेंगे प्रॉपर्टी के लिए बने कानून बदलो. ये बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.

शायरा का केस सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग पड़ा है. और इधर ट्रिपल तलाक के खिलाफ चल रही मुहिम में 50 हजार दस्तखत हो चुके हैं. आने वाला समय शायरा के लिए मुश्किल हो सकता है. लेकिन इसी देश में एक शाह बानो भी हुई थी जिसके लिए सुप्रीम कोर्ट के इस्लाम के कानून को नजरअंदाज कर दिया था.

पढ़िए: मुस्लिमों के ट्रिपल ‘तलाक़’ के खिलाफ उतरेगा RSS का मुस्लिम विंग

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...

CAA Protest : यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाने वालों को पुलिस ने क्यों ब्लॉक किया?

यूपी पुलिस की इस कार्रवाई का क्या मतलब है?

जिस अधिकारी पर प्रियंका गांधी ने गला दबाने का आरोप लगाया उसने क्या कहा है

भाई की मौत की खबर मिलने के बाद भी ड्यूटी पर तैनात थीं अफसर.

प्रियंका गांधी का UP पुलिस पर बड़ा आरोप, 'मुझे घेरा और मेरा गला दबाया'

लखनऊ दौरे पर हैं प्रियंका गांधी.