Submit your post

Follow Us

एक बार फिर दोहराया जाएगा शाह बानो केस?

एक सीधी-साधी, छोटे शहर की मिडिल क्लास मुसलमान औरत का पति एक दिन उसे तलाक दे देता है. ये औरत अपने 15 साल के शादीशुदा जीवन में पहले ही बहुत कुछ सह चुकी थी. और अब उसकी मर्ज़ी के बगैर उसे तलाक दे दिया जाए, ये उसे बर्दाश्त नहीं हुआ. 37 साल की शायरा कोर्ट जा पहुंची. और सिर्फ अपनी फ़रियाद लेकर नहीं. बल्कि इस मांग के साथ कि ट्रिपल तलाक का सिस्टम ख़त्म कर दिया जाए.

शायरा की शादी को 15 साल हो चुके हैं. शादी के तुरंत बाद ही उन्हें दहेज़ के लिए प्रताड़ित करना शुरू कर दिया गया. शायरा के दो बच्चे हुए. लेकिन उसके बाद भी वो प्रेगनेंट होती रही. और उसका पति बिना उसकी मर्ज़ी से उसका अबॉर्शन करवाता रहा. लेकिन अपना घर, अपने रिश्ते, और खानदान का मां बचाने के लिए उसने कभी कोई शिकायत नहीं की. जब इंडिया टुडे की संवाददाता महा सिद्दीकी ने शायरा की मां पूछा, कि उनकी बेटी ने अपनी तरफ से तलाक क्यों नहीं मांगा, मां ने कहा कि उन्हें अंदाजा ही नहीं था कि उनकी बेटी की हालत इतनी खराब है.

शायरा की मां फिरोजा बानो कहती हैं कि उन्हें डर था कि अगर शादी टूट गई तो परिवार की बदनामी होगी. “शायरा का पति हमेशा कहता कि वो तलाक़ ले लेगा. पर हम बहुत सीधे-साधे लोग हैं. अपनी बेटी की शादी को बचाए रखना चाहते थे.

शायरा बीमार थी. अपने मायके गई हुई थी जो उत्तराखंड के काशीपुर में है. उसका कहना है कि उससे झूठ कहकर उसे एक डाक भेजी गई. उसके पति ने उसे फ़ोन कर कहा कि वो प्रॉपर्टी के कागज़ भेज रहा है. और शयारा को ये डाक रिसीव करनी ही पड़ेगी. शायर ने जब लिफाफा खोला तो पाया कि उसमें तलाकनामा है. और इस तरह 15 साल की शादी कुछ मिनटों में ख़त्म हो गई.

शायरा ने सोशियोलॉजी में एमए किया है. लेकिन आज तक कभी नौकरी नहीं की. हमेशा अपने पति पर निर्भर रही. और तलाक के वक़्त उसे महज 16 हजार रूपये का मेहर दे कर टालना चाहा. जसके खिलाफ शायरा आज कोर्ट में जा पहुंची है. मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने शायरा के खिलाफ इस्लाम के नियम तोड़ने के आरोप में केस फाइल कर दिया है

इधर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) के सदस्य कमाल फारूकी का कहना है,

इस्लाम से कानून को एक केस के लिए नहीं तोड़ा जा सकता. आज तलाक़ के कानून में बदलाव मांग रहे हैं. कल कहेंगे प्रॉपर्टी के लिए बने कानून बदलो. ये बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.

शायरा का केस सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग पड़ा है. और इधर ट्रिपल तलाक के खिलाफ चल रही मुहिम में 50 हजार दस्तखत हो चुके हैं. आने वाला समय शायरा के लिए मुश्किल हो सकता है. लेकिन इसी देश में एक शाह बानो भी हुई थी जिसके लिए सुप्रीम कोर्ट के इस्लाम के कानून को नजरअंदाज कर दिया था.

पढ़िए: मुस्लिमों के ट्रिपल ‘तलाक़’ के खिलाफ उतरेगा RSS का मुस्लिम विंग

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ज्योतिरादित्य सिंधिया की दूसरी कोरोना जांच रिपोर्ट में क्या निकला?

पिछले दिनों सिंधिया और उनकी मां को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था.

WHO ने कोरोना पर राहत देने वाली बात की तो दुनियाभर के वैज्ञानिकों ने कहा, “अरी मोरी मईया!”

पलटकर WHO से ही सबूत मांग रहे हैं लोग.

ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां को हुआ कोरोना इंफेक्शन, दिल्ली के अस्पताल में भर्ती

बीते कुछ दिनों से दोनों की तबीयत खराब थी.

बिहार: अमित शाह ने वर्चुअल रैली में तेजस्वी को घेरा, कहा-लालटेन राज से एलईडी युग में आ गए

तेजस्वी यादव ने रैली पर 144 करोड़ खर्च करने का आरोप लगाया.

गर्भवती ने 13 घंटे तक आठ अस्पतालों के चक्कर लगाए, किसी ने भर्ती नहीं किया, मौत हो गई

महिला की मौत के बाद अब जिला प्रशासन जांच की बात कर रहा है.

दिल्ली के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में अब सिर्फ दिल्ली वालों का इलाज होगा

दिल्ली के बॉर्डर खोले जाने पर भी हुआ फैसला.

लद्दाख में तनाव: भारत-चीन सेना के कमांडरों की मीटिंग में क्या हुआ, विदेश मंत्रालय ने बताया

6 जून को दोनों देशों के सेना के कमांडरों की मीटिंग करीब 3 घंटे तक चली थी.

पहले से फंसी 69000 शिक्षक भर्ती में अब पता चला, रुमाल से हो रही थी नकल!

शुरू से विवादों में रही 69 हजार शिक्षक भर्ती में जुड़ा एक और विवाद

'निसर्ग' चक्रवात क्या है और ये कितना ख़तरनाक है?

'निसर्ग' नाम का मतलब भी बता रहे हैं.

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.