Submit your post

Follow Us

माही की कमिटमेंट पर कभी शक नहीं करते!

महेंद्र सिंह धोनी. कैप्टन, लीडर और लेजेंड. कमाल के क्रिकेटर हैं धोनी. और उनके फ़ैन्स के क्या ही कहने. धोनी के लिए कुछ भी करने को तैयार इन फ़ैन्स को बीते साल बहुत निराशा मिली. धोनी का बल्ला नहीं चला और टीम की हवा भी निकल गई. IPL2020 में चेन्नई की टीम प्लेऑफ से बहुत दूर रह गई. आखिरी के मैचों में रुतुराज ने कोशिश तो बहुत ही, लेकिन CSK को डूबने से नहीं बचा पाए.

और फिर धोनी ने अपने फ़ैन्स से कहा,

‘हम मजबूत वापसी करेंगे, हम इसी के लिए तो जाने जाते हैं.’

और अब, 11 अक्टूबर 2021 को धोनी का यह वादा पूरा हो चुका है. तीन बार की चैंपियन CSK अपने नौवें फाइनल में पहुंच चुकी है. पिछले कई मैचों से दिल्ली से हार रही चेन्नई ने इस मैच में कमाल का प्रदर्शन किया. किसी को भरोसा नहीं था कि कमाल के बोलिंग अटैक वाली दिल्ली को चेन्नई इतनी आसानी से हरा देगी. लेकिन ऐसा हुआ. और प्लेऑफ के अहम मुकाबले में चेन्नई ने पांच विकेट से जीत दर्ज की.

और इस जीत में थाला धोनी ने भी कमाल का कैमियो दिखाया. उन्होंने सिर्फ छह गेंदों में 18 रन कूट दिए. इसमें एक छक्का और तीन चौके शामिल रहे. और इसके साथ ही CSK ने 12 सीजंस में नौवीं बार फाइनल में एंट्री कर ली. हालांकि CSK के लिए IPL2021 के फाइनल का सफर आसान नहीं था. उन्हें सीजन की शुरुआत में ही नकार दिया गया था.

# CSK Road to Final

वजह, टीम ने अपने कोर पर भरोसा रखा और बहुत ज्यादा बदलावों के पीछे नहीं गए. उन्हें पिछले ही सीजन रुतुराज गायकवाड़ के रूप में सॉलिड इंडियन ओपनर मिल गया था. और उन्होंने रुतुराज को खुशी-खुशी शेन वॉटसन की जगह दे दी. हालांकि, इसके बावजूद उन्हें सीजन के पहले मैच में 188 बनाने के बाद भी दिल्ली के हाथों सात विकेट से हार मिली.

और फिर चेन्नई ने मुंबई में पंजाब को पीटकर दिखाया कि दिल्ली से मिली पहली चोट उन्हें पस्त नहीं कर पाई है. और फिर टीम ने लगातार पांच मैच जीत IPL टेबल के टॉप पर कब्जा कर लिया. लेकिन फिर उन्हें मुंबई से हार मिली और इस हार के साथ ही IPL2021 पर कोविड ब्रेक लग गया. और कुछ इंतजार के बाद जब इसे UAE में कराने की घोषणा हुई.

तो CSK की उम्मीदों पर फिर सवालिया निशान लगे. लोगों को लगा कि पिछली बार की तरह टीम इस बार फिर से UAE में फंस जाएगी. लेकिन अपने पहले सात में से पांच मैच जीतने वाली CSK इस बार फिसलने के मूड में नहीं थी. रुतुराज-डुप्लेसी की जोड़ी ने अपनी फॉर्म जारी रखी और सबको पछाड़ते हुए CSK प्लेऑफ में पहुंची पहली टीम बन गई.

और फिर क्वॉलिफायर में क्या हुआ ये तो ताजा ही है. देखने वाली बात होगी कि अब CSK अपनी ये फॉर्म फाइनल में भी जारी रख पाएगी या CSK फ़ैन्स को चौथी IPL ट्रॉफी के लिए और इंतजार करना होगा.


IPL 2021: केएल राहुल ने कूटा तो चेन्नई को लेकिन नींद इस टीम की उड़ गई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.