Submit your post

Follow Us

'मॉकड्रिल' में 22 मरीजों की मौत के मामले में आगरा के पारस अस्पताल को क्लीन चिट

आगरा के श्री पारस हॉस्पिटल के संचालक के कुछ कथित वीडियो वायरल हुए थे. इन वीडियो में अस्पताल के संचालक डॉ. अरिंजय जैन ने कहा था कि मरीजों की छंटनी के लिए 26 अप्रैल को सुबह 7 बजे मॉक ड्रिल की गई थी. ड्रिल के तौर पर कोरोना संक्रमित मरीजों की ऑक्सीजन सप्लाई को भी बाधित किया गया. 5 मिनट ऑक्सीजन रोकने से 22 मरीज ‘छंट’ गए. खबरें चलीं कि अस्पताल की मॉक ड्रिल के कारण 22 मरीजों की मौत हो गई. मामला गरमाया तो जांच कमेटी बनाई गई. अब इस कमेटी ने इस मामले में अस्पातल को क्लीन चिट दे दी है.

जांच रिपोर्ट में क्या कुछ है?

इस पूरे प्रकरण की जांच के लिए 4 सदस्य वाली एक जांच कमेटी (डेथ ऑडिट कमेटी) का गठन किया गया था. इस कमेटी ने अखबारों में भी विज्ञापन दिया कि इस बारे में जो कोई कुछ बताना चाहे वह बता सकता है. इसके बाद कमेटी को 10 शिकायती पत्र और समाजसेवी संस्थाओं के 3 ज्ञापन मिले. जांच में कमेटी ने पाया कि वीडियो में 26 अप्रैल को सुबह 7 बजे इस मॉकड्रिल की बात कही गई है तो सभी मौत इसी दौरान होनी चाहिए थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. कमेटी के मुताबिक 16 मरीजों की मौत हुई लेकिन इन सभी की स्थिति गंभीर थी. 14 मरीज कोमोरबिडिटी (अस्थमा, ब्लडप्रेशर, आदि) बीमारियों से ग्रसित थे. अन्य दो का सीटी स्कोर काफी हाई था. यानी इन्फेक्शन उनके फेफड़ों में फैल चुका था.

आगरा प्रशासन के मुताबिक अस्पताल के संचालक डॉक्टर अरिंजय जैन पर महामारी अधिनियम की धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी. साथ ही श्री पारस अस्पताल का लाइसेंस भी रद्द रहेगा.

जांच रिपोर्ट पर सवाल

दैनिक भास्कर के मुताबिक जांच करने वाले अफसरों ने केवल अस्पताल प्रशासन के आधार पर रिपोर्ट बना दी. रिपोर्ट में इस बात का भी कहीं कोई जिक्र नहीं है कि आखिर उस दिन सीसीटीवी क्यों बंद किए गए थे. इस रिपोर्ट में पीड़ितों के बयानों को भी कहीं नहीं दिखाया गया है. 26 अप्रैल की रात पारस अस्पताल में जान गंवाने वाले 11 मृतकों के परिजन सामने आए थे, लेकिन जांच कमेटी ने इन लोगों सो कोई बात नहीं की.

अखबार से बात करते हुए कांग्रेस के प्रदेश सचिव अमित सिंह ने कहा कि इस जांच का कोई औचित्य नहीं है, क्योंकि सभी जानते थे कि जांच रिपोर्ट में ऐसा ही कुछ होना था.

क्या था वायरल वीडियो में?

श्री पारस हॉस्पिटल के संचालक अरिंजय जैन की आवाज़ वाले जो वीडियो वायरल हैं उनमें डॉक्टर अरिंजय का चेहरा तो नहीं दिख रहा, लेकिन उनकी आवाज़ सुनाई दे रही है. कुछ लोग उनसे दोस्ताना लहजे में बातें कर रहे हैं. डॉक्टर किस्सा सुना रहे हैं. इस बातचीत के दो वीडियो काफी सनसनीखेज़ है. इनमें वह ये दावा करते सुने जा सकते हैं कि ऑक्सीजन की कमी की वजह से मरीजों को छांटने के लिए मॉक ड्रिल की गई थी. उस वक्त अस्पताल में 96 कोरोना मरीज भर्ती थे. इनमें से 74 बचे. ये 26 अप्रैल 2021 का दिन था. तब आगरा में कोरोना संक्रमण का पीक चल रहा था. वीडियो वायरल होने के बाद सरकार ने जांच के आदेश दिए थे.


वीडियो- आगरा: डॉक्टर ने वायरल वीडियो में किया दिल दहला देने वाला खुलासा, 22 मरीजों की मौत का राज जान UP हिल गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप के आरोप का पूरा मामला है क्या?

आरोप लगाने वाली महिला के खिलाफ प्रिंस ने भी फरवरी में दर्ज कराई थी FIR.

किसान आंदोलन में शामिल लोगों पर आरोप- पहले ग्रामीण को शराब पिलाई, फिर जिंदा जला दिया!

बहादुरगढ़ की घटना, पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है.

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

31 जुलाई से पहले फाइनल रिजल्ट जारी करने की जानकारी भी दी है.

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

नए नियम के बाद विवादों में कमी आएगी?

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

अख़बार का दावा, सरकारी जांच में हुआ ख़ुलासा

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

जानिए क्या है पूरा मामला?

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब के अलावा बाकी चुनाव भी साथ लड़ने की घोषणा.

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

मुकुल रॉय को बराबर में बिठाकर ममता बनर्जी किन गद्दारों पर भड़कीं?

लक्षद्वीप: किस एक बयान के बाद फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हो गया?

पहले TV डिबेट में बोला, फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखा.