Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

जब नेहरू जी को रहना पड़ा था मवेशियों के रहने की जगह पर

1.33 K
शेयर्स

‘चाचा’ के नाम से मशहूर भारत के पहले प्रधानमंत्री पंं. जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 को हुआ था. इसी दिन को वाल दिवस के रूप में भी मनाया जाता है. इस मौके पर जानते हैं उनकी जिंदगी के कुछ खास किस्से:

#1.

नेहरू का कद इतना बड़ा था कि कोई भी जल्दी उनके सामने बोलने की हिम्मत नहीं जुटा पाता था. राम मनोहर लोहिया उन लोगों में से थे, जिन्होंने नेहरू को कड़ी चुनौती दी. 1962 के लोकसभा चुनाव में लोहिया ने जहां-जहां नेहरू के खिलाफ प्रचार किया, वहां-वहां नेहरू की हार हुई. 1962 के चुनाव के एक साल बाद लोकसभा के उपचुनाव हुए और लोहिया भी लोकसभा पहुंच गए. उन दिनों उन्होंने एक पॉलिटिकल पैम्फलेट लिखा, जिसका टाइटिल था ‘एक दिन के 25 हजार रुपए’.

इस पैम्फलेट में लोहिया ने नेहरू के कुछ खर्चों का जिक्र करते हुए दावा किया कि ये खर्चे सरकारी कोष से किए जा रहे हैं. लोहिया ने कहा कि जिस भारत के 70% लोग रोज़ाना 3 आने से कम पर गुज़ारा करते हैं, वहां प्रधानमंत्री के ऊपर रोजाना 25 हजार रुपए खर्च होना शर्मनाक है.

इस पर नेहरू ने योजना आयोग का हवाला देते हुए कहा था कि योजना आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक भारत की 70% जनसंख्या की रोज़ाना की आमदनी 15 आना है. इस पर लोहिया ने जवाब दिया था कि 15 आने आय के बावजूद नेहरू पर खर्च होने वाले 25 हजार रुपयों में लाखों आने होते हैं.

nehru

#2.

नेहरू अपनी ऑटोबॉयोग्राफी में लिखते हैं,

”जब मैं अलीपुर जेल में था, तो मेरी तबीयत काफी खराब रहने लगी. कलकत्ता की आबोहवा और गर्मी से मुझे दिक्कत हो रही थी. फैसला हुआ कि मुझे देहरादून भेजा जाएगा. मै काफी खुश था कि वहां पहाड़ देखने को मिलेंगे. 7 मई को मुझसे अपना सामान समेटने और बाहर चलने को कहा गया. मै देहरादून जेल भेजा जा रहा था. महीनों की तन्हाई के बाद कलकत्ता के बीच होकर ठंडी-ठंडी हवा के बीच गुज़रना मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.

मुझे अपने तबादले की खुशी थी और मै देहरादून और उसके आसपास के पहाड़ों को देखने के लिए काफी उत्सुक था. लेकिन वहां पहुंचकर मैंने देखा कि 9 महीने पहले इसी जेल से जाते समय इसकी जो हालत थी, वह अब नहीं रह गई थी. अब मै जिस जगह पर था, वह मवेशियों के रहने की जगह को साफ करके बनाई गई थी.

इतना तक तो ठीक था, लेकिन दूसरी जो तब्दीली इसमें की गई थी, वह ज़्यादा दुखद थी. कमरे की दीवारों को, जो पहले 10 फुट ऊंची थीं, उसे 5-6 फुट और बढ़ा दिया गया था. इससे पहाड़ियों को देखने की मेरी जो हसरत थी, वह खत्म हो चुकी थी. मुझे सिर्फ कुछ पेड़ों के सिरे ही दिखते थे. मै इस जेल में करीब 3 महीने तक रहा, लेकिन कभी पहाड़ों को नहीं देख सका.”

wiki-2-647_070215060922_080515063826

#3.

एक बार नेहरू अपने सहयोगियों के साथ ग्रामीण इलाके से गुज़र रहे थे. रास्ते में चने का खेत देखा, तो उन्होंने चने खाने की इच्छा जताई. कार रुकी और लोग खेत में घुस गए. नेहरू ने सिर्फ फलियां तोड़ीं, लेकिन कुछ लोगों ने फलियों साथ-साथ चने के पेड़ भी उखाड़ डाले. उस पर नेहरू ने उन्हें डांटते हुए कहा, ‘जानवर हो क्या? पेड़ उखाड़ने से नुकसान होता है. ऐसा तो जानवर करते हैं.’

#4.

अपनी जीवनी में नेहरू अपने बचपन की एक कहानी बताते हैं,

”मेरे पिता जी का एक कमरा अलग से पढ़ने के लिए था, जिसमें तमाम किताबें थीं और दो कलम भी रखी रहती थीं. मैं अपने दोस्तों के साथ अक्सर उस कमरे में जाया करता था. एक बार मुझे पेन की ज़रूरत थी, तो मैंने एक पेन ले ली. शाम को अचानक शोरगुल की आवाज़ सुनाई पड़ी. पिता जी सबके ऊपर गुस्सा हो रहे थे. पता लगा कि यह सारी कवायद पेन की वजह से हो रही थी. पिता जी को लग रहा था कि किसी ने उनकी पेन चुराई है. जब उन्हें पता लगा कि पेन मैंने ली है, तो मेरी काफी पिटाई हुई. उस दिन मैंने सबक सीखा कि कभी भी पिता जी से चालाकी नहीं दिखानी है.”


दी लल्लनटॉप के लिए यह आर्टिकल शिव ने लिखा है.


यह भी पढ़ें:

रणदीप हुड्डा, क्या वाकई में आप लोगों को ये सलाह दे रहे हैं?

अगर आप गो-हत्या रुकवाना चाहते हैं, तो आपको सिर्फ नेहरू की बात सुननी चाहिए

केपीएस गिल, जिन्होंने दिखाया कि एक पुलिसवाला आतंकवाद कैसे खत्म कर सकता है

रमज़ान के बारे में वो सवाल, जिन्हें पूछने में कतई न घबराइए

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

गांधी की हत्या में RSS की क्या भूमिका थी?

इस सवाल पर दशकों से सिर धुना जा रहा है, जवाब किसी के पास नहीं है.

क्यों हार्दिक की तथाकथित सेक्स सीडी बीजेपी को भारी पड़ सकती है

2016 में आए एक स्टिंग ऑपरेशन के बाद बीजेपी को लेने के देने पड़ गए थे.

भला हो गुजरात चुनाव का...मेरा कुछ फायदा तो हुआ

केंद्र सरकार ने 211 चीजों के टैक्स स्लैब में किया बदलाव.

लल्लनटॉप कहानी लिखिए और एक लाख रुपए का इनाम जीतिए

दि लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन लौट आया है. आपका लल्लनटॉप अड्डे पर पहुंचने का वक्त आ गया है.

नन्हे प्रद्युम्न की हत्या में अब 11वीं का छात्र हिरासत में लिया गया है

रायन स्कूल में हुई हत्या के मामले में सीबीआई ने हरियाणा पुलिस की थ्योरी खारिज कर दी है.

फर्जी कंपनियों में पैसा लगाने के सवाल पर बीजेपी सांसद ने रिपोर्टर को सुट्ट कर दिया

पैराडाइज पेपर्स लीक का मामला है, सांसद का जवाब 'देखकर' उनकी होशियारी के कायल हो जाओगे.

पैराडाइज़ पेपर्स लीकः भारत के कौन से ताकतवर लोगों का नाम सामने आया है?

एक करोड़ चौतीस लाख गोपनीय पन्नों का ये ऐतिहासिक खुलासा देश और दुनिया को हिलाकर रख देगा.

12 साल पहले 12 हजार रुपए की खीर खा गए थे नरेंद्र मोदी!

RTI के हवाले से ये दावा गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री ने किया है, जो भाजपा में रह चुके हैं.

कहानी उस अस्पताल की, जिसमें आतंकी पकड़ा गया और अब कांग्रेस-बीजेपी आमने-सामने हैं

गुजरात के मुख्यमंंत्री विजय रुपाणी और अहमद पटेल के बीच जारी है जुबानी जंग

गुजरात में किसकी बनेगी सरकार, जानिए क्या कहता है लेटेस्ट सर्वे

गुजरात की जनता का मूड टटोलता इंडिया टुडे-एक्सिस सर्वे.

पाकी टॉकी

'मैं जो हूं जौन एलिया हूं जनाब, इसका बेहद लिहाज़ कीजिएगा'

जनाब कहते थे, मुझे खुद को तबाह करने का मलाल नहीं है. जानिए अकेले में रहने वाले शायर को.

70 साल बाद पाकिस्तान गए इस शख्स की कहानी हम सबके काम की है

दोनों मुल्कों के दरमियान कड़वाहट का जवाब भी मिलेगा.

पाकिस्तान में जिसे अब प्रधानमंत्री बनाया गया है, वो दो साल जेल में रह चुके हैं

जेल से छूटकर चुनाव लड़े और हार गए थे. अब 45 दिन के लिए पीएम बन गए.

मनी लॉन्ड्रिंग केस में नवाज शरीफ दोषी करार, नहीं रहेंगे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री

पनामा पेपर्स लीक ने दुनियाभर में हलचल मचाई थी.

जब अफरीदी ही औरतों को चूल्हे में झोंकना चाहते हों, इस खिलाड़ी पर ये भद्दे कमेंट हमें हैरान नहीं करते

पिता के साथ एयरपोर्ट से बाइक पर घर जाती इस पाक खिलाड़ी को निशाना बनाया जाना शर्मनाक है.

गोरमिंट को गालियां देकर वायरल हुईं इन आंटी के साथ बहुत बुरा हो रहा है

'ये गोरमिंट बिक चुकी है. अब कुछ नहीं बचा.' कहने वाली आंटी की ये बुरी खबर है.

क्या जिन्ना की बहन फातिमा का पाकिस्तान में कत्ल हुआ था?

उनके जनाज़े पर पत्थर क्यों बरसे?

'मैं अल्लाह के घर से चोरी कर रहा हूं, तुम कौन होते हो बीच में नाक घुसाने वाले'

चोर का ये ख़त पढ़ लीजिए. सोच में पड़ जाएंगे!

छिड़ी बहस, क्या सच में डॉल्फिन से सेक्स कर रहे हैं पाकिस्तानी?

रमज़ान के पाक महीने में डॉल्फिन को बचाने की बात हो रही है.

कौन है ये पाकिस्तानी पत्रकार, जिसने पूरी टीम के बदले 3 साल के लिए विराट कोहली को मांगा है

दोनों देशों में ट्रोल हुई हैं. ट्रोल करने वालों को इनके ये पांच ट्वीट देख लेने चाहिए.

भौंचक

वाघा बॉर्डर पर हमारी शान हैं BSF वाले, इन्हें सड़क पर कौन ले आया है

चंडीगढ़ में जवानों के साथ जो हुआ वो उनके सम्मान के लिए बहुत गलत है.

उत्तर प्रदेश में 3 दिन पहले हुए इस 'गैंगरेप' की सच्चाई ये है

यूपी के उन्नाव की इस घटना का कनेक्शन अहमदाबाद से है.

अपना नाम ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी में देखने के लिए फॉलो करें ये 5 स्टेप्स

ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी ने आप सब से सुझाव मांगे हैं.

यदि न्यूडिटी की उम्मीद है तो ‘न्यूड’ का यह ट्रेलर मत देखना!

गोवा के फ़िल्म फेस्टिवल में दिखाई जानी थी, अंतिम समय में हटा दी गयी

हॉरर मूवी 'दी ब्लैक कैट' जिसे अपने बच्चों को ज़रूर दिखाना चाहिए

बच्चों के लिए इतना सीरियस काम इससे पहले गुलज़ार को ही करते देखा था.

क्या आपको पता है कि बॉल पेन के ढक्कन में छेद क्यों होता है?

बॉल पेन के कैप में बना छेद यूं ही नहीं बना होता है. ना ही ये स्याही को सूखने से बचाता है.

नितिन गडकरी ने किसानों को बचाने का बदबूदार आइडिया दिया है

पहली नजर में आपको बकैती लगेगी लेकिन सीरियसता से पढ़ना.

पर्यटन विभाग दिया जाना चाहिए इक्यावन बार ट्रांसफर हो चुके खेमका जी को

इतनी बार तो हमने अपने बैचलर-शिप में मैगी नहीं खाई!

कांग्रेस वालो, किसी का माल उड़ाओ तो कम से कम क्रेडिट तो दे ही दो

कार्टूनिस्ट सतीश आचार्य नाराज हैं, बोले- परमिशन लेनी चाहिए थी.

चुनाव आयोग ने इस शख्स के लिए जो किया है, वो लोकतंत्र के लिए सुखद है

जंगल के बीच रहने वाला ये बुजुर्ग वोटर सबसे वोट डालने की अपील करता है.