Submit your post

Follow Us

जब नेहरू को मवेशियों के रहने की जगह पर रहना पड़ा था

देश के पहले प्रधानमंत्री. स्वतंत्रता सेनानी जवाहर लाल नेहरू. नेहरू पैदा हुए थे 14 नवंबर, 1889 को. उनका जन्मदिन बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है. आज यानी 27 मई को उनकी बरसी होती है. इस मौके पर पढ़िए नेहरू से जुड़े कुछ क़िस्से. 

#1.

नेहरू का कद इतना बड़ा था कि कोई भी जल्दी उनके सामने बोलने की हिम्मत नहीं जुटा पाता था. राम मनोहर लोहिया उन लोगों में से थे, जिन्होंने नेहरू को कड़ी चुनौती दी. 1962 के लोकसभा चुनाव में लोहिया ने जहां-जहां नेहरू के खिलाफ प्रचार किया, वहां-वहां नेहरू की हार हुई. 1962 के चुनाव के एक साल बाद लोकसभा के उपचुनाव हुए और लोहिया भी लोकसभा पहुंच गए. उन दिनों उन्होंने एक पॉलिटिकल पैम्फलेट लिखा, जिसका टाइटल था ‘एक दिन के 25 हजार रुपए’.

इस पैम्फलेट में लोहिया ने नेहरू के कुछ खर्चों का जिक्र करते हुए दावा किया कि ये खर्चे सरकारी कोष से किए जा रहे हैं. लोहिया ने कहा कि जिस भारत के 70% लोग रोज़ाना 3 आने से कम पर गुज़ारा करते हैं, वहां प्रधानमंत्री के ऊपर रोजाना 25 हजार रुपए खर्च होना शर्मनाक है.

इस पर नेहरू ने योजना आयोग का हवाला देते हुए कहा था कि योजना आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक भारत की 70% जनसंख्या की रोज़ाना की आमदनी 15 आना है. इस पर लोहिया ने जवाब दिया था कि 15 आने आय के बावजूद नेहरू पर खर्च होने वाले 25 हजार रुपयों में लाखों आने होते हैं.

nehru

#2.

नेहरू अपनी ऑटोबॉयोग्रफी में लिखते हैं-

जब मैं अलीपुर जेल में था, तो मेरी तबीयत काफी खराब रहने लगी. कलकत्ता की आबोहवा और गर्मी से मुझे दिक्कत हो रही थी. फैसला हुआ कि मुझे देहरादून भेजा जाएगा. मै काफी खुश था कि वहां पहाड़ देखने को मिलेंगे. 7 मई को मुझसे अपना सामान समेटने और बाहर चलने को कहा गया. मैं देहरादून जेल भेजा जा रहा था. महीनों की तन्हाई के बाद कलकत्ता के बीच होकर ठंडी-ठंडी हवा के बीच गुज़रना मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.

मुझे अपने तबादले की खुशी थी और मैं देहरादून और उसके आसपास के पहाड़ों को देखने के लिए काफी उत्सुक था. लेकिन वहां पहुंचकर मैंने देखा कि 9 महीने पहले इसी जेल से जाते समय इसकी जो हालत थी, वह अब नहीं रह गई थी. अब मै जिस जगह पर था, वह मवेशियों के रहने की जगह को साफ करके बनाई गई थी.

इतना तक तो ठीक था, लेकिन दूसरी जो तब्दीली इसमें की गई थी, वह ज़्यादा दुखद थी. कमरे की दीवारों को, जो पहले 10 फुट ऊंची थीं, उसे 5-6 फुट और बढ़ा दिया गया था. इससे पहाड़ियों को देखने की मेरी जो हसरत थी, वह खत्म हो चुकी थी. मुझे सिर्फ कुछ पेड़ों के सिरे ही दिखते थे. मैं इस जेल में करीब 3 महीने तक रहा, लेकिन कभी पहाड़ों को नहीं देख सका.

wiki-2-647_070215060922_080515063826

#3.

एक बार नेहरू अपने सहयोगियों के साथ ग्रामीण इलाके से गुज़र रहे थे. रास्ते में चने का खेत देखा, तो उन्होंने चने खाने की इच्छा जताई. कार रुकी और लोग खेत में घुस गए. नेहरू ने सिर्फ फलियां तोड़ीं, लेकिन कुछ लोगों ने फलियों साथ-साथ चने के पेड़ भी उखाड़ डाले. उस पर नेहरू ने उन्हें डांटते हुए कहा-

जानवर हो क्या? पेड़ उखाड़ने से नुकसान होता है. ऐसा तो जानवर करते हैं.

#4.

अपनी जीवनी में नेहरू अपने बचपन की एक कहानी यूं बताते हैं-

मेरे पिता जी का एक कमरा अलग से पढ़ने के लिए था, जिसमें तमाम किताबें थीं और दो कलम भी रखी रहती थीं. मैं अपने दोस्तों के साथ अक्सर उस कमरे में जाया करता था. एक बार मुझे पेन की ज़रूरत थी, तो मैंने एक पेन ले ली. शाम को अचानक शोरगुल की आवाज़ सुनाई पड़ी. पिता जी सबके ऊपर गुस्सा हो रहे थे. पता लगा कि यह सारी कवायद पेन की वजह से हो रही थी. पिता जी को लग रहा था कि किसी ने उनकी पेन चुराई है. जब उन्हें पता लगा कि पेन मैंने ली है, तो मेरी काफी पिटाई हुई. उस दिन मैंने सबक सीखा कि कभी भी पिता जी से चालाकी नहीं दिखानी है.

दी लल्लनटॉप के लिए यह आर्टिकल शिव ने लिखा था.


देखें वीडियो, इंदिरा गांधी से जुड़े झूठ की पड़ताल:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.

ऑनलाइन क्लास में Noun समझाने के चक्कर में पाकिस्तान की तारीफ, टीचर सस्पेंड

टीचर शादाब खनम ने माफी भी मांगी, लेकिन पैरेंट्स ने शिकायत कर दी.

लद्दाख में तकरार बढ़ी, तीन जगह चीनी सेना ने मोर्चा लगाया, तंबू गाड़े

दोनों ओर के सैनिकों ने मोर्चा संभाला.

पाताल लोक वेब सीरीज में फोटो से छेड़छाड़ पर BJP विधायक ने की अनुष्का से माफी की मांग

प्रोड्यूसर अनुष्का शर्मा पर रासुका के तहत कार्रवाई की मांग की.

कानपुर स्टेशन पर ट्रेन रुकी और खाने को लेकर आपस में भिड़ गए प्रवासी मज़दूर

दो कोचों के मज़दूर आपस में झगड़ पड़े. कुछ को खाना मिला, बाकी जमीन पर गिर गया.