Submit your post

Follow Us

गेंद को थूक लगाकर चमकाने पर रोक, क्या बोले टीम इंडिया के बॉलिंग कोच?

कोरोना वायरस ने बाकी चीजों की तरह खेलों को भी रोक दिया है. इसकी वजह से टोक्यो में होने वाले ओलंपिक गेम्स टल गए. भारत में होने वाला आईपीएल आगे खिसक गया. इसी तरह के दुनियाभर के खेल इवेंट्स रद्द हो गए या टाल दिए गए. अब खेलों को फिर से पटरी पर लाने की बातें चल रही हैं. ऐसे में क्रिकेट को फिर से शुरू करने की तैयारियां होने लगी हैं.

आईसीसी ने पिछले दिनों इसके बारे में गाइडलाइंस भी जारी की थी. इसके तहत गेंद पर थूक लगाने पर पाबंदी लगा दी गई. गेंदबाज स्विंग हासिल करने के लिए थूक लगाकर गेंद के एक हिस्से को पुराना करते थे. लेकिन अब ऐसा नहीं कर पाएंगे.

टीम इंडिया के बॉलिंग कोच ने क्या कहा

भारतीय क्रिकेट टीम के बॉलिंग कोच हैं भरत अरुण. उन्होंने आईसीसी के इस फैसले पर चिंता जताई है. हिंदुस्तान टाइम्स से उन्होंने कहा कि पूरी जिंदगी खिलाड़ी थूक का इस्तेमाल करते रहे. अब गेंद को चमकाना मुश्किल हो जाएगा. एक बात यह भी है कि मैदान में इसका ध्यान कैसे रखेंगे? अनजाने में कोई थूक का इस्तेमाल कर सकता है. और अगर किसी ने ऐसा किया तो आप क्या कर लेंगे? किसी को सभी 11 खिलाड़ियों पर ध्यान देना होगा. लेकिन अगर किसी ने चुपचाप गेंद को चमकाया तो फिर मुश्किल हो जाएगी.

स्विंग हासिल करने के लिए गेंद को चमकाना क्रिकेट का अहम हिस्सा है. लेकिन कोरोना वायरस के चलते आईसीसी ने इस पर रोक लगा दी है. (File Photo)
स्विंग हासिल करने के लिए गेंद को चमकाना क्रिकेट का अहम हिस्सा है. लेकिन कोरोना वायरस के चलते आईसीसी ने इस पर रोक लगा दी है. (File Photo)

उन्होंने आगे कहा कि गेंदबाजों के लिए खुद पर काबू करना मुश्किल होगा. ऐसा नहीं है कि इसे कंट्रोल नहीं कर सकते. लेकिन इसके लिए आदत छोड़नी होगी. एक बात और है कि पसीने और थूक में कितना अंतर होगा. दोनों शरीर के फ्लूड (पानी) ही तो हैं.

‘स्विंग के लिए काबिलियत बहुत जरूरी’

गेंद की चमक से गेंदबाजों पर पड़ने वाले असर के सवाल पर भरत अरुण ने कहा कि गेंद को स्विंग कराना गेंदबाज की काबिलियत है. यह गेंद की चमक पर निर्भर करती है. थूक से गेंद को चमकाने में बड़ी मदद होती है. अभी तक पसीने को गेंद चमकाने के लिए ज्यादा यूज नहीं किया गया. यह नया अनुभव होगा. लेकिन अंत में बात काबिलियत पर ही आती है. साथ ही मैदान और कंडीशन का भी असर पड़ता है.

उन्होंने कहा कि सर्द मौसम में पसीना कैसे आएगा. साथ ही खुरदरी पिच होने पर क्या होगा. लेकिन यह सब पर लागू होगा. खेलना तो नियमों के हिसाब से ही होगा.

भरत अरुण का मानना है कि गेंद चमकाने के उपाय पर्याप्त नहीं होने पर बल्लेबाजों को फायदा हो सकता है. क्योंकि यह किसी को नहीं पता कि पसीने के यूज से गेंद कैसे काम करेगी. यह सबके लिए नया अनुभव होगा.

गेंद को थूक से क्यों चमकाया जाता है, इस पर विस्तार से यहां पढ़ सकते हैं.

भारत में कोरोना वायरस के मामलों का स्टेटस


Video: ICC के नए फैसलों से क्रिकेट 26 साल पहले जैसा हो जाएगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.

ऑनलाइन क्लास में Noun समझाने के चक्कर में पाकिस्तान की तारीफ, टीचर सस्पेंड

टीचर शादाब खनम ने माफी भी मांगी, लेकिन पैरेंट्स ने शिकायत कर दी.

लद्दाख में तकरार बढ़ी, तीन जगह चीनी सेना ने मोर्चा लगाया, तंबू गाड़े

दोनों ओर के सैनिकों ने मोर्चा संभाला.

पाताल लोक वेब सीरीज में फोटो से छेड़छाड़ पर BJP विधायक ने की अनुष्का से माफी की मांग

प्रोड्यूसर अनुष्का शर्मा पर रासुका के तहत कार्रवाई की मांग की.

कानपुर स्टेशन पर ट्रेन रुकी और खाने को लेकर आपस में भिड़ गए प्रवासी मज़दूर

दो कोचों के मज़दूर आपस में झगड़ पड़े. कुछ को खाना मिला, बाकी जमीन पर गिर गया.

दुनिया का सबसे तेज़ इंटरनेट, एक सेकेंड में 1000 एचडी मूवी डाउनलोड का दावा

ऑस्ट्रेलिया की तीन यूनिवर्सिटी के टेक रिसर्चर्स ने मिलकर ये कनेक्शन तैयार किया है.

केंद्र से अक्सर लड़ने वाली ममता बनर्जी की पीएम मोदी ने किस बात पर तारीफ की?

पश्चिम बंगाल दौरे पर पीएम मोदी ने 'अमपन' को लेकर एक हज़ार करोड़ रुपए की मदद का ऐलान किया.

रिज़र्व बैंक ने एक बार फिर रेपो रेट घटाया, EMI से तीन महीने और छुटकारा

मार्च और अप्रैल महीने में रिज़र्व बैंक ने रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट घटाया था.

प्लेन और ट्रेन से जाने के लिए टिकट और किराए के नियम सरकार ने बताए हैं

जानिए, रेलवे के ऑफलाइन टिकट कहां से मिल सकते हैं.