Submit your post

Follow Us

कश्मीर : हथियारों के फर्जी लाइसेंस बनवाने वाला IAS अधिकारी कैसे धरा गया?

एक IAS अफसर की गिरफ्तारी हो गयी. किसकी? कश्मीर काडर के 2010 बैच के आईएएस राजीव रंजन की. कहां से? चंडीगढ़ से. किसने की? CBI ने. साथ में एक और आदमी गिरफ्तारी हुई? कौन? जम्मू-कश्मीर प्रशासनिक सेवा के अधिकारी इतरत हुसैन रफ़ीकी की. क्या आरोप थे? दोनों पर फर्जी दस्तावेजों के आधार पर गैर प्रांतीय लोगों को असलहों के लाइसेंस जारी करने का आरोप. कितने लोगों को? तकरीबन 56 लोगों को. कुपवाड़ा जिले के जिला मजिस्ट्रेट रहते हुए.

मामला जानिये

रफ़ीकी 2013-2015 तक कुपवाड़ा के जिलाधिकारी थे. 2015-16 तक इस पद पर थे राजीव रंजन. अमर उजाला में छपी खबर की मानें तो इस दौरान 4.29 लाख आर्म्स लाइसेंस जारी किये गए. और इनमें से 90 फीसद लाइसेंस जम्मू-कश्मीर से बाहर के लोगों को दिए गए. कुपवाड़ा, बारामुला, शोपियां, राजोरी, उधमपुर, डोडा और रामबन जिले में सबसे अधिक लाइसेंस जारी किये गए. डोडा, रामबन और उधमपुर जिले से जारी 1 लाख 43 हजार 13 लाइसेंस में से 1 लाख 32 हजार 321 लाइसेंस दूसरे राज्यों में रहने वालों को जारी किये गए.

हालांकि कुपवाड़ा जिले में – जहां इन दो अफसरों की तैनाती रही – लाइसेंस से जुड़ी कोई फाइल भी नहीं मिली. खबरें मिलती हैं कि क्रिकेटर और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने भी यहां से लाइसेंस के लिए आवेदन किया था, जिसे रद्द कर दिया गया था. राजीव रंजन की गिरफ्तारी से जुडी खबरों की मानें तो कुपवाड़ा जिले में लाइसेंस मामले से जुडी कोई भी फ़ाइल नहीं मिली है.

कैसे खुला मामला?

दरअसल मामला जम्मू-कश्मीर से निकलकर पहुंच गया राजस्थान. पुलिस ने राजीव रंजन के भाई ज्योति रंजन को गिरफ्तार किया 2017 में. ज्योति रंजन के पास से फर्जी आर्म्स लाइसेंस की बरामदगी हुई. इस समय राजस्थान के डीजीपी थे ओपी मल्होत्रा. उन्होंने शक जताया कि इसमें राजीव रंजन का भी हाथ हो सकता है.

इसके पहले 2007 में श्रीगंगानगर में फर्जी लाइसेंस के काफी मामले प्रकाश में आये थे. लगभग आधा दर्जन. 2-3 IAS अधिकारियों का नाम जांच के रडार में आया. कई आर्मी अधिकारी भी लिप्त माने गए. ये आशंका ज़ाहिर की गयी कि जम्मू से लोगों ने राजस्थान आकर लाइसेंस बनवाए थे. क्यों? क्योंकि जम्मू-कश्मीर में तैनात आर्मी के  मामला खिंचता गया. राजस्थान एटीएस ने 2017 में तत्कालीन मुख्य सचिव बीबी व्यास को इस रैकेट के बारे में पत्र भेजकर सूचना दी थी. राज्यपाल एनएन वोहरा के पास बात गयी.

एटीएस ने जांच शुरू की. खबरें बताती हैं कि इस ऑपरेशन को एटीएस ने ज़ुबैदा कोडनेम दिया. जांच में 50 से अधिक लोगों के पास जम्मू-कश्मीर से जारी गन लाइसेंस मिले थे. जो फर्जी दस्तावेजों के आधार पर हासिल किए गए थे. इसी दौरान ज्योति रंजन की गिरफ्तारी हुई. 3367 सुरक्षाकर्मियों का भी नाम आया, जिन्होंने जम्मू-कश्मीर से फर्जी लाइसेंस हासिल किये थे.

मई 2018 में पूरी मामले की जांच सीबीआई को दे दी गयी. सीबीआई ने पता लगाया कि अपनी एक साल की तैनाती के दौरान लगभग 30 हज़ार हथियारों के लाइसेंस इशू किये. हरेक लाइसेंस 8-10 लाख रूपए लिए. कश्मीरियों के अलावा चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा, यूपी और राजस्थान के लोगों फर्जी कागजों पर लाइसेंस दिए गए. आशंका जताई जा रही है कि ज़्यादातर लाइसेंस अपराधियों ने बनवाये, ताकि वे बिना रोकटोक कहीं भी हथियार लेकर आवाजाही कर सकें.

चूंकि राजीव रंजन कश्मीर काडर के अधिकारी हैं, इसलिए जम्मू-कश्मीर प्रशासन से इजाज़त लेनी पड़ी. और फिर चंडीगढ़ से हो गयी गिरफ्तारी.


लल्लनटॉप वीडियो : किताबवाला: कश्मीर में 80 के दशक के आतंक और कश्मीरी पंडितों के विस्थापन का असल ज़िम्मेदार कौन?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

CPL के मैच देख सबसे ज्यादा खुशी KKR और DC को हो रही होगी

दोनों टीमों के प्लेयर्स ने गदर काट रखा है.

नेट में धोनी ने चलाया ऐसा बल्ला, खुद को सीटी बजाने से नहीं रोक पाए रैना

अगर ऐसे ही खेल रहे हैं, तो फिर धोनी को संन्यास की क्या ज़रूरत पड़ गई!

आम आदमी पार्टी को लाखों का चंदा देने वाले CA को पुलिस ने किस मामले में गिरफ्तार किया है?

रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज़ की ओर से पुलिस को क्या शिकायत मिली थी?

'आदिपुरुष' में प्रभास जो रोल करने वाले हैं, उससे रामभक्त खुश हो जाएंगे

प्रभास की लास्ट फिल्म 'साहो' थी.

उस ऑस्ट्रेलियन ने लिया संन्यास, जिसका पहला और आखिरी, दोनों विकेट सचिन ही रहे!

इंडिया में डेब्यू करने आया था, लेकिन करियर खत्म करवाकर लौटा.

बिपाशा का खुलासा, किस तरह एक टॉप प्रोड्यूसर ने उन पर डाली थी बुरी नजर

ये भी बताया कि उनकी एक 'गलती' से प्रोड्यूसर की बोलती कैसे बंद हो गई

कोरोना काल में कैसे डाले जाएंगे वोट, चुनाव आयोग ने गाइडलाइन जारी की

कोरोना पॉजिटिव कैसे देंगे वोट, इस सवाल का भी जवाब है.

11 साल की लड़की को सेक्सुअलाइज़ करने वाले पोस्टर पर नेटफ्लिक्स को माफी मांगनी पड़ी

'क्यूटीज़' एक फ्रेंच फिल्म है, जो 9 सितंबर को नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ होगी.

वर्ल्ड कप जीतने वाला क्रिकेटर सब्जी बेच रहा है!

सरकार से नौकरी की उम्मीद थी, लेकिन वो उम्मीद दरक रही है.

आदित्य पंचोली ने क्यों कहा कि कंगना रनौत को लौटाना होगा उनका पद्मश्री अवॉर्ड

बॉलीवुड के स्टार्स एक-दूसरे के अवॉर्ड के पीछे क्यों पड़ गए हैं?