Submit your post

Follow Us

इंडिया में कोरोना की रोकथाम का सबसे बड़ा काम चीन की वजह से रुक गया!

जिस समय दुनिया भर में टेस्टिंग बढ़ाने की बात हो रही है, उसी समय भारत ने टेस्टिंग गिरा दी है. डॉक्टरो और अस्पतालों से ICMR ने कहा है कि रैपिड टेस्टिंग मत करिए. और तो और, जांच के लिए जो रैपिड टेस्टिंग किट आयी हैं, उन्हें लौटा दीजिए. लेकिन क्यों हुआ ऐसा?

ऐसा इसलिए हुआ कि भारत में बड़े लेवल पर कोरोना की जांच के लिए जो टेस्टिंग किट आई थीं, वो गड़बड़ निकल जगयीं. एक तो तीन बार डेडलाइन बीतने के बाद चीन से भारत टेस्टिंग किट आई थीं, और अब आईं तो निकलीं ख़राब. रिज़ल्ट सही नहीं आ रहे थे. पहले ICMR ने 21 अप्रैल को प्रेस कॉन्फ़्रेन्स में इस बात को स्वीकार किया कि टेस्ट किट्स में गड़बड़ी है. इसके बाद देश भर के टेस्टिंग सेंटर से कहा गया कि वे दो दिनों तक टेस्टिंग किट्स का इस्तेमाल न करें. लेकिन ये पूरा गुणा गणित क्या है? रैपिड टेस्ट किट्स का बवाल क्या है? और न होने पर भारत को क्या नुक़सान झेलने पड़ सकते हैं? सब जानते हैं यहां.

रैपिड टेस्ट क्या हैं?

कई बार बताया है. एक बार और बता देते हैं. आमतौर पर कोरोना का टेस्ट गले और नाक में पाए जाने वाले तरल की सहायता से होता है. इस RT-PCR टेस्ट में 7-8 घंटे लगते हैं. लेकिन रैपिड टेस्ट में प्रेगनेंसी टेस्ट की तरह किट का इस्तेमाल होता है. ख़ून का सैम्पल लिया जाता है. और ख़ून में मौजूद कोरोना की ऐंटीबाडी से पता चलता है कि आदमी कोरोना से संक्रमित है या नहीं. इस टेस्ट का परिणाम आधे घंटे के भीतर आ जाता है. अगर कोई इस रैपिड टेस्ट में पॉज़िटिव पाया जाता है, तो उसके सैम्पल का RT-PCR टेस्ट किया जाता है. कन्फ़र्म होने के लिए कि कोरोना का ही इन्फ़ेक्शन है. यानी अंतिम और पक्की जांच RT-PCR ही है.

भारत ने क्यों और कैसे शुरू की रैपिड टेस्टिंग?

लम्बे समय से भारत में रैपिड टेस्टिंग की माँग उठ रही थी. सबसे पहले केरल ने इसकी माँग उठाई. केरल ने कहा कि साउथ कोरिया और चीन की तर्ज़ पर रैपिड टेस्ट करना ही सबसे ज़्यादा ज़रूरी है. छत्तीसगढ़ और तमिलनाडु ने भी इसकी माँग की. आख़िर में अप्रैल के शुरुआती दिनों में आकर सरकार और ICMR ने स्वीकार किया कि भारत को रैपिड टेस्टिंग की ज़रूरत है. टेस्टिंग किट कहाँ से मँगाई जाए. चीन का नाम सामने आया. चीन को ऑर्डर दिया गया. तीन बार डेडलाइन पास हो गयी. तब जाकर टेस्टिंग किट इंडिया में आई.

गड़बड़ कहां हुई?

जब टेस्टिंग किट इंडिया में आई, तो किट्स के जांच हुई. पता चला कि टेस्टिंग किट 80 प्रतिशत तक सही है. ICMR ने कहा कि हम इसका इस्तेमाल फ़ाइनल जांच के लिए नहीं, बल्कि नज़र बनाए रखने के लिए करेंगे. साथ ही हॉटस्पॉट व कंटेन्मेंट ज़ोन में इसका इस्तेमाल किया जाना था. अब बड़े लेवल पर टेस्टिंग शुरू हुई. तो नयी बात सामने आयी. बात ये कि रैपिड टेस्टिंग किट से निकल रहे परिणाम 6 से 71 प्रतिशत के बीच अदलबदल रहे थे. मतलब परिणाम से कुछ पता नहीं चल रहा था कि कितना सही है. कनफ़्यूजन हो रहा था.

फिर ICMR ने क्या किया?

वही किया जो हमने अभी बताया. 21 तारीख़ की शाम 4 बजे वाली प्रेस ब्रीफ़िंग में कहा कि ICMR ने सभी राज्यों को दो दिनों के लिए टेस्टिंग रोकने के लिए कहा है. टेस्टिंग किट में जो गड़बड़ी मिल रही है, हम उसकी जांच करेंगे. देश के 8 विशेषज्ञों को लगाने की बात हुई. जांच पूरी हुई. किट गड़बड़. ICMR ने कहा कि वापिस करिए. चीन को वापिस भेजनी है.

चीन ने दिया वही पुराना जवाब

चीन पहले से यही कहता रहा. इस बार भी ये कह रहा. कह रहा है कि इंडिया को टेस्ट किट का इस्तेमाल करने नहीं आ रहा है. नई दिल्ली में चीन के दूतावास के प्रवक्ता जी रोंग ने कहा,

“रैपिड टेस्ट किट्स के रखरखाव, उसके संचालन और जांच की यूज के लिए कुछ कठोर गाइडलाइंस हैं. अगर कोई प्रोफ़ेशनल व्यक्ति टेस्ट किट के दिए दिशानिर्देशों के अनुसार जांच नहीं करेगा, तो टेस्ट रिज़ल्ट में वेरीएशन आएगा.”

उन्होंने इसको बनाने वाली कम्पनियों के बारे में कहा,

“इसको बनाने वाली कम्पनियों ने रैपिड टेस्ट किट के लिए National Medical Products Administration of China (NMPA) से सर्टिफ़िकेट प्राप्त किया है. इंडिया के ICMR के अधीन आने वाले नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ वायरोलॉजी द्वारा भी इसकी जाँच और इसे अनुमति दी गयी थी. इसी टेस्ट किट को यूरोप, एशिया और लैटिन अमेरिका के देशों में भेजा गया, और वहाँ पर इसका इस्तेमाल भी हो रहा है.”

मतलब सारा ठीकरा टेस्ट किट के रखरखाव और जांच करने के तरीक़े पर. सबकुछ भारत के मत्थे.


कोरोना ट्रैकर :

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

वकील ने बताया, जेल में किस तरह कटे रिया चक्रवर्ती के 28 दिन

वकील ने बताया, जेल में किस तरह कटे रिया चक्रवर्ती के 28 दिन

ये भी पढ़िए, सुशांत के परिवार पर वकील ने क्या बड़ा आरोप लगाया.

मल्लिका शेरावत को क्यों कहना पड़ा कि समाज में महिलाओं का जीना दुश्वार है

मल्लिका शेरावत को क्यों कहना पड़ा कि समाज में महिलाओं का जीना दुश्वार है

सवाल उठे तो मल्लिका का गुस्सा फूट पड़ा

हाथरस के आरोपियों ने जेल से चिट्ठी लिखकर विक्टिम के परिवार पर क्या आरोप लगाए हैं?

हाथरस के आरोपियों ने जेल से चिट्ठी लिखकर विक्टिम के परिवार पर क्या आरोप लगाए हैं?

मुख्य आरोपी ने एसपी को चिट्ठी लिखकर न्याय की मांग की है.

वीडियो : हार में भी चेन्नई फैंस को सुकून देगा जडेजा और डु प्लेसी का ये कारनामा

वीडियो : हार में भी चेन्नई फैंस को सुकून देगा जडेजा और डु प्लेसी का ये कारनामा

IPL के दो बेस्ट फील्डर्स की जुगलबंदी जरूर देखें.

IPL 2020: चेन्नई की हार में भी धोनी का यह कारनामा याद किया जाएगा!

IPL 2020: चेन्नई की हार में भी धोनी का यह कारनामा याद किया जाएगा!

कहीं न कहीं, कुछ न कुछ तो कर ही देते हैं धोनी.

वो एक गेंद, जिसके बाद SRK बोले होंगे- 'डॉन' की टीम को हराना आसान नहीं

वो एक गेंद, जिसके बाद SRK बोले होंगे- 'डॉन' की टीम को हराना आसान नहीं

अब खुद को क्या दिलासा दे रहे होंगे CSK फैंस?

गोल्ड स्मगलिंग केस: आरोपियों को जमानत मिली, तब जाकर ED ने चार्जशीट दाखिल की

गोल्ड स्मगलिंग केस: आरोपियों को जमानत मिली, तब जाकर ED ने चार्जशीट दाखिल की

स्वप्ना सुरेश के खिलाफ तय समय में कस्टम विभाग चार्जशीट दाखिल करने में नाकाम रहा.

नगालैंड के पूर्व गवर्नर और CBI डायरेक्टर रहे अश्विनी कुमार का शव फंदे से लटकता मिला

नगालैंड के पूर्व गवर्नर और CBI डायरेक्टर रहे अश्विनी कुमार का शव फंदे से लटकता मिला

बताया जाता है कि वे पिछले कुछ समय से डिप्रेशन में थे.

कंगना ने अवॉर्ड वापस करने की मांग करने वालों को क्या जवाब दिया?

कंगना ने अवॉर्ड वापस करने की मांग करने वालों को क्या जवाब दिया?

कंगना ने कहा था कि अगर सुशांत के बारे में उनका दावा गलत निकला, तो वो अवॉर्ड वापस कर देंगी.

IPL 2020 से तीन दिन में तीन धाकड़ खिलाड़ी बाहर, तीनों की वजह एक है

IPL 2020 से तीन दिन में तीन धाकड़ खिलाड़ी बाहर, तीनों की वजह एक है

आईपीएल को लग गई किसकी नज़र!