Submit your post

Follow Us

हिंदू युवा वाहिनी के नेता की गाड़ी ने गाय के बछड़े को कुचला

यूपी में हिंदू युवा वाहिनी है, जिसे योगी आदित्यनाथ ने बनाया था. इस वाहिनी के एक नेता पर इल्ज़ाम लगा है कि उसने गाय के बछड़े को टक्कर मार दी. गाड़ी में बैठे लोगों ने रुकने के बजाए गाड़ी को भगाना शुरू कर दिया. मौके पर मौजूद लोगों का कहना है कि बछड़ा करीब 20 मीटर दूरी तक घिसटता चला गया. जब भीड़ जमा हुई तो उसमें बैठे लोग गाड़ी को मौके पर ही छोड़कर फरार हो गए. यह घटना लखनऊ के निवादा इलाके के जानकीपुरम में हुई.

हिंदू युवा वाहिनी एक हिंदुत्ववादी संगठन है. गोरक्षा इसके प्रमुख मकसदों में से एक है. जिस बछड़े को टक्कर मार गई, उसकी मालकिन राजरानी ने अज्ञात लोगों के खिलाफ FIR कराई है.

‘इंडियन एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट के मुताबिक, राजरानी का कहना है कि शाम करीब 7:30 बजे युवा वाहिनी के लोगों की एक गाड़ी शराब के ठेके के पास से चली थी. उस गाड़ी ने उनकी गाय के साथ जा रहे बछड़े को चपेट में ले लिया. गाड़ी बछड़े को कुचलते हुए 20 मीटर तक घसीटते ले गई. वो भागने की कोशिश में थे. और जब गाड़ी आगे नहीं बढ पाई तो ड्राइवर ने गाड़ी रोक दी और उसमें जितने लोग बैठे थे, सब मौके से भाग गए.

राजरानी के बेटे अश्विनी का दावा है कि ड्राइवर शराब के नशे में था. गाड़ी से शराब की बोतलें भी मिली हैं. बछड़े को घसीटे जाने से लोग भड़क गए और शराब की दुकान के पास जाकर प्रदर्शन किया.

जानकीपुरम के पुलिस अफसर सतीश कुमार सिन्हा का कहना है कि बेजुबान जानवर की हत्या के इल्ज़ाम में सभी आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है. कार मालिक के बारे में जांच की जा रही है. गाड़ी के मालिक का जैसे ही पता चलता है, उसे हिरासत में लिया जाएगा.

जानकीपुरम के कुछ लोगों का कहना है कि यह गाड़ी लखनऊ जिले के हिंदू युवा वाहिनी के नेता अखंड प्रताप की है. जबकि युवा वाहिनी का कहना है कि उन्हें इस पूरे मामले की कोई जानकारी नहीं है. हालांकि संगठन के किसी नेता के दोषी पाए जाने पर उसके खिलाफ कार्रवाई की बात उन्होंने कही है. ‘इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक अखंड प्रताप अपने घर पर नहीं है. उसकी बहन का कहना है कि बुधवार को ही वह सीतापुर चले गए थे.


ये भी पढ़िए :

गौरक्षकों ने जिन्हें मार डाला, वो गौ तस्कर नहीं, दूध बेचने वाले किसान थे

123 साल पहले हुआ गाय के नाम पहला दंगा, पहली बार मुसलमान कांग्रेस से भागे थे

योगी ने बताया कि उन्हें किसने कहा था, ‘आपको कल ही यूपी का सीएम बनना है’

जानवरों के साथ बूचड़खाने से ज़्यादा हिंसा यहां होती है

उत्तर प्रदेश में आधे से ज्यादा लाइसेंसी बूचड़खाने भी बंद हो गए

योगी पर राय बनाने से पहले वैध और अवैध बूचड़खानों का फर्क समझ लो

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

हाथरस केस: एसपी और सीओ सस्पेंड, जानिए डीएम का क्या हुआ?

हाथरस केस: एसपी और सीओ सस्पेंड, जानिए डीएम का क्या हुआ?

सभी पक्ष-विपक्ष वालों का पॉलीग्राफी टेस्ट भी होगा.

हाथरस केस: यूपी पुलिस को किसी को भी गांव में जाने से रोकने का बहाना मिल गया है!

हाथरस केस: यूपी पुलिस को किसी को भी गांव में जाने से रोकने का बहाना मिल गया है!

खबर है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पीड़ित परिवार से मिलने जाने वाले हैं.

सभी आरोपियों को बरी करते हुए कोर्ट ने कहा - इन्होंने बाबरी मस्जिद को बचाने की कोशिश की थी

सभी आरोपियों को बरी करते हुए कोर्ट ने कहा - इन्होंने बाबरी मस्जिद को बचाने की कोशिश की थी

आ गया है 28 साल पुराने मामले में फ़ैसला

हाथरस के कथित गैंगरेप मामले पर विराट कोहली ने क्या कहा?

हाथरस के कथित गैंगरेप मामले पर विराट कोहली ने क्या कहा?

अक्षय कुमार ने भी ट्वीट किया है.

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

तो क्या इस वक़्त देश के पास अर्थव्यवस्था सही करने का सिर्फ़ एक बटन बचा है?

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा-

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा- "बातें याद रहेंगी"

जसवंत सिंह अटल सरकार के कद्दावर मंत्रियों में से थे.

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

सबकी उम्मीदें शुभमन गिल से लगी है.

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

दो दिन से बवाल चल रहा है.

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

और यह जानकारी ख़ुद सरकार ने दी है.

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

कई ट्रेनों को कैंसिल किया गया, कई के रूट बदले गए.