Submit your post

Follow Us

हिमाचल: किन्नौर लैंडस्लाइड में अब तक 10 की मौत, 40 से ज्यादा फंसे, कई गाड़ियां नदी में गिरीं

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में बड़ा हादसा हुआ है. बुधवार 11 अगस्त को लैंडस्लाइड के कारण पहाड़ से गिरी चट्टानों के मलबे में यात्रियों से भरी एक बस और कुछ अन्य गाड़ियां दब गईं. किन्नौर जिले के चौरा में नेशनल हाइवे पर ये हादसा हुआ है. ITBP के 300 जवान रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटे हुए हैं. आजतक/इंडियाटुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक 14 लोगों को अभी तक बचाया जा चुका है, वहीं 10 लोगों की मौत हो गई है. अभी भी मलबे में कई लोग फंसे हुए हैं जिनकी संख्या 40 तक होने की आशंका जताई जा रही है.

Himachal3
बचाव करने पहुंची टीमें और मलबे में दबी एक कार. फोटो- आजतक

इस हादसे में लापता हुए लोगों के परिजनों के लिए किन्नौर पुलिस ने एक हेल्पलाइन नंबर (1786222873) जारी किया है. समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक ITBP के अधिकारी विवेक पांडे ने कहा,

“ये घटना करीब दोपहर 12 बजे की है. मौके पर 6 गाड़ियां फंसी हुई हैं, इसके साथ ही 4 गाड़ियां और फंसी हुई हैं. मौके पर हमारी 3 बटालियन के करीब 200 जवान मौजूद हैं. वहां लगभग 40 लोग फंसे हुए हैं जिन्हें हमारी टीम निकालने की कोशिश कर रही है.”

Himachal2
मलबे की चपेट में आए एक वाहन की स्थिति. फोटो- आजतक

आजतक की एक रिपोर्ट के मुताबिक विवेक पांडे ने बताया कि पहाड़ से पत्थर बहुत तेजी से गिरते हुए आए थे. जहां हादसा हुआ है, वो 50 से 60 मीटर का स्लोप एरिया है जो नदी की तरफ जाता है. आज मौसम बिलकुल साफ था. ऐसे हादसे का अंदेशा नहीं था.

Himachal1
मलबे में दबी कार. फोटो- आजतक

ताजा जानकारी के मुताबिक बस ड्राइवर समेत 14 लोगों को मलबे से बाहर निकाल लिया गया है. बाहर निकलने के बाद ड्राइवर ने बताया कि कुछ वाहन सतलुज नदी में भी गिर गए हैं. कुल कितने वाहन लैंडस्लाइड में दबे हैं और कितने नदी में गिर गए हैं इसकी जांच की जा रही है. सर्च ऑपरेशन जारी है लेकिन मलबे और पहाड़ से गिरते पत्थरों के कारण रेस्क्यू ऑपरेशन में परेशानियां भी आ रही हैं.

Himachal4
रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी टीमें. फोटो- आजतक

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में ये हादसा हुआ है. रिकांग पियो-शिमला राजमार्ग पर दोपहर 12 बजे के करीब अचानक लैंडस्लाइड हुआ. इस दौरान सड़क पर जो वाहन थे वे इसकी चपेट में आ गए. अधिकारियों के मुताबिक, हिमाचल रोडवेज़ की जो बस मलबे में फंसी है, उसमें करीब 40 यात्री थे. ये बस किन्नौर से हरिद्वार जा रही थी. इसी बीच पहाड़ दरक गया और ऊपर से चट्टानें गिरने लगीं.

Himachal5
मलबे में लोगों की तलाश करती रेस्क्यू टीम. फोटो- आजतक

इससे पहले डिप्टी कमिश्नर आबिद हुसैन सादिक ने कहा था कि ऐसी आशंका है कि बस में सवार लोग इस मलबे में दबे हुए हैं. नई जानकारी के मुताबिक बस का पता अभी तक नहीं चल सका है. 300 मीटर गहरी खाई में भी बस की तलाश की जा रही है.

पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने ली जानकारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना की जानकारी मिलने पर हिमाचल प्रदेश के सीएम जयराम ठाकुर से बातचीत की और किन्नौर में हुए लैंडस्लाइड के बारे में जानकारी ली. पीएम ने रेस्क्यू ऑपरेशन में हर संभव मदद का आश्वासन दिया है. पीएम मोदी के अलावा गृह मंत्री अमित शाह ने हिमाचल के सीएम से फोन पर बात करके हालात का जायजा लिया. गृह मंत्री ने ITBP के डीजी से हरसंभव मदद मुहैया कराने का निर्देश भी दिया है.

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बताया कि अभी जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक बस मलबे में दबी है. साथ ही छोटी गाड़ियां भी मलबे में हो सकती हैं. NDRF की टीमों को अलर्ट पर रखा गया है. उन्होंने कहा कि

“निगुलसेरी, किन्नौर में भूस्खलन होने से मलबे में वाहनों के दबने का समाचार सुनकर बहुत दुखी हूं. हमने किन्नौर प्रशासन को राहत-बचाव कार्य के निर्देश दे दिए हैं. मलबे में दबे लोगों को सुरक्षित निकालने के हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं. प्रभावितों को हरसंभव सहायता प्रदान की जाएगी.”

पिछले कुछ वक्त से पहाड़ों पर लैंडस्लाइड की घटनाएं बढ़ रही हैं. 25 जुलाई को भी हिमाचल में लैंडस्लाइड की घटना हुई थी जिसमें 9 लोगों की मौत हो गई थी. पहाड़ से चट्टानें एक टेंपो ट्रैवलर पर गिर गई थीं. हिमाचल के कांगड़ा और धर्मशाला में तेज बहाव वाले पानी में गाड़ियां बह गई थीं. मई के महीने में चंबा इलाके में बेहद तेज बारिश के कारण सड़कों के बह जाने और गाड़ियों के मलबे में दब जाने के वीडियो सामने आए थे.


वीडियो- जम्मू-कश्मीर और हिमाचल में बादल फटने के बाद आई बाढ़ से भारी तबाही, कइयों की मौत, दर्जनों लापता

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.