Submit your post

Follow Us

गुजरात : धोखाधड़ी का केस होने के बाद BJP नेता ने की आत्महत्या की कोशिश

गुजरात का सूरत. यहां के भाजपा के ज़िला उपाध्यक्ष पीवीएस शर्मा के खिलाफ़ धोखाधड़ी और जालसाज़ी का मुक़दमा दर्ज हुआ. दर्ज होने के दो दिन बाद ही शर्मा ने आत्महत्या की कोशिश की. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक़, शर्मा ने नवसारी ज़िले में अपने दोस्त के घर फ़ांसी लगाकर आत्महत्या की कोशिश की. पुलिस के मुताबिक़, शर्मा के ड्राइवर वेंकटेश ने उन्हें फंदे से झूलता हुआ देखा, और तुरंत लेकर अस्पताल गया. डॉक्टरों के मुताबिक़, शर्मा अभी ख़तरे से बाहर हैं.

नवसारी ग्रामीण पुलिस के इंस्पेक्टर प्रशांत ब्रहमभट्ट ने कहा है कि वो PVS शर्मा के आत्महत्या की कोशिश के मामले की जांच कर रहे हैं. 

14 नवंबर को आयकर विभाग ने शर्मा के खिलाफ़ धोखाधड़ी और जालसाज़ी का केस दर्ज किया था. उन पर आरोप है कि उन्होंने अपने दो अख़बारों के प्रिंट सर्कुलेशन की गिनती में घपला किया. आरोपों के मुताबिक़, शर्मा ने अपने अख़बारों के सर्कुलेशन को बढ़ाकर दिखाया, जिससे उन्हें सरकार और विज्ञापन दाताओं से 2.70 करोड़ के विज्ञापन मिले.

सूरत के आयकर विभाग की जांच विंग के डिप्टी डायरेक्टर पमैया केडी ने पीवीएस शर्मा, बिज़नेस पार्टनर सीताराम अडुकिया और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ़ 14 नवंबर को शिकायत दर्ज की थी. शिकायत में पमैया ने आरोप लगाए थे कि शर्मा और अडुकिया मिलकर गुजराती और अंग्रेज़ी में सत्यम टाइम्स नाम का अख़बार निकालते हैं. साल 2008-2009 और 21 अक्टूबर 2010 के बीच में, इन लोगों ने अख़बार छापने के लिए कच्चा माल महेश ट्रेडिंग कम्पनी और दूसरे लोगों से ख़रीदा था. इसके लिए कुल 3.98 करोड़ रुपए चुकाए गए थे. लेकिन शिकायत के मुताबिक़, महेश ट्रेडिंग कम्पनी नाम की कोई कम्पनी ही नहीं है. और कम्पनी के पते का मालिकाना शर्मा के सहयोगी अडुकिया के पास है.

साथ ही आरोप ये भी है कि छापेखाने के रिकार्ड रजिस्टर पर शर्मा और अडुकिया ने अख़बार के गुजराती एडिशन की संख्या 23,500 बताई थी, जबकि अंग्रेज़ी एडिशन की संख्या 6,000 बताई थी. आरोप है कि शर्मा और अडुकिया ने विज्ञापन के लिए संख्या को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया. शिकायत के मुताबिक़, गुजराती एडिशन की असल संख्या 600 और अंग्रेज़ी एडिशन की असल संख्या 290 प्रति की ही थी. लेकिन फ़र्ज़ी दस्तावेज़ों के आधार पर, केंद्र सरकार से 70 लाख के विज्ञापन लिए गए और दूसरी विज्ञापन एजेंसियों से लगभग 2 करोड़ के विज्ञापन लिए गए.

शर्मा ख़ुद लम्बे समय तक आयकर विभाग में अधिकारी रह चुके हैं. 1990 से 2007 तक. 2007 में उन्होंने VRS ले लिया, और भाजपा के साथ जुड़कर राजनीति शुरू कर दी. ख़बरों के मुताबिक़ पार्टी के IT सेल के इंचार्ज भी हैं. ख़ुद पर लगे आरोपों पर बीते दिनों शर्मा ने कहा था कि आरोप बेबुनियाद हैं. और वे चाहते हैं कि इस केस की जांच CBI या ED द्वारा करायी जाए.

पूरी जानकारी के लिए वीडियो देखेंः

बीजेपी नेता ने नोटबंदी में घोटाले पर ट्वीट किया, दो दिन बाद ही नेता के घर पर ही छापा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

सांसद रीता बहुगुणा जोशी की छह साल की पोती की पटाखों से जल कर मौत

प्रयागराज में हुई घटना.

GST चोरी के गोरखधंधे पर लगाम के लिए शुरू हुआ महाअभियान

सरकार अब COFEPOSA के तहत कार्रवाई करने की तैयारी में है.

क्या था नीतीश के नए मंत्री का वह पुराना केस, जिसने JDU से बाहर करा दिया था?

मेवालाल चौधरी के खिलाफ ये केस भागलपुर कोर्ट में पेंडिंग है

टीम इंडिया के खिलाड़ी नेट्स पर ये किस तरह की प्रैक्टिस कर रहे हैं?

टीम इंडिया इन दिनों ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर है.

बीच सड़क गब्बर बन स्टाइल मारना दारोगा जी को महंगा पड़ा

.... बेटा रोना मत डांगी आ जाएगा.

राहुल को नर्वस बताने वाली ओबामा की किताब में PM मोदी के लिए और बड़ा सरप्राइज़ है!

क्या ये बात मोदी जी को पता है?

नीतीश कुमार को 7वीं बार शपथ लेने पर मिलीं ये बधाइयां जीवनभर याद रहेंगी

राजनैतिक विरोधियों ने खास अंदाज में दी है बधाई

IPL 2021 से पहले ये T20 टूर्नामेंट कराएगा BCCI

IPL टीमों के फायदे की बात.

बिहार में हार के बाद कपिल सिब्बल ने कांग्रेस आलाकमान पर बड़ी बात कह दी

आलाकमान को नागवार गुजर सकती है सिब्बल की 'सलाह'.

लड़की ने छेड़खानी का विरोध किया तो जिंदा जला दिया, दबंगों पर लगा आरोप

बिहार के वैशाली की घटना, 15 दिन अस्पताल में रही लड़की की मौत