Submit your post

Follow Us

गगनयान प्रोजेक्ट के लिए ISRO ने जितना पैसा मांगा, मोदी सरकार ने उसका आधा भी नहीं दिया!

गगनयान. भारत का पहला अंतरिक्ष मानव मिशन. मतलब वो प्रोजेक्ट, जिसे ‘महत्वाकांक्षी’ की कैटेगरी में रखते हैं. इसके बावजूद बहुत ‘महत्व’ नहीं दिया जा रहा है. गगनयान के लिए इंडियन स्पेस एंड रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (ISRO) ने इस बार के बजट (2020-21) में जितना पैसा मांगा था, उसका सिर्फ 30 फीसदी ही फंड मिला है. ISRO का लक्ष्य 2022 तक अंतरिक्षयात्रियों और क्रू मेंबर्स को स्पेस में भेजना है.

संसदीय समिति ने बजट बढ़ाने की बात कही

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, 2020-21 वर्ष के लिए ISRO ने इस मिशन पर 4,257 करोड़ रुपए के खर्च का आकलन किया था, लेकिन 1200 करोड़ रुपए ही मिले. डिपार्टमेंट से जुड़ी साइंस एंड टेक्नोलॉजी, पर्यावरण,वन और जलवायु परिवर्तन पर संसदीय समिति ने शुक्रवार, 6 मार्च को रिपोर्ट पेश की. इसमें कहा गया कि, गगनयान प्रोजेक्ट काफी प्रतिष्ठित राष्ट्रीय प्रयास है, जिसकी ग्लोबल वैल्यू है. लेकिन 2020-2 1 के लिए बजट एलोकेशन इसके महत्व को नहीं दिखाता है.’ समिति ने सिफारिश की है कि गगनयान प्रोग्राम के तहत बजट का आवंटन 3000 करोड़ रुपए तक बढ़ाया जाए, जैसा कि स्पेस डिपार्टमेंट ने कहा था.

तैयारियां चल रही हैं

दिसंबर 2018 में कैबिनेट की तरफ से क्लियर किए बजट के मुताबिक, गगनयान की कुल लागत 10,000 करोड़ रुपए है.  ISRO ने पहले ही ग्राउंड टेस्ट किया है. चार अंतरिक्षयात्रियों की रूस में स्पेस फ्लाइट ट्रेनिंग हुई है. कई राष्ट्रीय संस्थाओं की मदद से मेडिकल किट, हेल्थ मॉनिटरिंग सिस्टम, इमरजेंसी सरवाइवल किट, फायर सप्रेशन सिस्टम जैसी चीजें बनाई जा रही हैं. इसके अलावा फ्रेंच स्पेस एजेंसी CNES की मदद से तीन हफ्ते की फ्लाइट सर्जन ट्रेनिंग हुई है. ISRO ने क्रू इस्केप सिस्टम के लिए नए साधन का प्रयोग किया है. ISRO ने 2020 के अंत तक दो मानवरहित फ्लाइट का प्लान बनाया है.

ISRO चीफ के सिवन ने बताया था कि गगनयान मिशन की वजह से देश में 15,000 नई नौकरियां पैदा होंगी.
ISRO चीफ के सिवन ने बताया था कि गगनयान मिशन की वजह से देश में 15,000 नई नौकरियां पैदा होंगी.

गगनयान प्रोजेक्ट के बारे में

15 अगस्त, 2018 को पीएम मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर प्रोजेक्ट गगनयान को लॉन्च करने का ऐलान किया था. मिशन के तहत भारत के तीन लोग सात दिनों तक अंतरिक्ष में रहेंगे. मिशन में रूस और फ्रांस भारत की सहायता कर रहे हैं. भारत इस उपलब्धि को हासिल करने वाला दुनिया का चौथा देश होगा. हादसा होने की स्थिति में अंतरिक्ष यात्री कैप्सूल में बैठकर पृथ्वी की कक्षा में सुरक्षित पहुंच सकेंगे. इसे ISRO ने ही बनाया है. ISRO मानव क्रू मॉड्यूल और पर्यावरण नियंत्रण के साथ ही जान बचाने की टेक्नोलॉजी विकसित कर चुका है. 2022 में गगनयान को भेजने के अलावा ISRO जियोसिंक्रोनस सेटेलाइट लांच व्हीकल मार्क-III (GSLV Mark-III) का इस्तेमाल करते हुए दो और मानवरहित मिशन भेजेगा.


इसरो के मिशन गगनयान की 15 बातें, जिन्हें आप नहीं जानते होंगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित जसराज नहीं रहे

पिछले कुछ समय से अमेरिका में रह रहे थे.

प. बंगाल: विश्व भारती यूनिवर्सिटी में जबरदस्त हंगामा, उपद्रवियों ने ऐतिहासिक ढांचे भी ढहाए

एक फेमस मेले ग्राउंड के चारों तरफ दीवार खड़ी की जा रही थी.

धोनी के 16 साल के क्रिकेट करियर की 16 अनसुनी बातें

धोनी ने रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया है.

धोनी के तुरंत बाद सुरेश रैना ने भी इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा

इंस्टाग्राम पोस्ट के ज़रिए रिटायरमेंट की बात बताई.

धोनी क्रिकेट से रिटायर, फैंस ने बताया, एक जनरेशन में एक बार आने वाला खिलाड़ी

एक इंस्टाग्राम पोस्ट करके विदा ले ली धोनी ने.

गुजरात सरकार ने पीएम मोदी की फसल बीमा योजना को सस्पेंड क्यों कर दिया?

मोदी सरकार इस योजना की खूब बातें करती थीं.

कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी की हार्ट अटैक से मौत

राजीव त्यागी टीवी का जाना माना चेहरा बन चुके थे.

बेंगलुरु में फेसबुक पोस्ट को लेकर हिंसा, कांग्रेस विधायक का घर और थाने में गाड़ियां फूंकी

तीन लोगों की मौत, 60 से ज्यादा पुलिसवाले घायल.

मशहूर शायर राहत इंदौरी नहीं रहे, कोरोना पॉज़िटिव थे

अलविदा!

आ गयी कोरोना की पहली वैक्सीन, इस लड़की ने लगवाया पहला डोज़

कैसे बनाई गयी है?