Submit your post

Follow Us

सचिन और गांगुली के अंडर खेला ये प्लेयर तय करेगा कि टीम इंडिया में कौन खेलेगा

हरभजन सिंह ने 1998 में इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया. वो अनिल कुंबले का दौर था. हरभजन से पहले एक और स्पिनर टीम इंडिया में आया. सुनील जोशी. विकेटों के मामले में बड़ा मुकाम हासिल नहीं कर सके. लेकिन अब उन्हें टीम इंडिया की बड़ी जिम्मेदारी मिल गई है. क्रिकेट एडवाइजरी कमिटी ने सुनील जोशी को भारतीय पुरुष टीम की राष्ट्रीय चयन समिति का मुख्य चयनकर्ता चुना है.

भारत रत्न पंडित भीमसेन जोशी के रिश्तेदार सुनील जोशी को एमएसके प्रसाद की जगह चुना गया है.

BCCI सेक्रेटरी जय शाह ने बताया,

”कमिटी ने सुनील जोशी को सीनियर मेन्स चयन समिति के चेयरपर्सन के रूप में चुना है. एक साल के बाद CAC इन कैंडिडेट्स के काम का रीव्यू करेगी और BCCI को बताएगी.”

जोशी के साथ ही पूर्व तेज़ गेंदबाज़ हरविंदर सिंह को भी पांच सदस्यीय चयन समिति में जगह मिली है. हरविंदर सिंह को सेंट्रल ज़ोन की तरफ से चुना गया है. उन्हें पांच सदस्यीय पैनल में पूर्व चयनकर्ता गगन खोड़ा की जगह चुना गया है. इन दोनों के अलावा पैनल के बाकी तीन सदस्य पुराने ही हैं. जिनके नाम हैं जतेन परांजे, देवांग गांधी और सरनदीप सिंह.

सीएसी के सदस्य मदन लाल ने इस चयन के बाद कहा, ”हमने इस काम के लिए सर्वश्रेष्ठ सदस्यों को चुना है.”

आपको बता दें कि सीएसी ने इंटरव्यू के लिए पांच सदस्यों को शॉर्ट लिस्ट किया था. जिनमें सुनील जोशी और हरविंदर सिंह के अलावा वेंकटेश प्रसाद, राजेश चौहान और लक्ष्मण सिवारामाकृष्णन के नाम शामिल थे.

क्रिकेट एडवाइज़री कमिटी में मदद लाल के अलावा तेज़ गेंदबाज़ आरपी सिंह और सुलक्षणा नाईक शामिल हैं.

सुनील जोशी पांच सदस्यीय चयन समिति में सबसे सीनियर भारतीय खिलाड़ी हैं. उन्होंने टीम इंडिया के लिए 15 टेस्ट और 69 वनडे मैच खेले हैं. इस लेफ्ट आर्म स्पिनर ने 1992 से 2010 तक फर्स्ट-क्लास क्रिकेट खेला. जोशी ने अपना पहला रणजी मैच 1992 में हैदराबाद के खिलाफ खेला था. उस मैच में जोशी ने 8वें नंबर पर बैटिंग करते हुए 86 रन बनाए थे जिसमें दिग्गज स्पिनर अरशद अयूब की गेंदो पर 5 छक्के भी शामिल थे. यह मैच बाबरी मस्जिद विध्वंस की वजह से हुए दंगों के कारण सिर्फ 2 दिन ही हो पाया था.

1996-97 के दौर में भारत और कर्नाटक, दोनों का बोलिंग अटैक लगभग सेम ही हुआ करता था। श्रीनाथ, वेंकटेश प्रसाद, डोडा गणेश, डेविड जॉनसन, अनिल कुम्बले, सुनील जोशी – ये सब कर्नाटक के ही थे। उस दौर में कर्नाटक रणजी चैंपियन था। जोशी  ने फर्स्ट-क्लास क्रिकेट में कुल 615 विकेट अपने नाम किए. भारतीय टीम के लिए उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन वनडे में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ साल 1999 में आया. जोशी ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ छह रन देकर पांच विकेट चटकाए थे.

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चुनी जाने वाली टीम की जिम्मेदारी अब इस नई चयनसमिति पर होगी.


1967-68 में चार दिन में टेस्ट जीती टीम इंडिया को नहीं मिली पूरी मैच फीस 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पैंगोंग और गलवान के बाद लद्दाख के इन इलाकों में चीन नई मुसीबत खड़ी कर रहा है

भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ता ही जा रहा है.

राजस्थान में महाराणा प्रताप को लेकर फिर से हंगामा क्यों हो रहा है?

फिर से राजस्थान बोर्ड का सिलेबस चर्चा में है.

पतंजलि ने खांसी-सर्दी की दवा के लाइसेंस पर 'कोरोना की दवा' बना दी!

जारी हो गया है नोटिस

जिस वीडियो में भारत-चीन के सैनिक एक-दूसरे पर मुक्के बरसा रहे हैं, उसका सच क्या है?

वीडियो कब का है, कहां का है?

इंग्लैंड टूर से पहले पाकिस्तान के तीन क्रिकेटर कोविड पॉज़िटिव

अहम टूर से पहले पाकिस्तान को लगा झटका.

पटना के बैंक में दिन-दहाड़े 52 लाख रुपए की डकैती

अपराधियों ने बैंक में लगे CCTV की हार्ड डिस्क तोड़ दी.

अब लद्दाख की पैंगोंग झील के पास चीन की हरकत, भारतीय क्षेत्र में बना रहा है बंकर

सैटेलाइट इमेज एक्सपर्ट की बातें यही इशारा कर रही हैं.

भारतीय सेना के पूर्व अधिकारियों ने किस बात पर आपस में भयानक झगड़ा फ़ान लिया?

गौरव आर्या ने भीड़ से पिट जाने की बात कह डाली.

रेलवे की नौकरी के भरोसे न बैठें, रेलवे की जेबें खाली हैं!

कोरोना लॉकडाउन ने रेलवे का हाल खस्ता कर दिया है.

गलवान घाटी में भारत से लड़ाई पर चीन के लोग किस-किस तरह के सवाल उठा रहे हैं?

चीनी टि्वटर 'वीबो' पर कई पोस्ट लिखी गई हैं.