Submit your post

Follow Us

विदेशी मीडिया ने भारत सरकार की आलोचना की तो विदेश मंत्री ने अपनी टीम को काम पर लगा दिया!

ऑस्ट्रेलिया का एक अख़बार है ‘द ऑस्ट्रेलियन’. हाल ही में उसने भारत में कोविड-19 की स्थिति और स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी पर लिखा था –

Modi leads India into Viral Apocalypse

यानी – मोदी की वजह से भारत क़यामत की स्थिति में पहुंच गया है.

अख़बार ने प्रधानमंत्री मोदी को ‘भीड़ से प्यार करने वाला’ बताया. ये भी लिखा कि घमंड, उग्र-राष्ट्रवाद और अफ़सरों की अक्षमता ने मिलकर भारत में असाधारण स्तर का संकट खड़ा कर दिया है.

बाकी तमाम देशों का मीडिया भी भारत में बिगड़े हालातों को लेकर मुखर रहा और केंद्र सरकार के रवैये को इसके लिए ज़िम्मेदार ठहराया. अब देश के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपनी टीम को निर्देश दे दिए हैं कि विदेश मीडिया की इस तरह की कवरेज को ‘काउंटर’ करना है. विदेश मंत्री के अलावा बैठक में विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन, विदेश सचिव हर्ष श्रींगला भी मौजूद थे.

“विदेशी मीडिया एकतरफा रिपोर्टिंग कर रहा”

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के मुताबिक विदेश मंत्री ने 29 तारीख़ को तमाम भारतीय राजदूतों और उच्चायुक्तों से बात की. इस वर्चुअल मीटिंग में एस जयशंकर का कहना रहा कि विदेश मीडिया ने भारत में कोविड के हालातों पर जो रिपोर्टिंग की है, वो एकतरफा और भेदभाव से पूर्ण रही. विदेश मंत्री ने निर्देश दिए कि आगे इस तरह की रिपोर्टिंग होने पर तत्काल उसका जवाब दिया जाए और सरकार की तरफ से किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी जाए.

उन्होंने कहा कि संबंधित अधिकारी ये बात मजबूती से सामने रखें कि सरकार कोविड-19 के बीच किस तरह से ऑक्सीजन की कमी को पूरा कर रही है. ये बताएं कि कंसंट्रेटर, सिलेंडर, दवाइयां, वेंटिलेटर, वैक्सीन वगैरह की आपूर्ति पर कैसे ध्यान दिया जा रहा है.

जयशंकर बोले- दबाव में न आएं

इंडियन एक्सप्रेस ने मीटिंग में शामिल अधिकारियों के हवाले से लिखा है कि एस जयशंकर ने मीटिंग में स्पष्ट कर दिया कि अगर किसी देश का मीडिया भारत को लेकर नकारात्मक बात लिखता है तो उसके दबाव में आने की ज़रूरत नहीं है. बल्कि वहां मौजूद भारतीय प्रतिनिधियों को दोगुनी ताकत से भारत सरकार का पक्ष रखना चाहिए. विदेश मंत्री ने कहा कि कोविड एक अभूतपूर्व समस्या सामने आई है. इसके सामने बड़े-बड़े देशों के सिस्टम बैठ गए. इसलिए कोई भी ऐसा कतई न सोचे कि केवल भारत में ही स्थितियां ख़राब हुई हैं.

विदेशी मीडिया ने क्या लिखा था?

द ऑस्ट्रेलियन के अलावा ब्रिटिश अख़बार ‘द गार्डियन’ ने अपने संपादकीय में सीधे-सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार बताया है. अख़बार ने लिखा कि कोरोना से निपटने में भारत की विफ़लता का कारण मोदी का अति-आत्मविश्वास है.

टाइम मैगज़ीन ने लिखा- ‘ये नरक है. प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व की विफ़लता ने भारत का कोरोना संकट और गहरा कर दिया है.’

वॉशिंगटन पोस्ट ने लिखा कि इस तबाही से बचा जा सकता था. संक्रमण के खतरे के बीच स्टेडियम्स, कुंभ और चुनावी रैलियों की भीड़ ने सब बर्बाद कर दिया.


इंडिया में कोरोनावायरस से दो लाख से अधिक की मौत, विदेशी मीडिया ने क्या लिखा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

लगातार हो रही हिंसा की जांच के लिए होम मिनिस्ट्री ने अपनी टीम बंगाल भेज दी है.

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

कीनिया में अपने दोस्त से मिलने गए थे, वहां तेज बुखार आया था.

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

कुछ दिन पहले ही कोरोना से अपने पिता को गंवा दिया.

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.