Submit your post

Follow Us

विदेश मंत्री बोले- लद्दाख में सीमा पर 58 साल बाद सबसे खराब हालात

एस. जयशंकर. भारत के विदेश मंत्री. उन्होंने लद्दाख में भारत-चीन के बीच तनाव पर 27 अगस्त को बयान दिया. कहा कि 1962 के बाद अभी गलवान घाटी में सबसे खराब हालात हैं. 45 साल बाद यहां पर सैनिकों की मौत हुई है. लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर दोनों देशों ने जिस तरह सेना को तैनात कर रखा है, वैसा पहले कभी नहीं हुआ. एस. जयशंकर ने अंग्रेजी वेबसाइट ‘रेडिफ डॉट कॉम’ को इंटरव्यू में ये बयान दिया.

बता दें कि भारत और चीन के बीच लद्दाख में मई महीने से ही तनाव है. यह तनाव जून में काफी गंभीर हो गया था. उस समय गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिक भिड़ गए. इसमें भारत के 20 जवान शहीद हुए. चीन को भी नुकसान होने की खबरें थीं. इस घटना के बाद से तनाव कम करने के लिए कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर बातचीत चल रही है.

विवाद बातचीत से सुलझने की उम्मीद

जयशंकर ने अपनी किताब ‘दी इंडिया वे’ की रिलीज से पहले इंटरव्यू में कहा,

यदि आप पिछले 30 साल पर नज़र डालते हैं, तो यह बात खुद ब खुद सामने आती है कि भारत-चीन के सीमावर्ती इलाकों में शांति रही है. अभी भारत और चीन की सेना पूर्वी लद्दाख में पिछले साढ़े तीन से गंभीर तनाव में शामिल हैं. इस दौरान कई दौर की कूटनीतिक और सैन्य स्तर की चर्चा हो चुकी है. लेकिन यदि आप पिछले 10 साल को देखेंगे, तो पता चलेगा कि सीमा पर देपसांग, चुमार और डोकलाम में हालात बिगड़े हैं. यह सब मामले आपस में अलग-अलग थे. अभी जो हुआ, वह तो पूरी तरह अलग है. लेकिन सबमें एक कॉमन बात है कि सभी सीमाई मसले बातचीत के जरिए सुलझाए गए.

जयशंकर ने कहा कि वे मौजूदा हालात की गंभीरता को कमतर नहीं कर रहे हैं. लेकिन अभी दोनों देशों के बीच बातचीत हो रही है. साथ ही समाधान खोजने के दौरान यह भी ध्यान रखना चाहिए कि सभी समझौतों का पालन किया जाए. साथ ही एकतरफा अंदाज में यथास्थिति को न बदला जाए.

पीएम मोदी को जयशंकर ने दी किताब

जयशंकर ने 25 अगस्त को किताब की एक कॉपी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दी. इस बारे में जयशंकर ने ट्वीट कर लिखा,

अपनी किताब की पहली प्रति पीएम नरेंद्र मोदी को सौंपकर सम्मानित महसूस कर रहा हूं. उन्हें प्रेरणा और प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद कहा.

 

बताया जाता है कि अपनी किताब में जयशंकर ने विदेशी नीति और भारत के सामने मौजूद चुनौतियों और संभावित नीति आधारित उपायों के बारे में लिखा है.


Video: साल भर से 2000 का एक भी नोट नहीं छपा, क्या कुछ बड़ा होने वाला है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.

क्या 73 दिन में कोरोना वैक्सीन आ रही है? बनाने वाली कंपनी ने बताई सच्ची-सच्ची बात

कन्फ्यूजन है कि खुश होना है या अभी रुकना है?

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?