Submit your post

Follow Us

भारत-बांग्लादेश पिंक बॉल टेस्ट के वो पांच मौके जब बल्लेबाज़ों की जान पर बन आई

ईडेन गार्डन्स में पहले डे-नाइट टेस्ट में इशांत शर्मा और विराट कोहली ने शानदार खेल दिखाया है. बांग्लादेश की टीम पूरे मैच में संघर्ष करती नज़र आई, लेकिन ये संघर्ष सिर्फ खेल का ही नहीं बल्कि पिंक गेंद का भी है. क्योंकि इस टेस्ट को बांग्लादेशी बल्लेबाजों के गेंद खाने के लिए याद किया जाएगा.

ईडेन की 22 गज़ की पिच पर वैसे तो पहले भी कई मैच खेले गए हैं, इस पिच पर घास रहती है ये भी दिखा है. लेकिन इस टेस्ट की दोनों पारियों में जिस तरह से इशांत, शमी और उमेश ने घातक गेंदबाज़ी की. उससे बांग्लादेशी खिलाड़ी सिर्फ बचते ही दिखे. मैच के पहले दोनों दिन कुल मिलाकर भारतीय गेंदबाज़ों ने बांग्लादेश के 11 में से पांच बल्लेबाज़ों को घायल कर दिया. जिनमें से लिटन दास को तो मैच से बाहर ही होना पड़ गया. लिटन के अलावा नईम हसन, मोहम्मद मिथुन, इमरुल कायस और मुश्फिकुर रहीम भी तेज रफ्तार गुलाबी गेंद का शिकार बने.

शमी ने लिटन को किया मैच से बाहर:

पहली पारी में शमी ने बांग्लादेशी बल्लेबाजों की नाक में दम कर दिया. उन्होंने 20वें ओवर में लिटन दास के हेलमेट पर तेज़ रफ्तार गेंद दे मारी. जिसके बाद अगले ही ओवर में लिटन पवेलियन लौट गए. वो इस कदर चोटिल हुए कि उन्हें मैच से ही बाहर होना पड़ा. उनकी जगह मेहदी हसन को कनक्यूज़न सब्सटीट्यूट बल्लेबाज़ बुलाया गया.

टीनएजर नईम को लगी गेंद: 

जबकि पहली पारी में ही चाय के बाद शमी ने 18 साल के बल्लेबाज़ नईम को भी नहीं बक्शा. उन्होंने पारी के 23वें ओवर में नईम को एक तूफानी बाउंसर मारी. ये गेंद कहां पड़ी और कहां जा लगी, नईम इसे बिल्कुल भी नहीं समझे. वो भी मैदान पर असहज हो गए. जिसके बाद कप्तान कोहली ने भारतीय फिज़ियो को मैदान पर बुलाया.  लेकिन वो ज्यादा देर नहीं टिक सके.

Virat Naeem Nitin
भारतीय कप्तान विराट कोहली, फिज़ियो नितिन पटेल और बांग्लादेशी बल्लेबाज़ नईम हसन का कोलाज. फोटो: BCCI Twitter

पहली पारी तो छोड़िए. इसके बाद दूसरी पारी में भी बांग्लादेशी बल्लेबाज़ों का हाल ऐसा ही रहा. जहां पहली पारी में मोहम्मद शमी बांग्लादेशियों की परेशानी थे. वहीं दूसरी पारी में इशांत शर्मा और उमेश यादव ने बांग्लादेशियों का खेलना मुश्किल कर दिया.

इशांत का शिकार बने मिथुन: 

दूसरी पारी की शुरुआत ही भारतीय गेंदबाज़ों ने आग उगलती गेंदबाज़ी से की. पारी के 5वें ओवर में इशांत ने एक तेज़ रफ्तार बाउंसर फेंकी. इस बार ये गेंद मोहम्मद मिथुन के हेलमेट पर लगी. गेंद मिथुन के कान के पास वाले हिस्से पर लगी. मिथुन इसके बाद तुरंत पिच से हट गए और अपना हेलमेट उतार दिया. इसके बाद बांग्लादेशी फिज़ियो मैदान पर आए और मिथुन को संभाला. मिथुन को एक नया हेलमेट दिया गया और उन्होंने फिर से खेलना शुरू किया. लेकिन अगले ओवर में ही वो आउट हो गए.

इमरुल की पसलियों में लगी गेंद:

अभी एक ओवर पहले ही इशांत ने मिथुन को गेंद मारी थी, वहीं छठे ओवर में उमेश यादव आ गए. उन्होंने इमरुल कायस को एक तेज़ गेंद सीधे पसलियों में मार दी. इमरुल ने इसके बाद खुद को संभाला. इमरुल इस गेंद को डिफेंड करना चाहते थे. लेकिन वो ठीक से नहीं खेल सके.

मुश्फिकुर का स्वागत भी हेलमेट पर बाउंसर से हुआ:

लेकिन अभी तो दूसरी पारी की शुरुआत थी. पारी के 15वें ओवर में मैदान पर आए नए बल्लेबाज़ मुश्फिकुर रहीम का इस बार गेंद से सामना था. उमेश यादव ने फिर से गेंद पकड़ी और मुश्फिकुर को फेंकी. इस बार 138 कि.मी. प्रतिघंटे की रफ्तार से खतरनाक बाउंसर आई और मुश्फिकुर के हेलमेट पर जा लगी. इसके बाद मुश्फिकुर संभले और अपना हेलमेट उतारा. एक बार फिर से मैच के बीच मैदान पर फिज़ियो दौड़ते हुए आ गए.

हालांकि इसके बाद मुश्फिकुर रहीम ने अपनी टीम की तरफ से मैच की सबसे अच्छी पारी भी खेली.


18 साल के खिलाड़ी को लगा शमी का बाउंसर, विराट कोहली ने ऐसे की मदद

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

एंटी-CAA प्रोटेस्ट को उकसाने के आरोप में कपल गिरफ्तार, पुलिस ने कहा- ISIS से लिंक हो सकता है

दिल्ली के शाहीन बाग में 15 दिसंबर से प्रोटेस्ट चल रहा है.

सबसे ज्यादा रणजी मैच और सबसे ज्यादा रन, इस खिलाड़ी ने 24 साल बाद लिया संन्यास

42 की उम्र तक खेलते रहे, अब बल्ला टांगा.

लखनऊ में CAA विरोधी प्रदर्शन के दौरान 'तोड़फोड़ करने वाले' 57 लोगों के होर्डिंग लगाए

होर्डिंग पर पूर्व IPS एसआर दारापुरी और कांग्रेस कार्यकर्ता सदफ ज़फर जैसे लोगों का नाम.

दिल्ली दंगे के 'हिन्दू पीड़ितों' की मदद के लिए कपिल मिश्रा ने जुटाये 71 लाख, खुद एक पईसा नहीं दिया

अब भी कह रहे हैं, 'आप धर्म को बचाइये, धर्म आपको बचायेगा'

कांग्रेस सांसद का आरोप : अमित शाह का इस्तीफा मांगा, तो संसद में मुझ पर हमला कर दिया गया

कांग्रेस सांसद ने कहा, 'मैं दलित महिला हूं, इसलिए?'

निर्भया केस: चार दोषियों की फांसी से एक दिन पहले कोर्ट ने क्या कहा?

राष्ट्रपति ने पवन गुप्ता की दया याचिका खारिज कर दी है.

कश्मीर : हथियारों के फर्जी लाइसेंस बनवाने वाला IAS अधिकारी कैसे धरा गया?

हर लाइसेंस पर 8-10 लाख रूपए लेता था!

गृहमंत्री अमित शाह की रैली में आई भीड़ ने लगाया देश के गद्दारों को गोली मारो... का नारा!

ये नारा डरावना है, उससे भी डरावना है इसका गृहमंत्री की रैली में लगाया जाना.

दिल्ली के बाद मेघालय में भी हिंसा भड़की, दो की मौत, कई जिलों में इंटरनेट बंद

मामला CAA प्रोटेस्ट से जुड़ा है.

एक्टिंग छोड़ बीजेपी जॉइन की थी, अब कपिल मिश्रा और अनुराग ठाकुर की वजह से पार्टी छोड़ दी

बीजेपी नेता ने अपनी पार्टी के नेताओं पर बड़ा बयान दिया है.