Submit your post

Follow Us

वित्त मंत्री ने क्यों कहा जल्द जेब गरम होगी हम सबकी?

5
शेयर्स

लोगों के पास पैसा नहीं है. इस वजह से उन्होंने खर्च करना बंद कर दिया है. लगातार ऐसी खबरें है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अब इस बात पर प्रतिक्रिया दी है. वित्तमंत्री का जवाब आया ‘इंडिया टुडे’ के एक खास प्रोग्राम ‘बजट राउंडटेबल’ के दौरान. वित्त मंत्री ने कहा कि बजट में इकॉनमी को मजबूत करने के साथ-साथ आम आदमी की आर्थिक सेहत दुरुस्त करने की कोशिश की गई है. सरकार का मकसद है कि आम आदमी की कमाई बढ़े. जब आम आदमी के हाथ में पैसा आएगा तो वो खर्च करने से नहीं हिकचेंगे. जब लोग खर्च करेंगे तो खपत बढ़ेगी और इससे इकॉनमी की सूरत बदलेगी.

क्या कहा वित्त मंत्री ने?
दिल्ली में आयोजित इस कार्यक्रम में देश के जाने-माने उद्योगपति मौजूद थे. और उन्होंने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से सीधे सवाल किए. वित्त मंत्री ने सभी सवालों के खुलकर जवाब दिए. उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही है. बजट में जो फैसले लिए गए हैं, उससे इकॉनमी को और ताकत मिलेगी. बजट में हर सेक्टर और हर वर्ग का खयाल रखा गया है. सरकार चाहती है कि लोगों की कमाई बढ़े. जब आम आदमी के हाथ में पैसा आता है, तो वे खर्च करते हैं. जब लोग खर्च करेंगे तो खपत पढ़ेगी. जनता के हाथ में दिया गया कुछ भी बेकार नहीं जाता. अगर सही वक्त पर सही पैसा लोगों तक पहुंचे तो निश्चित रूप से उपभोग बढ़ेगा.

वित्त मंत्री ने आगे कहा कि,

‘इस बजट में सरकार की ईमानदार कोशिश की झलक देखी जा सकती है. आने वाले दिनों में बजट के अच्छे नतीजे देखने को मिलेंगे. बजट में इकॉनमी को मजबूत करने के साथ-साथ आम आदमी की आर्थिक सेहत को सुधारने की भी कोशिश की गई है. गांवों को मजबूत करने के लिए बजट में इंफ्रास्ट्रक्चर यानी बुनियादी ढांचे को मजूबत करने पर जोर दिया गया है. जब गांव-गांव बिजली, पानी और सड़क की बेहतर सुविधाएं होंगी तो लोग आसानी से टेक्नोलॉजी को भी अपनाएंगे.’

कामयाबी का पूरा भरोसा क्यों है?

वित्त मंत्री ने ये भी भरोसा जताया कि सरकार अपने मकसद में हर हाल में कामयाब होगी. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि

‘बजट में जो बातें कही गई हैं. उसके पीछे सरकार के मजबूत इरादे झलकते हैं. मुझे पूरा भरोसा है कि भारत की इकॉनमी आने वाले कुछ सालों में नई ऊंचाई पर होगी. सरकार ने भारत की अर्थव्यवस्था अगले 5 साल में 5 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचाने की बात कही है. मुझे भरोसा है कि इस लक्ष्य तक पहुंच जाएंगे. असल में इस टारगेट को पाने के लिए कई तरह के कदम उठाए गए हैं.’

बीते कुछ दिनों से इस तरह की रिपोर्ट आ रही हैं कि देश में खपत कम हो गई है. लोगों ने खरीदारी कम कर दी है. इसकी वजह लोगों के हाथ खाली हैं. उनके पास पैसे नहीं हैं. अब इंडिया टुडे के इस प्रोग्राम में वित्त मंत्री ने इन्हीं सवालों का जवाब देने की कोशिश की है. बहरहाल अब तो ये कुछ वक्त के बाद ही पता चल पाएगा कि इकॉनमी में खपत बढ़ रही है या नहीं.

क्यों है ये संकट?

जानकारों का कहना है कि खपत का संकट लोगों के पास नकदी की कमी की वजह से है. बैंक और गैर वित्तीय संस्थान इन दिनों संकट से जूझ रहे हैं. वे लोगों को आसानी से लोन नहीं दे रहे हैं. इसके अलावा लोगों की आमदनी में भी गिरावट आई है. ग्रामीण इकॉनमी में लगातार लोगों की खर्च करने क्षमता कम हुई है. बुनियादी ढांचे के क्षेत्र की योजनाएं भी कैश की कमी के संकट में फंसी हैं. इन कुछ वजहों से भारत की अर्थव्यवस्था में कमजोरी का रुख देखा जा रहा है. वित्त मंत्री ने 2019 के बजट के जरिए इन समस्याओं को दुरुस्त करने का दावा किया है. तो आपके हाथ में पैसा तभी आएगा जब देश की माली हालत सुधरेगी.


वीडियोः बजट 2019: निर्मला सीतारमण ने में इनकम टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...

CAA Protest : यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाने वालों को पुलिस ने क्यों ब्लॉक किया?

यूपी पुलिस की इस कार्रवाई का क्या मतलब है?

जिस अधिकारी पर प्रियंका गांधी ने गला दबाने का आरोप लगाया उसने क्या कहा है

भाई की मौत की खबर मिलने के बाद भी ड्यूटी पर तैनात थीं अफसर.

प्रियंका गांधी का UP पुलिस पर बड़ा आरोप, 'मुझे घेरा और मेरा गला दबाया'

लखनऊ दौरे पर हैं प्रियंका गांधी.