Submit your post

Follow Us

लखनऊ: थाना इंचार्ज पर हमला, हाथ से मोबाइल छीना, जान बचाने के लिए अलग से पुलिस बुलानी पड़ी

उत्तर प्रदेश के लखनऊ में चोरी का एक मामला स्थानीय पुलिस के लिए मुसीबत बन गया. घटना लखनऊ के महानगर इलाके की है. यहां चोरी के एक आरोपी के परिवार ने महानगर थाने के दारोगा पर हमला कर दिया. परिवार का आरोप था कि दारोगा ने चोरी के आरोपी यानी उनके परिवार के सदस्य पर थर्ड डिग्री का इस्तेमाल किया था. इसी को लेकर उनकी दारोगा से ठन गई और उन्होंने पुलिसकर्मी पर हमला कर दिया. इससे घबराए दारोगा ने जान बचाने के लिए खुद को चौकी में बंद कर लिया. घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल भी हुआ. इसमें एक व्यक्ति थाने में बेहोश पड़ा दिख रहा है.

क्या है पूरा मामला?

आजतक के रिपोर्टर आशीष श्रीवास्तव के मुताबिक, बीते हफ्ते लखनऊ के थाना महानगर स्थित पेपर मिल कालोनी की पुलिस चौकी में चोरी की एक शिकायत आई. इसमें एक रिटायर्ड अधिकारी बलवीर सहाय ने अपने घर से एक ज्वेलरी भरा बॉक्स चोरी होने का दावा किया. उन्होंने इसका शक अपने ड्राइवर अरुण पर जताया. 14 जुलाई को पुलिस अरुण को पूछताछ के लिए थाने ले गई. अब आरोप है कि पूछताछ के दौरान दारोगा ने अरुण की इतनी पिटाई की कि वो बेहोश हो गया. ये बात जब अरुण के घर और मोहल्ले वालों तक पहुंची तो वे थाना प्रभारी से काफी नाराज हुए. उनका गुस्सा इतना बढ़ा कि वे चौकी पहुंच गए और थाना इंचार्ज पर अरुण को थर्ड डिग्री देने का आरोप लगाते हुए बवाल शुरू कर दिया. जमकर गाली-गलौज हुई. कभी गुस्साए लोगों ने थाने में घुसने की कोशिश की तो कभी सुधाकर पांडेय को ही बाहर खींचने का प्रयास किया गया. इस दौरान उन्होंने दारोगा का मोबाइल छीन लिया और उन पर हमला किया. रिपोर्टर आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि सुधाकर पांडेय किसी तरह चौकी का दरवाजा बंद कर पाए और फिर बाहर नहीं निकले. खुद को बचाने के लिए उन्हें उन्हें पीएसी बुलानी पड़ी. उसने सबको शांत कराया. तब जाकर चौकी इंचार्ज बाहर आ पाए.

screenshot
घटना के वीडियो का स्क्रीनशॉट.

आरोपी के परिवार का क्या कहना है?

रिपोर्ट के मुताबिक, अरुण के पिता रामचंद्र निषाद का आरोप है कि 14 जुलाई की शाम को दारोगा सुधाकर पांडेय ने थाने ले जाकर अरुण को जमकर पीटा. उसके बाद वो अरुण को पेपर मिल की मेट्रो चौकी लेकर गए. अरुण के पिता के मुताबिक, वहां भी अरुण को बंधक बनाकर मारा गया. यहां तक कि उस पर ‘थर्ड डिग्री’ का प्रयोग भी किया गया, जिससे वो बेहोश हो गया. रामचंद्र का ये भी आरोप है कि जब वो अरुण को देखने के लिए बाकी लोगों के साथ थाने पहुंचे तो पुलिस उन्हें धमकी देने लगी.

वहीं, अरुण के बड़े भाई विकास ने बताया कि परिवार से पहले वो अरुण से मिलने थाने गया था. तब उसने वहां अरुण की चीखें सुनी थीं. बाद में जब उसकी हालत बिगड़ी तो इंस्पेक्टर और बाकी पुलिसकर्मी उसे अपनी गाड़ी से अस्पताल ले जाने लगे. हालांकि परिवार ने पुलिस पर भरोसा ना जताते हुए उसे खुद ही ले जाने का फैसला किया.

Whatsapp Image 2021 07 15 At 6.58.13 Pm (1)
हमले के दौरान दारोगा से मोबाइल छीनता एक व्यक्ति. (स्क्रीनशॉट- आशीष श्रीवास्तव)

पुलिस के दावे

उधर, लखनऊ पुलिस की नॉर्थ जोन की एडीसीपी प्राची सिंह ने बताया कि चोरी के आरोप में अरुण को पूछताछ के लिए लाया गया था. पुलिसकर्मी उससे पूछताछ कर रहे थे, तभी एकाएक अरुण बेहोश हो गया. प्राची सिंह का कहना है कि आरोपी को थर्ड डिग्री देने की बात पूरी तरह निराधार है, उलटा पुलिस से धक्का-मुक्की की गई. बकौल प्राची सिंह,

‘बवाल की सूचना पर मैं खुद, सीओ और इंस्पेक्टर प्रदीप कुमार सिंह पेपर मिल चौकी पहुंचे. वहां काफी हंगामा हो रहा था. हमने लोगों को समझाने का प्रयास किया. पर हालात बेकाबू हो चुके थे. यहां तक की परिवार के लोग आरोपी को पुलिस से छुड़ाकर खुद ही अस्पताल ले गए. हमने प्रत्यक्षदर्शियों से भी पूछताछ की है. उन्होंने भी कहा कि अरुण के घर वालों ने चौकी के बाहर जमकर हंगामा किया. उनकी महिलाओं ने सड़क पर बैठकर जाम लगा दिया.’

वहीं, डीसीपी देवेश पांडे का भी कहना है कि थर्ड डिग्री का आरोप पूरी तरह गलत है. उन्होंने बताया कि फिलहाल इसकी जांच की जा रही है कि किस-किस ने पुलिस के साथ मारपीट और अभद्रता करने की कोशिश की. डीसीपी ने कहा कि ऐसे हरेक व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. उधर, चोरी के आरोपी अरुण को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है. वो अभी अपने घर पर है. ठीक हो जाने के बाद पुलिस उससे पूछताछ शुरू करेगी.


वीडियो- UP के नए जनसंख्या नियंत्रण विधेयक में ऐसा क्या है, जो VHP को रास नहीं आ रहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'नदिया के पार' जैसी बड़ी फ़िल्मों में काम कर चुकीं एक्ट्रेस सविता बजाज की हताशा, "मेरा गला घोंट दो"

इलाज के लिए पैसे नहीं हैं.

PM मोदी ने वाराणसी में जिस रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का उद्घाटन किया, वो है क्या?

योगी सरकार के लिए क्या बोले PM?

कांवड़ यात्रा पर सुप्रीम कोर्ट ने दिखाई सख्ती, लेकिन यूपी सरकार पीछे हटने को तैयार नहीं?

योगी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री के बयान से तो कुछ ऐसा ही लग रहा.

पीएम मोदी के मंत्रिमंडल विस्तार में ऐसा क्या हुआ कि महाराष्ट्र बीजेपी में उथल-पुथल मच गई?

क्या पंकजा मुंडे की नाराजगी महाराष्ट्र बीजेपी को भारी पड़ेगी?

पंजाबी सिंगर मनमीत सिंह का शव बरामद हुआ, भारी बारिश के बाद बह गए थे

एक नाला पार करते वक्त गिर गए थे मनमीत सिंह.

कोंगु नाडु: मोदी कैबिनेट का विस्तार तमिलनाडु के विभाजन से जुड़े इस पुराने मुद्दे को कैसे हवा दे गया?

तमिल मीडिया के एक हिस्से में इसे लेकर काफी गर्मजोशी दिखाई जा रही है.

कोरोना की तीसरी लहर का सामना करने के लिए कितने तैयार हैं हम?

पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों की बैठक में क्या बता दिया?

नेपाल की राष्ट्रपति ने क्या किया जो सुप्रीम कोर्ट को दखल देना पड़ गया?

अब कौन बना है नेपाल का नया पीएम?

जनसंख्या नीति का समर्थन या विरोध करने से पहले ये खबर पढ़ लीजिए

बढ़ती जनसंख्या की चिंता असम के CM हेमंत बिस्वा सर्मा को भी है और यूपी के CM योगी आदित्यनाथ को भी.

अफगानिस्तान में तालिबान के बनने-बिखरने और फिर से ताकतवर होने की पूरी कहानी

अफगानिस्तान में भारत ने 22 हज़ार करोड़ रुपए से ज़्यादा की रकम इन्वेस्ट की थी.