Submit your post

Follow Us

दिल्ली पुलिस दिशा रवि को 'टूलकिट' मामले में मुख्य साजिशकर्ता क्यों बता रही है?

शनिवार 13 फरवरी. शाम का वक्त था. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के जवान दिल्ली से करीब दो हजार किलोमीटर दूर बेंगलुरु में थे. उन्हें वहां से 21 साल की एक लड़की को गिरफ्तार करना था. उन्होंने दिशा रवि नाम की इस लड़की को गिरफ्तार किया. दिल्ली लाए. रविवार 14 फरवरी को दिशा को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया. जहां से ड्यूटी मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट, देव सरोहा ने दिशा को 5 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया. दिशा रवि की पहचान पर्यावरण कार्यकर्ता के तौर पर हुई. जब गिरफ्तारी की खबर बाहर आई तो हंगामा मच गया. विपक्ष के नेताओं ने मोदी सरकार को निशाने पर ले लिया. दिशा रवि अब पुलिस की हिरासत में है और सोशल मीडिया पर उसके पक्ष और विपक्ष वालों के झगड़े चल रहे हैं, रिहाई के अभियान चल रहे हैं. इस बीच दिल्ली पुलिस की लिस्ट में कुछ और भी नाम हैं जिन्हें वो दिशा रवि की तरह की गिरफ्तार करना चाहती है. तो बात यहां तक कैसे पहुंची, पुलिस और सरकार की नज़र में दिशा रवि या बाकी कार्यकर्ताओं ने क्या जुर्म किया, इस पर विस्तार से बात करेंगे.

पूरी बात समझने के लिए थोड़ा सा पीछे चलते हैं. किसान आंदोलन के नेता 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली के लिए अड़ गए थे, दिल्ली पुलिस ने उनकी बात मानी, ट्रैक्टर रैली हुई लेकिन इस दौरान हंगामा भी हुआ, हिंसा भी हुई, दिल्ली के लाल किले पर एक धार्मिक झंडा भी फहराया गया. तमाम बवाल, हंगामे और चर्चाओं के बीच अंतरराष्ट्रीय पॉप स्टार रिहाना ने 2 फरवरी को ट्वीट किया और किसान आंदोलन का समर्थन किया. इसके बाद तो दुनिया की कई बड़ी हस्तियों और सितारों ने किसान आंदोलन के समर्थन में ट्वीट किए. इन्हीं में से एक ट्वीट ग्रेटा थनबर्ग का भी था.

ग्रेटा 18 साल की हैं. पर्यावरण से जुड़े मुद्दों पर काम करती हैं. उन्होंने जो ट्वीट किया उसमें एक गूगल डॉक्यूमेंट को भी अटैच किया. इसको नाम दिया गया टूलकिट. इस टूलकिट में बताया गया था कि कैसे भारत की सरकार का विरोध करना है, कैसे घेरना है, कैसे अंबानी और अडानी के ऑफिसों के बाहर प्रदर्शन करना है, कैसे ट्विटर पर अभियान चलाना है. इस डॉक्यूमेंट में ये भी लिखा था कि भारत में मानवाधिकारों का उल्लंघन हो रहा है और संविधान का पालन नहीं किया जा रहा है. विवाद बढ़ा तो ग्रेटा ने इस ट्वीट को डिलीट कर दिया. हालांकि बाद में 4 फरवरी को उन्होंने नए ट्वीट में एक संशोधित टूलकिट भी अपलोड की.

Greta Thunberg
स्वीडन की पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग किसान आंदोलन के समर्थन में कई ट्वीट किए. एक टूलकिट भी शेयर की और यही बवाल का कारण बन गई (तस्वीर: एपी)

इस मामले में दिल्ली पुलिस ने 4 फरवरी को ही एक केस दर्ज किया. FIR में कहीं ग्रेटा थनबर्ग का नाम नहीं था. FIR थी टूलकिट बनाने वालों के खिलाफ. इसमें धाराएं थीं 124-ए यानी राजद्रोह, 120-ए यानी आपराधिक षडयंत्र और 153-ए समूहों के बीच घृणा को बढावा देना. FIR के बाद पुलिस जांच में जुट गई जो उसे ले गई दिशा रवि तक. दिशा बीबीए कर चुकी हैं, एक कंपनी में काम करती हैं, पर्यावरण बचाने से जुड़े कार्यक्रमों में हिस्सा लेती हैं. पर्यावरण ही ऐसा फैक्टर है जिसने ग्रेटा और दिशा को आपस में कनेक्ट किया. दिशा, भारत में फ्राइडेज फॉर फ्यूचर की संस्थापक सदस्यों में से एक हैं. ये संगठन पर्यावरण से जुड़े मुद्दों को उठाने के लिए बनाया गया है. ग्रेटा ने दूसरी बार जिस टूलकिट को शेयर किया, दिशा पर उसी को एडिट करने का आरोप है.

आरोपों के मुताबिक दिशा ने एक व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाया था. इस ग्रुप में वकील निकिता जैकब और शांतनु भी जुड़े हुए थे. निकिता जैकब भी पर्यावरण से जुड़े मुद्दे उठाती रही हैं. पुलिस, 11 फरवरी को मुंबई में निकिता जैकब के पास भी पहुंची थी. निकिता ने स्पेशल सेल को लिखित में आश्वासन दिया था कि वो जांच में शामिल होंगी लेकिन इसके बाद से पुलिस उनसे संपर्क नहीं कर पा रही है. हालांकि जैकब, अग्रिम जमानत के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट पहुंचीं. इस मामले पर 16 फरवरी को सुनवाई होगी. दूसरी ओर दिल्ली पुलिस ने निकिता और शांतनु के खिलाफ कोर्ट से गैर जमानती वारंट हासिल कर लिया. पुलिस के मुताबिक निकिता जैकब और शांतनु, खालिस्तान समर्थक तत्वों के सीधे संपर्क में थे.

दिशा रवि ने कोर्ट में रोते हुए कहा कि उन्होंने टूलकिट की केवल दो लाइनें एडिट की हैं लेकिन दिल्ली पुलिस का कहना है कि दिशा ने इससे काफी ज्यादा कुछ किया है. पुलिस के मुताबिक दिशा की-कॉन्सपिरेटर यानी मुख्य साजिशकर्ता है. जो व्हाट्सएप ग्रुप दिशा ने बनाया था, उसमें जुड़े हुए लोग, खालिस्तान समर्थक संगठन पोएटिक जस्टिस फाउंडेशन के साथ मिल कर काम कर रहे थे. टूलकिट को दिशा ने ही ग्रेटा के साथ शेयर किया था. पुलिस ने ये भी कहा कि दिशा रवि के मोबाइल का डेटा डिलीट किया गया है जिसे रिट्रीव किया जाएगा यानी दोबारा हासिल किया जाएगा. पोएटिक जस्टिस फाउंडेशन के को-फाउंडर हैं एमओ धालीवाल. आरोप है कि धालीवाल ने अपने एक साथी पुनीत के मार्फत निकिता से संपर्क किया था.

पुलिस का कहना है कि निकिता, दिशा, धालीवाल और बाकी लोगों ने 11 जनवरी को एक ज़ूम कॉल की थी. 26 जनवरी से पहले हुई इस मीटिंग में तय हुआ था कि रिपब्लिक डे से पहले ट्विटर पर कैसे तूफान खड़ा करना है और कैसे लोगों को प्रदर्शन करना है. 50 से अधिक लोग इस जूम कॉल में शामिल थे. दिल्ली पुलिस का मानना है कि 26 जनवरी को दिल्ली में जो कुछ भी हुआ, वो टूलकिट में बताए एक्शन प्लान से मिलता जुलता है. हालांकि टूलकिट में कहीं हिंसा करने या 26 जनवरी के किसी प्लान को लेकर कुछ नहीं कहा गया था.

दिल्ली पुलिस दिशा रवि को इस मामले में मुख्य साजिशकर्ता बता रही है, खालिस्तान से जुड़े तारों को खंगाल रही है और एक बड़ी साजिश की बात कह रही है लेकिन भारत के विपक्षी नेता दिशा रवि के साथ खुल कर खड़े हो गए हैं. कांग्रेस नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सबने दिशा के समर्थन में ट्विट किए.

बेंगलुरु में कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी दिशा की गिरफ्तारी के खिलाफ प्रदर्शन किया. दिशा रवि दोषी है या नहीं? उसकाहै भी या नहीं? सवाल कई हैं. मामला अब कोर्ट में है. जिरह होगी, परतें खुलेंगी, सच सामने आएगा. लेकिन इस सबके बीच किसान अब भी दिल्ली की सीमाओं पर हैं, अभी भी कृषि कानूनों का विरोध जारी है. कानून वापसी का असली मुद्दा अब पीछे छूटता दिख रहा है और देश-विदेश में इस आंदोलन पर नए सिरे से राजनीति शुरू हो चुकी है.


विडियो- ग्रेटा थनबर्ग टूलकिट केस में दिल्ली पुलिस ने जिन्हें अरेस्ट किया है, वो कौन हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

विलियमसन ने तो SRH के लिए गज़ब ही लक्ष्य तय कर दिया है!

विलियमसन ने तो SRH के लिए गज़ब ही लक्ष्य तय कर दिया है!

उधर संजू फायर हैं.

मुंबई को पीटकर कोहली ने ऐसा क्या किया कि वीडियो वायरल है?

मुंबई को पीटकर कोहली ने ऐसा क्या किया कि वीडियो वायरल है?

ईशान किशन के साथ दिखे कोहली.

संजू सैमसन का ये जलवा देख T20 वर्ल्ड कप सेलेक्शन पर सवाल उठने तय हैं!

संजू सैमसन का ये जलवा देख T20 वर्ल्ड कप सेलेक्शन पर सवाल उठने तय हैं!

आज तो संजू ने मौज कर दी.

हरियाणा: सब-इंस्पेक्टर की परीक्षा में अनिल विज की खासियत पूछी गई, विकल्प दिया- अविवाहित!

हरियाणा: सब-इंस्पेक्टर की परीक्षा में अनिल विज की खासियत पूछी गई, विकल्प दिया- अविवाहित!

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के चेयरमैन पर भी सिर पकड़ने वाला सवाल पूछ लिया गया.

किसानों का भारत बंद जमीन से लेकर ट्विटर तक कितना सफल रहा?

किसानों का भारत बंद जमीन से लेकर ट्विटर तक कितना सफल रहा?

लोगों को हुई समस्या पर टिकैत ने क्या कहा?

आज के मैच में बहुत मारने वाला अंग्रेज़ खेलने उतर गया है!

आज के मैच में बहुत मारने वाला अंग्रेज़ खेलने उतर गया है!

राजस्थान और हैदराबाद में आज किसका पलड़ा भारी है?

बंगाल उपचुनाव: जब BJP के दिलीप घोष के गार्ड्स ने पिस्तौलें तान लीं

बंगाल उपचुनाव: जब BJP के दिलीप घोष के गार्ड्स ने पिस्तौलें तान लीं

भवानीपुर में TMC-BJP में बड़ा बवाल हो गया!

कमाल का मुकाबला! 'लाइगर' में माइक टायसन से भिड़ेंगे विजय देवरकोंडा!

कमाल का मुकाबला! 'लाइगर' में माइक टायसन से भिड़ेंगे विजय देवरकोंडा!

ये भारतीय सिनेमा इतिहास में पहली बार होगा, जब माइक टायसन किसी हिंदी फिल्म में दिखाई देंगे.

Axis Bank के ग्राहक इसे 'भारत का सबसे खराब बैंक' क्यों कह रहे हैं?

Axis Bank के ग्राहक इसे 'भारत का सबसे खराब बैंक' क्यों कह रहे हैं?

बैंक के 'कॉन्सोलिडेटेड चार्ज' पर ग्राहकों का पारा चढ़ा हुआ है, लेकिन ये है क्या?

कपिल शर्मा को वैनिटी वैन के नाम पर करोड़ों की चपत लगाई थी, कार डिज़ाइनर की गिरफ्तारी हुई

कपिल शर्मा को वैनिटी वैन के नाम पर करोड़ों की चपत लगाई थी, कार डिज़ाइनर की गिरफ्तारी हुई

आरोपी बहुत फेमस कार डिज़ाइनर का बेटा है. क्या था पूरा मामला, विस्तार से जान लीजिए.