Submit your post

Follow Us

2 साल में राम रहीम ने जेल में कमाए 18 हजार रुपए, कम हुआ 15 किलो वजन

25 अगस्त 2017. पंचकुला की सीबीआई कोर्ट. 15 साल पुराने बलात्कार के मामले का फैसले वाला दिन. बलात्कार का आरोपी डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम 800 गाड़ियों का काफिला लेकर पहुंचा था. लेकिन गया सरकारी हैलीकॉप्टर से. क्योंकि लाखों की संख्या में जुटे उसके समर्थकों ने सड़कों पर दंगा, आगजनी और मार-काट शुरू कर दिया था. पंचकुला की सड़कों पर दर्जनों लाशें पड़ीं थीं. सीबीआई की विशेष अदालत ने राम रहीम को दोषी करार दिया था. ये केस राम रहीम की ही दो शिष्याओं ने 16 साल पहले दर्ज कराया था. इनमें से एक पीड़िता नाबालिग थी. तीन दिन बाद कोर्ट ने उसे रेप के दोनों मामलों में10-10 साल की सजा सुनाई. बाद में पत्रकार छत्रपति हत्याकांड में भी उसे सजा मिली. उम्रकैद की.

राम रहीम को सजा सुनाने के लिए जेल में अस्थायी अदालत लगाई गई थी.
राम रहीम को सजा सुनाने के लिए जेल में अस्थायी अदालत लगाई गई थी.

कैदी नंबर 8647 
राम रहीम को रोहतक की सुनारिया जेल में बंद कर दिया गया. और बिल्ला थमा दिया गया कैदी नं. 8647 का. अब जेल में उसकी यही पहचान है. राम रहीम की सारी चमक-धमक 15 फीट लंबी और 10 फीट चौड़ी कोठरी में सिमट कर रह गई है. जेल प्रशासन ने उसे सब्जियां उगाने के काम में लगा दिया है. उसके बैरक के पास 6 सौ गज की जमीन है. उसी में आलू, गोभी, मटर, टमाटर वगैरह उगाता है. इन्हीं सब्जियों से कैदियों के लिए खाना बनाया जाता है. इसकी दिहाड़ी भी उसको मिलती है. पूरे 20 रुपए. राम रहीम पिछले दो साल से इस जेल में है. दो साल से सब्जियां उगा रहा है. उसके 20-20 इकट्ठे होकर अब 18 हजार रुपए हो गए हैं. इतना ही नहीं उसका वजन भी कम हो गया है. जब राम रहीम जेल आया था तो 105 किलो वजन था. जो अब घटकर 90 किलो हो चुका है.

सुनरिया जेल में राम रहीम को किसी से मिलने की परमिशन नहीं है. तो समर्थक जेल के बाहर सड़क पर ही हाथ जोड़कर खड़े रहते हैं.
सुनरिया जेल में राम रहीम को किसी से मिलने की परमिशन नहीं है. तो समर्थक जेल के बाहर सड़क पर ही हाथ जोड़कर खड़े रहते हैं.

इतनी चिट्ठियां आईं कि डाक कर्मचारियों को ओवरटाइम करना पड़ा

राम रहीम भले ही हत्या और बलात्कार के मामले में सजा काट रहा हो लेकिन उसके समर्थकों में कोई कमी नहीं आई है. 15 अगस्त यानी रक्षाबंधन के दिन तक जेल प्रशासन को लगभग 8 हजार लेटर मिले थे. जिनमें उसके अुनयायियों ने राखी और जन्मदिन के कार्ड भेजे थे. जिसके कारण पोस्ट ऑफिस के कर्मचारियों को ओवरटाइम भी करना पड़ा. डेरा प्रमुख का जन्मदिन रक्षाबंधन के दिन ही यानी 15 अगस्त को था.


वीडियो: डेरा प्रमुख राम रहीम रेपिस्ट ही नहीं हत्यारा भी है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोना: सुपर स्प्रेडर क्या होते हैं और ये इतने खतरनाक क्यों हैं कि अहमदाबाद में सब कुछ बंद करना पड़ा

अहमदाबाद में 14 हजार सुपर स्प्रेडर होने की आशंका जताई जा रही है.

प्रवासी मजदूरों को लेकर यूपी और राजस्थान की पुलिस में पटका-पटकी हो गई है!

डीएम और एसपी मौके पर पहुंचे तब मामला शांत हुआ.

मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी बोले-तबलीगी जमात की वजह से लॉकडाउन बढ़ाना पड़ा

ये भी कहा-तबलीग़ियों का गुनाह हिंदुस्तान के मुसलमानों का का गुनाह नहीं है.

कोरोना का नियम बदला, अब बिना टेस्ट ही घर भेजे जाएंगे कम बीमार मरीज

जानिए क्या है सरकार की नई गाइडलाइंस.

दवा बेची, समाजसेवा की, फिर पता चला ख़ुद ही कोरोना पॉज़िटिव हैं, अब जेल हो गई

बनारस के दवा व्यापारी ने कई लोगों को बांटा कोरोना.

क्या सोशल डिस्टेंसिंग से चूकने की इतनी बुरी सज़ा देगी पुलिस?

किसी एक पुलिसवाले का ऐसा करना बाकियों की मेहनत पर पानी फेर देता है.

उदयपुर में एक ही दिन में कोरोना वायरस के 58 केस सामने आए

राजस्थान में मरीज़ों की संख्या तीन हज़ार से ऊपर पहुंच चुकी है.

सूरत: BJP कार्यकर्ता पर आरोप, घर पहुंचाने के नाम पर मजदूरों से पैसे लिए, टिकट मांगने पर पीटा!

एक अन्य वीडियो में BJP पार्षद के भाई टिकट के ज्यादा पैसे लेते दिखे.

जिस फ़ैक्टरी से निकली गैस ने तबाही मचाई, उसे क्लीयरेंस ही नहीं मिला था!

आबादी के बीच बना रहे थे स्टायरीन प्रोडक्ट.

रेड जोन में भी जल्द से जल्द लॉकडाउन खत्म करने के पक्ष में क्यों हैं मोंटेक सिंह अहलूवालिया?

बोले- लॉकडाउन की वजह से सबसे ज्यादा प्रभावित गरीबों के लिए सरकार योजना लाए.