Submit your post

Follow Us

20 दिन तक बच्ची स्कूल नहीं आई, स्कूल ने घर फ़ोन किया तो भावुक कर देने वाली कहानी पता चली

5
शेयर्स

अमीरा ने स्कूल जाना बंद कर दिया था, क्योंकि उनकी मां की रोशनी चली गई थी. उनको ग्लौकोमा यानी काला मोतिया था. इसके बाद जब ये बात अमीरा के स्कूल वालों को पता चली, तो उन्होंने ऑपरेशन करवाया. इसके बाद उनकी हालत में थोड़ा सुधार हुआ.

पूरा मामला जानिए-

दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक, लड़की का नाम अमीरा है. इसके परिवार के कुछ लोग 15 साल पहले अफगानिस्तान के काबुल प्रांत में हुए बम धमाके में घायल हो गए थे. इससे घबराए अमीरा के परिवारवाले भारत आ गए थे. अमीरा के पापा का नाम अब्दुल मजीद है. वह गुरुग्राम के एक रेस्टोरेंट में बावर्ची का काम करने लगे. और तभी से ये परिवार शरणार्थी के रूप में यहां रह रहे हैं.

खैर. अमीरा की मां मेहरनिशां(42) को ग्लौकोमा यानि काला मोतिया था. इससे उनकी आंखों की रोशनी धीरे-धीरे कम हो गई थी. अब्दुल के रेस्टोरेंट चले जाने के बाद मेहरनिशां को संभालने वाला कोई नहीं होता था. इस वजह से अमीरा ने स्कूल जाना ही बंद कर दिया. अमीरा 6वीं क्साल की स्टूडेंट है.

20 दिन बीत गए थे, पर अमीरा स्कूल नहीं गई और न ही स्कूल में इस बात की जानकारी दी. फिर खुद स्कूलवालों ने अमीरा के घरवालों से कॉन्टैक्ट किया. और पता चला कि मां के आंख की रोशनी चले जाने के कारण अमीरा ने स्कूल बंद किया है. स्कूल मैनेजमेंट ने एक संस्था से सम्पर्क किया. और मेहरनिशां का सरकारी अस्पताल में ऑपरेशन करवाया. इससे उनको काफी मदद मिली है.

अमीरा अब स्कूल जा सकेंगी, क्योंकि उनकी मां अब पहले से बेहतर हो गई हैं. और ऐसा बहुत कम देखने-सुनने को मिलता है कि स्कूल अपन स्टूडेंट्स का ऐसा ख्याल भी रखता है. अमीरा की कहानी आपको भावुक जरूर कर देगी, पर आपको एक सीख भी जरूर देगी.


वीडियो देखें : उत्तर प्रदेश के इस घर की छत पर क्या तबाही बरस पड़ी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

नागरिकता कानून में हुए संशोधन पर संविधान एक्सपर्ट्स का क्या कहना है?

एक्सपर्ट्स का दावा, ये संशोधन संविधान के आर्टिकल 14, 5 और 11 का उल्लंघन है.

पासपोर्ट पर कमल छाप तो दिया लेकिन सरकार खुद इसे राष्ट्रीय फूल नहीं मानती

बवाल मचा तो सरकार ने कहा था राष्ट्रीय प्रतीकों को छाप रहे हैं.

16 दिसंबर को इस वजह से नहीं होगी निर्भया के चारों दोषियों को फांसी

सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के बाद ही डेथ वारंट पर फैसला होगा.

CAB विरोध: असम में पुलिस की फायरिंग से दो की मौत, कर्फ़्यू मान नहीं रही है भीड़

तीन BJP विधायकों के घर पर हमला. मेघालय के भी कुछ इलाकों में कर्फ़्यू. तीन राज्य में इंटरनेट बंद.

नागरिकता संशोधन बिल पास होने पर IPS ऑफिसर ने विरोध में इस्तीफा दिया

उन्होंने कहा, 'ये बिल देश को बांटने वाला है.'

कर्नाटक में 15 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में BJP का क्या हुआ?

BJP सरकार बनी रहेगी या जाएगी?

मोदी सरकार के इस कदम से घरेलू इंडस्ट्री चमक सकती है, पर रिस्क भी बहुत बड़ी है

सरकार नई नौकरियों का दावा कर रही. पर आंकड़ा किसी को नहीं पता.

अगर संसद में ये बिल पास हो गया तो एक ही तमंचे पर डिस्को हो पाएगा

वैसे नए कानून के मुताबिक, तमंचे पर डिस्को करने पर भी 2 साल की सज़ा हो सकती है.

तेलंगाना पुलिस ने खुद बताई एनकाउंटर के पीछे की पूरी कहानी

'आरोपियों ने पुलिस से हथियार छीनकर फायरिंग की'.

हैदराबाद डॉक्टर रेप केस: चारों आरोपी पुलिस एनकाउंटर में मारे गए

उसी जगह मारे गए, जहां रेप किया. पुलिस का कहना है कि आरोपियों ने उनपर हमला करके भागने की कोशिश की.