Submit your post

Follow Us

भारत में अब तक कितने टेस्ट हुए हैं और पॉज़िटिव मामलों की रफ्तार कितनी खतरनाक है?

देश में कितनी तेजी से कोरोना वायरस फैल रहा है, इसे जांचने का एक तरीका है- टेस्ट पॉजिटिव रेट. आसान भाषा में कहें तो इसमें कुल टेस्ट में मोटा-मोटी कितने लोग कोरोना पॉजिटिव पाए जाते हैं, इसका हिसाब निकाला जाता है. इससे रफ्तार का ट्रेंड पता चलता है. कम्युनिटी ट्रांसमिशन का भी अनुमान लगता है. अगर टेस्ट पॉजिटिव रेट ज़्यादा होने से केस और मौत के आंकड़े बढ़ते हैं. कहा जा रहा है कि तमाम देशों के मुकाबले भारत में कोरोना वायरस तेजी से नहीं फैला है, लेकिन ये भी सच है कि अभी काफी टेस्ट होने बाकी हैं.

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट कहती है कि 18 मार्च से 13 अप्रैल के बीच टेस्ट पॉजिटिविटी रेट 1.1 फीसदी से 4.3 फीसदी तक बढ़ा. 9 अप्रैल की इंडियन मेडिकल रिसर्च (ICMR) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पॉजिटिविटी रेट पिछले एक महीने में बहुत तेजी से नहीं बढ़ा है. ये 3 से 5 फीसदी के बीच में रहा है.

हर 50 टेस्ट में दो पॉजिटिव

13 अप्रैल के दिन 21,000 से ज़्यादा टेस्ट किए गए और इसके पहले पांच दिनों में 16 हज़ार से 17 हज़ार के बीच टेस्ट किए गए. 13 अप्रैल तक 2,17,554 टेस्ट हुए और तब तक 9,341 पॉजिटिव केस पाए गए थे. इस हिसाब से 13 अप्रैल तक पॉज़िटिविटी रेट 4 फीसदी के आस-पास रहा. इसका मतलब है कि हर 50 टेस्ट में दो पॉजिटिव केस पाए जा रहे हैं.

क्या है पॉजिटिव रेट निकालने का फॉर्मूला?

पॉजिटिव केस/कुल टेस्ट X 100

ICMR के तरुण भटनागर कहते हैं, अगर हम टेस्ट ज़्यादा करते हैं और पॉजिटिविटी रेट एक जैसा ही रहता है तो इसका मतलब है कि संक्रमण की रफ्तार जहां थी, वहीं है. अगर ये अचानक बढ़ता है तो चिंता की बात है.

टेस्टिंग पर जोर

देश में टेस्ट की संख्या बढ़ा दी गई है. ICMR ने पूल टेस्टिंग की बात भी की है. RT-PCR टेस्ट हो रहे हैं, जिसमें गले और नाक से सैंपल लिए जाते हैं. ICMR ने 16 अप्रैल को कहा कि रैपिड टेस्ट सर्विलांस के लिए होंगे, खासकर हॉटस्पॉट में.

हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक, अब तक देश में 10 हज़ार से ज़्यादा पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं और 420 लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें 1514 लोग ठीक भी हुए हैं. दुनियाभर में कोरोना के 20 लाख से ज़्यादा मामले सामने आ चुके हैं और करीब एक लाख 36 हज़ार लोगों की मौत हो चुकी है.


सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि EWS और PMJAY के तहत आने वालों का प्राइवेट लैब में कोरोना टेस्ट फ्री होगा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

20 अप्रैल से कौन-कौन से लोग अपना काम-धंधा शुरू कर सकते हैं?

और खाने-पीने के सामान को लेकर सरकार ने क्या कहा?

लॉकडाउन के बीच ज़रूरी सामान भेजना है? बस एक कॉल पर हो जाएगा काम

रेलवे अधिकारियों ने शुरू की है 'सेतु' सर्विस.

सड़क पर मजदूरों संग खाना खाने वाले अर्थशास्त्री ने सरकार को कमाल का फॉर्मूला सुझाया है

कोरोना और लॉकडाउन ने मजदूर को कहीं का नहीं छोड़ा.

सरकार की नई गाइडलाइंस, जानिए किन इलाकों में, किन लोगों को लॉकडाउन से छूट

कोरोना से निपटने के लिए लॉकडाउन पहले ही बढ़ाया जा चुका है.

टेस्टिंग किट की बात पर राहुल गांधी ने भारत की तुलना किन देशों से की?

कहा, 'हम पूरे खेल में कहीं नहीं हैं.'

चीन से भारत के लिए चली टेस्टिंग किट की खेप अमरीका निकल गयी!

और अभी तक भारत में नहीं शुरू हो पाई मास टेस्टिंग.

कोरोना: मरीजों की खातिर बेड और लैब के लिए कितना तैयार है भारत, PM मोदी ने बताया

लॉकडाउन बढ़ाने के अलावा पीएम ने क्या-क्या कहा?

15 अप्रैल को लॉकडाउन-2 की जो गाइडलाइंस आनी हैं, उनमें क्या-क्या हो सकता है

पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ चुका है.

सुप्रीम कोर्ट ने बता दिया है कि किन लोगों का कोरोना वायरस टेस्ट फ्री में होगा

प्राइवेट लैब भी नहीं ले सकेंगे इनसे पैसा.

PM CARES Fund पर लगातार उठ रहे सवाल, अब हिसाब-किताब की होगी जांच

वकील ने PM Cares फंड को रद्द करने की मांग की है.