Submit your post

Follow Us

12 फरवरी को ही कोरोना पर ट्वीट करके चेताने वाले राहुल गांधी ने अब क्या कहा है?

राहुल गांधी. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद. आज प्रेस वार्ता का आयोजन किया. राहुल गांधी ने कहा कि लॉकडाउन कोई इलाज नहीं है. ये केवल के पॉज़ बटन की तरह है. 

“ये समझना होगा कि लॉकडाउन एक पॉज बटन की तरह है, यह किसी भी तरह से कोरोनावायरस का समाधान नहीं है. जब हम लॉकडाउन से बाहर आते हैं, तो वायरस अपना काम फिर से शुरू कर देगा. इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि हमारे पास लॉकडाउन से बाहर आने की रणनीति हो.”

इसके बाद राहुल गांधी ने साफ़ किया कि लॉकडाउन का जो समय है, उसका इस्तेमाल स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त करने में लगाना चाहिए.

“लॉकडाउन सिर्फ समय देता है- टेस्ट बढ़ाने, अस्पताल तैयार करने, वेंटिलेटर प्राप्त करने के लिए. एक गलत धारणा है, जिसे मैं साफ करना चाहता हूं. किसी भी तरह से लॉकडाउन वायरस को नहीं हराता है, यह कुछ समय के लिए वायरस को रोकता है.”

उन्होंने ये भी कहा,

“जब आप लोगों को बंद कर देते हैं, तो बीमारी बंद हो जाती है, जब आप दरवाजा खोलते हैं, तो बीमारी तेजी से बाहर आती है.”

फिर राहुल गांधी ने साफ़ किया कि देश में कोरोना की रोकथाम में मदद मिले, इसके लिए टेस्टिंग को तेज़ी से बढ़ाना होगा.

“वायरस के खिलाफ सबसे बड़ा हथियार टेस्ट है. टेस्ट करने से ये जान सकते हैं कि वायरस कहां घूम रहा है और उसको अलग करके लड़ा जा सकता है. हमारी टेस्ट दर 199 प्रति दस लाख लोगों की है और जो टेस्ट किए जा चुके हैं, उनका औसत 350 टेस्ट प्रति जिले का है.”

इसके बाद उन्होंने केंद्र सरकार को सलाह दी कि टेस्टिंग को बढ़ाने की दिशा में कार्य करें. सलाह दी कि राज्यों की सहायता के लिए टेस्ट का उपयोग करें. न केवल मरीज़ों को ट्रैक करने के लिए, बल्कि वायरस का पता लगाने के लिए. उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र का ज़िक्र किया. कहा कि वायनाड में सफलता जिला स्तर की मशीनरी के कारण मिली है. सुझाव दिया कि कोविड के खिलाफ लड़ाई टॉप-डाउन न होकर बॉटम-अप हो. प्रधानमंत्री राज्यों को सशक्त बनायें.

राहुल गांधी ने ये भी बताया कि हेल्थ के अलावा कोरोना की वजह से आर्थिक मोर्चे पर भी चोट पहुंच रही है. इसके लिए भी राहुल गांधी ने सुझाव दिए. कहा,

“खाने की कमी आएगी. गोदाम में स्टोरेज है. तो गरीबों को भोजन दीजिए. जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, उनको भी इसमें शामिल कीजिए. खाद्य सुरक्षा का एक रास्ता तैयार कीजिए. न्याय योजना की तरह 20% गरीब लोगों को सीधे पैसा दीजिए. क्योंकि गरीबों को दिक्कत हो रही है और होने वाली है. न्याय योजना की जगह कोई और नाम रख लीजिए.”

आर्थिक मोर्चे पर राहुल गांधी के और भी सुझाव आए. उन्होंने कहा,

“बेरोजगारी शुरू हो गई है और इसका बहुत बुरा रूप आने वाला है. रोजगार देने वाले SMEs के लिए पैकेज तैयार कीजिए. बड़ी कंपनियों के लिए पैकेज तैयार कीजिए. मुझे दुःख है कि गोदाम में रखा हुआ अनाज लोगों तक नहीं पहुंचा; SMEs को मालूम हो जाना चाहिए था कि उनके लिए क्या किया जा रहा है?”

इसके साथ ही राहुल गांधी ने ये भी कहा कि लॉकडाउन के बाद के देश के लिए हमें सबकुछ तैयार करना चाहिए. देश को हॉटस्पॉट और नान-हॉटस्पॉट दो हिस्सों में बांटकर कार्रवाईयों को अंजाम देना चाहिए. इसके पहले राहुल गांधी ने 12 फ़रवरी को ही ट्वीट करके कोरोना के बढ़ रहे मामलों, सरकार की तैयारी और गम्भीरता पर सवाल उठाए थे.


कोरोना ट्रैकर


विडियो- विडियो- कोरोना वायरस महामारी के दौरान पलायन करते मजदूरों की ताकतवर तस्वीरें

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

20 अप्रैल से कौन-कौन से लोग अपना काम-धंधा शुरू कर सकते हैं?

और खाने-पीने के सामान को लेकर सरकार ने क्या कहा?

लॉकडाउन के बीच ज़रूरी सामान भेजना है? बस एक कॉल पर हो जाएगा काम

रेलवे अधिकारियों ने शुरू की है 'सेतु' सर्विस.

सड़क पर मजदूरों संग खाना खाने वाले अर्थशास्त्री ने सरकार को कमाल का फॉर्मूला सुझाया है

कोरोना और लॉकडाउन ने मजदूर को कहीं का नहीं छोड़ा.

सरकार की नई गाइडलाइंस, जानिए किन इलाकों में, किन लोगों को लॉकडाउन से छूट

कोरोना से निपटने के लिए लॉकडाउन पहले ही बढ़ाया जा चुका है.

टेस्टिंग किट की बात पर राहुल गांधी ने भारत की तुलना किन देशों से की?

कहा, 'हम पूरे खेल में कहीं नहीं हैं.'

चीन से भारत के लिए चली टेस्टिंग किट की खेप अमरीका निकल गयी!

और अभी तक भारत में नहीं शुरू हो पाई मास टेस्टिंग.

कोरोना: मरीजों की खातिर बेड और लैब के लिए कितना तैयार है भारत, PM मोदी ने बताया

लॉकडाउन बढ़ाने के अलावा पीएम ने क्या-क्या कहा?

15 अप्रैल को लॉकडाउन-2 की जो गाइडलाइंस आनी हैं, उनमें क्या-क्या हो सकता है

पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ चुका है.

सुप्रीम कोर्ट ने बता दिया है कि किन लोगों का कोरोना वायरस टेस्ट फ्री में होगा

प्राइवेट लैब भी नहीं ले सकेंगे इनसे पैसा.

PM CARES Fund पर लगातार उठ रहे सवाल, अब हिसाब-किताब की होगी जांच

वकील ने PM Cares फंड को रद्द करने की मांग की है.