Submit your post

Follow Us

लद्दाख में चीन फिर वही कर रहा है जो 1962 में जंग की वजह बना था

कोरोना, सुशांत सिंह राजपूत केस और रसोड़े के बीच में अगर आपको लग रहा है कि चीन वाला मामला अब ठंडा पड़ गया है तो आप ग़लत हैं. इंडिया टुडे ने पिछले कुछ बरसों की सैटेलाइट इमेजेज़ के अध्ययन के आधार पर एक स्टोरी की है. इसके मुताबिक चीन एक ऐसा गड़ा मुर्दा उखाड़ रहा है, जो हमारे और उनके बीच 1962 की जंग की वजह बना था.

लद्दाख के आस-पास चीन कुछ वैकल्पिक सड़क मार्ग तैयार कर रहा है. जिसका पहली नज़र में एक ही कारण समझ आता है- उनकी सेना- पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को यहां मूवमेंट में आसानी हो. पिछले करीब 10 साल के सैटेलाइट इमेजेज़ देखने पर पता चला है कि चीन पूर्वी लद्दाख के नॉर्थ-ईस्ट तक रोड तैयार करने की कोशिश कर रहा है. वो चाइना नेशनल हाइवे-219 से इस रोड को निकालने की फ़िराक में है. चाइना नेशनल हाईवे-219, जिसे जी-219 के नाम से जाना जाता है. ये वही रोड है, जो 1962 में भारत-चीन के बीच जंग की वजह बना था.

China G 219
ये 27 अगस्त की सैटेलाइट इमेज है. इसमें आप चीन का जी-219 हाईवे और उससे निकली दो लैटरल रोड्स (सहायक रोड) देख सकते हैं. रिटायर्ड कर्नल विनायक भट्ट ने इंडिया टुडे के लिए इन सैटेलाइट इमेज का एनालिसिस किया है. (फोटो- Google Earth)

क्या है जी-219?

ये चीन का नेशनल हाईवे है. चीन के कारगिलिक शहर से निकलकर तिब्बत के ल्हात्से शहर तक जाता है. करीब 2700 किमी लंबा हाईवे है. चीन ने 1950 में ये हाईवे बनाना शुरू किया था और 1957 में पूरा किया था. अब सवाल ये कि चीन का एक हाईवे उसके और भारत के बीच तनाव की वजह कैसे?

दरअसल ये हाईवे होकर गुज़रता है अक्साई चिन से. इसी वजह से भारत ने 1957 से ही इस हाईवे पर आपत्ति जताई है. विवाद बढ़ता गया. 62 में जंग की नौबत आ गई, जिसकी बड़ी वजह ये जी-219 हाईवे भी था.

*अक्साई चिन पर चीनी कब्जे की कहानी यहां जानें.

62 की जंग के बाद चीन ने जी-219 के पश्चिमी सेक्टर पर अधिकार हासिल कर लिया था. जी-219 पर चीन का एक वॉर मेमोरियल भी बना है. अब चीन इसी हाईवे से समानांतर एक रोड निकालकर उसे पूर्वी लद्दाख तक जोड़ने की कोशिश कर रहा है. अगर ऐसा करने में वो कामयाब रहा तो पीएलए का पूर्वी लद्दाख तक मूवमेंट आसान हो जाएगा.

62 के बाद सबसे गंभीर स्थिति

देश के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी माना है कि लद्दाख में स्थिति काफी गंभीर है. अपनी किताब ‘द इंडिया वे’ के रिलीज़ से पहले रेडिफ डॉट काम को दिए साक्षात्कार में विदेश मंत्री ने कहा था –

“1962 के बाद सीमा पर सबसे ज्यादा गंभीर स्थिति है. 45 साल में पहली बार चीन बॉर्डर पर हमारे जवान शहीद हुए. LAC पर दोनों ओर से इतनी बड़ी संख्या में सेना पहले कभी तैनात नहीं हुई.”


चीन के राष्ट्रपति के खिलाफ बोलकर नुकसान झेलने वाली महिला को जान लीजिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.

क्या 73 दिन में कोरोना वैक्सीन आ रही है? बनाने वाली कंपनी ने बताई सच्ची-सच्ची बात

कन्फ्यूजन है कि खुश होना है या अभी रुकना है?

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?