Submit your post

Follow Us

ISRO के पास कितना वक्त है विक्रम लैंडर से संपर्क के लिए?

चंद्रयान का विक्रम लैंडर चांद की सतह पर है, ये तो तय है. इसरो ने खुद कहा है. लेकिन विक्रम लैंडर से अभी तक संपर्क नहीं हो पाया है. चांद की कक्षा में ढूंढ रहे ऑर्बिटर की मदद से ऐसा करने की लगातार कोशिश की जा रही है. सफ़लता कुछ नहीं है.

लेकिन ये भी जानना ज़रूरी है कि विक्रम लैंडर से संपर्क कर पाने की मियाद बेहद कम है. लगभग दो हफ़्तों की ही. इस बीच अगर संपर्क नहीं हो पाता है तो ये मान लेना चाहिए कि इसरो विक्रम लैंडर को हमेशा के लिए खो देगा.

ऐसा क्यों? दरअसल चांद पर दिन और रात की मियाद में बहुत बड़ा फासला है. चांद पर 14 दिन की सुबह होती है, फिर 14 दिन की रात होती है. जिस समय चंद्रयान चांद पर पहुंचा, उस समय चांद की सुबह चल रही थी.

चांद के दिन और रात पर ही सारा खेल टिका हुआ है.
चांद के दिन और रात पर ही सारा खेल टिका हुआ है.

इस 14 दिन की सुबह के बीच ही विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर को अपना सारा काम पूरा करना था. चांद की रात के बारे में बात करें तो ये रातें बहुत ठंडी होती हैं. माइनस 200 डिग्री तक तापमान चला जाता है. मतलब जिस टेम्प्रेचर पर पानी बर्फ में बदलता है, उससे भी 200 डिग्री नीचे. और विक्रम लैंडर चांद के दक्षिणी ध्रुव पर गिरा है. वहां तो तापमान की कमी और भी ज़्यादा होगी. और चंद्रयान को इस तरीके से बनाया गया है कि वो दिन के समय ही काम कर सकता है. रात के ठंडे तापमान में नहीं.

अब विक्रम लैंडर चांद की सतह से जाकर टकरा गया है. वहां उसकी लैंडिंग सही तरीके से नहीं हो सकी है. इसरो ने बताया है कि लैंडर चांद की ज़मीन पर टेढ़ा पड़ा हुआ है. अगर लैंडर का एंटीना सही दिशा में हुआ तो ही ऑर्बिटर से उसका संपर्क हो सकेगा. अगर लैंडर का एंटीना चांद की ज़मीन में धंसा होगा, या टूट गया होगा, या किसी पत्थर के नीचे दबा होगा, तो ऑर्बिटर से उसका कोई संपर्क नहीं साधा जा सकेगा. और संपर्क की कोशिश के लिए समय है महज़ 14 दिन. उसके बाद ऑर्बिटर ही रहेगा, कह सकते हैं कि लैंडर और रोवर बेकार.


लल्लनटॉप वीडियो : ISRO के 85 से 90 फीसदी वैज्ञानिकों और इंजीनियरों की सैलरी घट गई है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.