Submit your post

Follow Us

टॉयलेट के फर्श की टाइल्स पर महात्मा गांधी की तस्वीर लगाने वाले नप गए

गांधीजी का प्रशासन से चोली-दामन का साथ है. देश के किसी ना किसी कोने में वो विवाद में ज़रूर मौजूद रहते हैं. ऐसा भी हो सकता है कि प्रशासन को उनसे ही कोई खास लगाव हो. फिलहाल गांधीजी के लिए ये लगाव दिखाया है Bulandshahr प्रशासन ने. यहां के गांव में स्वच्छ भारत मिशन के अंडर टॉयलेट बनने थे. इसके फर्श पर टाइलें लगाई जानी थीं. प्रशासन ने सोचा कि अगर उन पर गांधी जी की तस्वीर रहे तो कितना अच्छा हो. अब हमारे यहां सरकार कितनी भी धीमी काम करे लेकिन ऐसे मौके पर अतिरिक्त मुस्तैदी दिखाती है. केवल गांधी ही नहीं नेशनल सिंबल अशोक चक्र को भी फोटो लगा दी. 3 जून को जब लोगों को पता चला कि हमारे राष्ट्रीय प्रतीकों का अपमान हो रहा है तो उन्होंने शिकायत की. हालांकि एक हफ्ते तक इस हरकत पर लोगों का भी ध्यान नहीं गया. जैसे ही ये बात हाईलाइट हुई तो एक अधिकारी को सस्पेंड कर दिया गया. गांव के प्रधान को भी इस गुस्ताखी को के लिए प्रशासन के कोप का भाजन बनना पड़ा.

प्रशासन ने अपनी तरह से सफाई जारी कर दी है. जिला पंचायती राज अधिकारी अमरजीत सिंह ने बताया-

स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत डिबाई तहसील के इच्छावाड़ी गांव में 508 टॉयलेट बनाए जाने थे.  इनमें से कुल 13 टॉयलेट ऐसे थे जिनकी टाइल्स पर महात्मा गांधी तस्वीर और अशोक चक्र के सिंबल बने हुए थे. गांव के प्रधान और एक अधिकारी के खिलाफ एक्शन लिया गया है. 

जिला विकास अधिकारी संतोष कुमार सस्पेंड हुए हैं जबकि गांव की प्रधान सावित्री देवी का जॉइंट अकाउंट सीज़ कर दिया गया है. दोनों यही सोचे रहे होंगे- गांधी नौकरी के लिए तू तो हानिकारक है.

शेष गांधी जी टॉयलेट में रखे जा सकते हैं या नहीं रखे जा सकते वाली बहस में हम नहीं पड़ते. बापू को कहां रखना है. इस फ़िल्मी सीन से ही सीख लें.


वीडियो: डॉक्टर ने मरीज़ को धुन दिया, लेकिन उससे पहले ये हुआ था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?

भारत-चीन के तनाव के बीच पीएम मोदी ने लद्दाख़ पहुंचकर किससे बात की?

पहले राजनाथ सिंह जाने वाले थे, नहीं गए.

मलेरिया वाली जिस दवा को कोरोना में जान बचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे, वो उल्टा काम कर रही है?

हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन पर चौंकाने वाली रिसर्च!

इस साल के आख़िर तक मिलने लगेगी कोरोना की 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन!

भारत बायोटेक के अधिकारी ने क्या बताया?

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.

भारत सरकार के चाइनीज़ ऐप बंद करने के स्टेप पर TikTok ने चिट्ठी में क्या लिखा?

अपने यूज़र्स के बारे में भी कुछ कहा है.