Submit your post

Follow Us

BJP सांसद मीनाक्षी लेखी ने माइक्रोसॉफ्ट के CEO सत्य नडेला को जवाब दिया

5
शेयर्स

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन के बीच माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नडेला ने बड़ा बयान दिया. नडेला ने सोमवार को एक कार्यक्रम में कहा, ‘मुझे लगता है कि जो हो रहा है वह दुखद है, यह बहुत बुरा है. मैं एक ऐसे बांग्लादेशी अप्रवासी को देखना पसंद करूंगा, जो भारत आता है और इन्फोसिस का अगला CEO बनता है.’ नडेला के इस बयान पर अब बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने पलटवार किया है.

मीनाक्षी ने कहा कि साक्षर लोगों को शिक्षित होने की ज़रूरत क्यों है, इसका सबसे बड़ा उदाहरण यही है. लेखी ने ये भी कहा कि CAA लाए जाने की सटीक वजह बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान में सताए गए अल्पसंख्यकों को अवसर देना है.

# मामला क्या है?

दरअसल, BuzzfeedNews के एडिटर बेन स्मिथ ने ट्वीट करके बताया था कि भारत में जन्मे सत्य नडेला ने एक सवाल के जवाब कुछ बातें कही हैं. नडेला ने कहा कि CAA दुखद और बुरा है. हालांकि इसके तुरंत बाद माइक्रोसॉफ्ट इंडिया ने एक ट्वीट किया. इस ट्वीट में सत्य नडेला की सफाई थी, जिसमें उन्होंने कहा है कि हर देश को अपनी सीमाओं को परिभाषित करना चाहिए. राष्ट्रीय सुरक्षा और उसके अनुसार आप्रवासी नीति तैयार करनी चाहिए.

# क्या असर होगा

US में भारतीय मूल के दो लोग टॉप टेक्निकल लीडरशिप में गिने जाते हैं. एक तो Google को हेड कर रहे सुंदर पिचाई और दूसरे Microsoft चलाने वाले सत्य नडेला. ऐसे में नडेला के इस बयान के नतीजे को लेकर बाज़ार में फ़िक्र है. सीधे-सीधे सरकार की पॉलिसी के विरोध का पाला चुन लेना किसी भी कारोबार या कारोबारी के लिए आसान नहीं माना जाता.

# क्या है नागरिकता संशोधन कानून?

नागरिकता अधिनियम, 1955 में केंद्र सरकार ने बदलाव किया है. पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान से आए हुए हिंदू, जैन, बौद्ध, सिख, ईसाई, पारसी शरणार्थियों को भारत की नागरिकता मिलने में आसानी होगी. अभी तक उन्हें अवैध शरणार्थी माना जाता था. इस कानून का लाभ अब शरणार्थियों को मिल सकेगा.


ये वीडियो देखें :

आतंकवादियों के साथ गिरफ्तार हुए डीएसपी दविंदर सिंह आर्मी बेस के सामने घर क्यों बना रहे थे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

यूपी पुलिस में मचा हंगामा, तो योगी ने की ये बड़ी कार्रवाई

सेक्स चैट से शुरू हुआ था मामला, "घूसखोरी" और पोस्टिंग पर अटकी बात

JNU : जिस समय आइशी घोष को पीटा जा रहा था, उसी वक़्त उन पर FIR हो रही थी

और नक़ाबपोश गुंडों का न कोई नाम, न कोई सुराग

बवाल हुआ तो JNU प्रशासन ने मंत्रालय से कैम्पस को बंद करने की मांग उठा दी

मंत्रालय ने भी ये जवाब दिया.

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...