Submit your post

Follow Us

बीजेपी के विधायक ने अपनी ही पार्टी के सांसद को ज़मीन के मामले में लपेट दिया!

यूपी का बलिया. यहां के विधायक हैं सुरेंद्र सिंह. बीजेपी के हैं. उन्होंने अपनी ही पार्टी के सांसद के खिलाफ़ मोर्चा खोल दिया है. कहा है कि सांसद जी और उनके परिवार वालों ने ग्राम समाज की ज़मीन पर क़ब्ज़ा कर लिया. सुरेंद्र सिंह ने रविवार 31 मई को प्रेस कॉन्फ़्रेन्स की. कहा कि बलिया के सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त और उनके भांजे ने पशु मेले की 25 बीघे की ज़मीन ख़रीद ली. ये ज़मीन ग्राम समाज की थी. 

दरअसल बलिया में इब्राहिमाबाद का पशु मेला लगता है. जिस ज़मीन पर पशु मेला लगता है, वो ग्राम समाज की है. ऐसा सुरेंद्र सिंह ने बताया. इस ज़मीन पर मेले का आयोजन ज़िला पंचायत करता है. सुरेंद्र सिंह ने आरोप लगाया कि दो दशक पहले कुछ भूमाफ़ियों ने राजस्व और चकबंदी विभाग के कर्मचारियों के साथ मिलकर ग्राम समाज की ज़मीन को फ़र्ज़ी काग़ज़ात के आधार पर अपने नाम करा लिया. फिर दूसरों को बेच दिया. 

इसके बाद सुरेंद्र सिंह ने बताया कि जिन लोगों ने ज़मीन ख़रीदी थी, वो दबाव के कारण जमीन पर क़ब्ज़ा नहीं कर सके. अब दलकी गांव के रहने वाले विनय कुमार सिंह ने इन क़ब्ज़ा न कर सकने वाले लोगों से 25 बीघे ज़मीन ख़रीदी. विनय कुमार सिंह किसी कम्पनी के डायरेक्टर. और विनय सिंह ठहरे सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त के सगे भांजे. तो मामला बढ़ गया. लिहाज़ा सुरेंद्र सिंह ने कहा कि मामले को ग्राम सभा से विधानसभा तक ले जाएँगे. और विरोध करेंगे.

सुरेंद्र सिंह ने कहा कि ये काम अगर जानबूझकर किया गया है, तो घिनौना है. और इस काम की निंदा की जानी चाहिए. 

इस बारे में हमने वीरेंद्र सिंह मस्त से बात करने की कोशिश की. नहीं हो पाई. लेकिन नवभारत टाइम्स में उनका जवाब आया है इस मुद्दे पर. कहते हैं,

“इब्राहिमाबाद पशु मेले की जमीन के खरीद बिक्री के संदर्भ में मुझे कोई जानकारी नहीं है. अगर किसी ने गलत तरीके से जमीन खरीदा है या किसी ने गलत तरीके बेचा तो इसकी जांच शासन व प्रशासन स्तर से होनी चाहिए और उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए.”


कोरोना सफ़र :

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.