Submit your post

Follow Us

आतंकियों को हथियार पहुंचाने में BJP का पूर्व नेता पकड़ाया, पार्टी ने कहा 'बैकग्राउंड पता नहीं था'

जम्मू-कश्मीर पुलिस के निलंबित DSP दविंदर सिंह का मामला आपको पता होगा. दविंदर सिंह पर आरोप हैं कि उन्होंने आतंकियों से पैसे लिए और आतंकियों को जम्मू-कश्मीर के साथ देश के दूसरे हिस्सों में लाने-ले जाने के लिए सेफ़ पैसेज मुहैया कराया. अब दविंदर सिंह के साथ एक पूर्व सरपंच को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने गिरफ़्तार किया है. सरपंच का नाम तारिक अहमद मीर. 

तारिक अहमद मीर उत्तरी कश्मीर के शोपियां जिले से ताल्लुक़ रखता है. यहां के मलदूरा ग्राम का सरपंच भी रह चुका है. तारिक अहमद मीर पर हिज़्बुल मुजाहिदीन के आतंकी नावीद बाबू को हथियार सप्लाई करने और एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने के आरोप हैं. नावीद बाबू और दविंदर सिंह को इस साल 11 जनवरी को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने साथ में गिरफ़्तार किया था. 

11 जनवरी को DSP दविंदर सिंह हिज़बुल मुजाहिदीन के दो आतंकियों और एक वकील के साथ पकड़े गए थे.
11 जनवरी को DSP दविंदर सिंह हिज़्बुल मुजाहिदीन के दो आतंकियों और एक वकील के साथ पकड़े गए थे.

तारिक अहमद मीर को उसके बारामूला स्थिति घर से गिरफ़्तार किया गया. NIA मीर से जुड़े आरोपों की जांच कर रही है. पूछताछ भी की जा रही है. 

लेकिन यहां पर एक और बात है. बात ये कि हथियार सप्लाई करने का आरोपी तारिक अहमद मीर भाजपा से जुड़ा हुआ. भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ चुका है. और भाजपा ही नहीं, राज्य की बड़ी पार्टी नेशनल कॉन्फ़्रेन्स से भी उसके तार जुड़े नज़र आ रहे हैं. लेकिन राजनीति की बात करने से पहले जानिए इस केस के बारे में थोड़ा कुछ. 

‘इंडिया टुडे’ में प्रकाशित ख़बर के मुताबिक, NIA को तारिक अहमद मीर के आतंकी सूत्रों का पता लग गया है. NIA का मानना है कि 2016 में बुरहान वानी की मौत के बाद तारिक अहमद मीर ऐक्टिव हुआ. उसके बारामूला, उड़ी और पाकिस्तान के क़ब्ज़े वाले कश्मीर में हथियार सप्लाई करने वाले गुटों से संपर्क हुए. ख़बरें बताती हैं कि तारिक अहमद मीर के दो घर हैं और शादियां भी दो. ये भी पता करने की कोशिश की जा रही है कि तारिक अहमद मीर क्या सिर्फ़ हथियार पहुंचाने का ज़रिया था या आतंकी नेटवर्क में उसकी गहरी पैठ भी थी. हालांकि पूछताछ में मीर ने नावीद बाबू से सम्पर्क की बात को स्वीकार कर लिया है. लेकिन DSP दविंदर सिंह के बारे में कोई भी जानकारी होने से इनकार किया है. 

जनवरी में क्या हुआ था

11 जनवरी. जम्मू-कश्मीर पुलिस ने DSP दविंदर सिंह को गिरफ़्तार किया. गिरफ़्तारी के समय दविंदर सिंह नावीद बाबू, उसके साथ मोहम्मद रफ़ी और एक वक़ील मोहम्मद इरफ़ान को जम्मू ले जा रहा था. जम्मू पहुंचने के बाद इन तीन लोगों की योजना वहां से पाकिस्तान जाने की थी. शुरुआते जांच के बाद ये मामला NIA को सौंप दिया गया. जांच आगे बढ़ी और तारिक अहमद मीर हिरासत में.

अब पार्टी वाली बात

ये बात सच है कि तारिक अहमद मीर का जुड़ाव भाजपा से रहा है. हिरासत में लिए जाने के बाद ही सोशल मीडिया पर एक ट्रेंड चलने लगा. #BJPwithTerrorists. भाजपा पर आतंकवादियों से मिले होने के आरोप लग रहे हैं. तमाम ट्वीट हैं. लोग लिख रहे हैं. चुनाव में दिया जाने वाला हलफ़नामा चस्पा कर रहे हैं. तारिक अहमद मीर के नाम से. भाजपा का नाम लिखा दिख रहा है. मौक़ा मिला है कांग्रेस को. ख़ुद देखिए बानगी.

बात सच भी है. 2014 में हुए विधानसभा चुनावों में वाची सीट से तारिक अहमद मीर ने भाजपा के टिकट पर पर्चा भरा था. इस लिंक पर जाकर चुनाव आयोग की वेबसाइट पर तारिक अहमद मीर द्वारा दायर किया गया पूरा हलफ़नामा देखा जा सकता है. इस चुनाव में तारिक अहमद मीर को लगभग 1000 वोट ही मिले. चुनाव में हार. 

और ख़बरें बताती हैं कि इसके पहले लम्बे समय तक तारिक अहमद मीर नेशनल कॉन्फ़्रेन्स की नेतागिरी कर रहा था. सरपंच के चुनावों में पार्टी तो नहीं होती है, लेकिन कहते हैं कि तारिक अहमद मीर ने नेशनल कॉन्फ़्रेन्स के समर्थन से मलदूरा ग्राम का चुनाव लड़ा. जीता.

भाजपा से जुड़ा होने पर भाजपा ने क्या सफ़ाई दी. दिनभर ट्विटर पर ट्रेंड चलने और बहुत समय तक चुप्पी ओढ़े रहने के बाद पार्टी की ओर से जवाब आया कि तारिक अहमद मीर का अब भाजपा के साथ कोई संबंध नहीं है. ‘दी हिंदू’ में छपी ख़बर का हवाला दे रहे हैं. श्रीनगर में भाजपा के प्रवक्ता अल्ताफ़ ठाकुर ने कहा है कि मीर वाची विधानसभा में भाजपा का प्रत्याशी तो था, लेकिन 3 अक्टूबर, 2018 को उसे पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया गया था. लेकिन ये भी कहा है कि 2014 में टिकट देते समय मीर के बैकग्राउंड की जानकारी पार्टी को नहीं थी. उन्होंने कहा,

“मीर पार्टी में किसी रूप में मौजूद नहीं हैं. 2018 में हमें पता चला कि वो पार्टी के कार्यक्रमों में हिस्सा नहीं ले रहे हैं. अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उसे पार्टी से निष्कासित कर दिया गया. हमें पता चला कि उसकी उन पार्टियों से क़रीबी बढ़ रही है, जिनकी विचारधारा भाजपा से नहीं मिलती है. पार्टी तारिक अहमद मीर से ख़ुद को अलग कर चुकी है.”


कोरोना ट्रैकर :

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

बाप ने बेटे को मार-मारकर अस्पताल पहुंचाया, वजह गुस्से को और भड़का देगी

बाप ने बेटे को मार-मारकर अस्पताल पहुंचाया, वजह गुस्से को और भड़का देगी

इस पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है.

राजस्थान: पुलिसिया पिटाई से युवक की मौत का आरोप, चोरी रोकने के नाम पर उठा ले गई थी

राजस्थान: पुलिसिया पिटाई से युवक की मौत का आरोप, चोरी रोकने के नाम पर उठा ले गई थी

पुलिस ने मारपीट के आरोपों को बेबुनियाद बताया है.

BJP के 'झुग्गीवासियों' वाले पोस्टर पर तमिल लेखक की तस्वीर, लोग बोले- रंगभेद की मिसाल

BJP के 'झुग्गीवासियों' वाले पोस्टर पर तमिल लेखक की तस्वीर, लोग बोले- रंगभेद की मिसाल

MCD चुनाव के मद्देनजर 'झुग्गी सम्मान यात्रा' निकाल रही है BJP.

अश्विन ने तोड़ा हरभजन का बड़ा रिकॉर्ड तो भज्जी ने क्या कहा?

अश्विन ने तोड़ा हरभजन का बड़ा रिकॉर्ड तो भज्जी ने क्या कहा?

अश्विन से आगे अब सिर्फ कपिल और कुंबले हैं.

बेंगलुरु: अस्पताल ने बरती ऐसी लापरवाही, डेढ़ साल शव गृह में पड़े रहे कोरोना मृतकों के शव

बेंगलुरु: अस्पताल ने बरती ऐसी लापरवाही, डेढ़ साल शव गृह में पड़े रहे कोरोना मृतकों के शव

पहली लहर में कोविड का शिकार हुए थे.

अजिंक्य रहाणे ने दे दिया अगले मैच के प्लेइंग इलेवन का जवाब

अजिंक्य रहाणे ने दे दिया अगले मैच के प्लेइंग इलेवन का जवाब

जल्दी पारी घोषित क्यों नहीं की ये भी बता दिया.

बिटकॉइन को भारत में करेंसी का दर्जा मिलेगा? सरकार ने जवाब दे दिया है

बिटकॉइन को भारत में करेंसी का दर्जा मिलेगा? सरकार ने जवाब दे दिया है

लोकसभा में पूछे गए सवाल पर क्या बोलीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण?

मैच के बाद अश्विन ने कोच द्रविड़ को दिया किस बात का क्रेडिट?

मैच के बाद अश्विन ने कोच द्रविड़ को दिया किस बात का क्रेडिट?

मौका गंवाने के बाद भी अश्विन की बात कमाल है.

मैच नहीं जीते लेकिन अश्विन ने बहुत बड़ा RECORD बना दिया!

मैच नहीं जीते लेकिन अश्विन ने बहुत बड़ा RECORD बना दिया!

कुंबले, कपिल जैसे दिग्गजों की लिस्ट में पहुंचे अन्ना.

ओमिक्रोन वेरिएंट वैक्सीन को बेकार कर देगा? सौम्या स्वामीनाथन और WHO अलग-अलग बातें कर रहे

ओमिक्रोन वेरिएंट वैक्सीन को बेकार कर देगा? सौम्या स्वामीनाथन और WHO अलग-अलग बातें कर रहे

दक्षिण अफ्रीका के शीर्ष विषाणु विशेषज्ञ और AIIMS प्रमुख ने भी अपनी राय दी है.