Submit your post

Follow Us

बिहार में कोरोना काल में हुई 2.5 लाख 'अतिरिक्त' मौतों पर स्वास्थ्य मंत्री क्या बोले?

बिहार में मार्च 2020 से मई 2021 तक कोरोना महामारी के दौरान नागरिक पंजीकरण प्रणाली (CRS) में दो लाख 51 हज़ार अतिरिक्त मौतें दर्ज हुई हैं. ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक राज्य ने इसी अवधि में कोरोना से 5163 मौतें होने की पुष्टि की है, जबकि CRS का आंकड़ा इससे 48.6 गुना ज़्यादा है.

अतिरिक्त मौतें या मृत्यु दर किसी संकट के दौरान सभी कारणों से होने वाली मौतों की कुल संख्या के बारे में बताता है. ये सामान्य स्थितियों में होने वाली मौतों के मुक़ाबले बहुत ज़्यादा है. इस तरह की सभी अतिरिक्त मौतें केवल कोविड-19 के कारण नहीं हो सकतीं. लेकिन महामारी के दौरान मौतों में इतने बड़े अंतर के पीछे के कारण प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से महामारी और स्वास्थ्य प्रणाली पर पड़ने वाला दबाव हो सकते हैं.

क्या कहते हैं आंकड़े?

महामारी से पहले की अवधि (जनवरी 2015 से फरवरी 2020) के CRS डेटा को एक ऑल कॉज मोरटैलिटी बेसलाइन बनाने के लिए औसत किया गया है. इसकी तुलना मार्च 2020 में दर्ज मौतों से की गई है. जिसके परिणामस्वरूप ‘अतिरिक्त मौतों’ की संख्या सामने आई है.

अंतरराष्ट्रीय और घरेलू स्तर पर, इस तरह का डाटा मानव जीवन पर महामारी के वास्तविक प्रकोप के बारे में अहम जानकारी देता है. बिहार के लिए, डाटा से पता चलता है कि महामारी से पहले, चार साल (2015-2019) की अवधि की तुलना में प्रकोप की शुरुआत के बाद से 2,51,053 अधिक मौतें हुई हैं.

कोविड-19 महामारी के दौरान राज्य सरकारों ने ग्राउंड डेटा को इकट्ठा करने के लिए इस सिस्टम को शुरू किया था. यह रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इंडिया के कार्यालय के तहत सभी जन्म और मृत्यु को रिकॉर्ड करने की राष्ट्रीय प्रणाली है. इसका उपयोग उन मौतों की संख्या की गणना करने के लिए किया जा रहा है जो महामारी से नहीं होती हैं.

द हिंदू, स्क्रॉल, द न्यूज मिनट, आर्टिकल 14 जैसे कई समाचार संगठनों द्वारा किए गए इसी तरह के विश्लेषण ने देश के विभिन्न राज्यों, शहरों और जिलों के लिए अंडरकाउंट फैक्टर का अनुमान लगाया है. आंध्र प्रदेश, असम, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, पंजाब, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल के लिए इस तरह के अनुमान लगाए गए हैं और अंडरकाउंट फैक्टर  की एक विस्तृत श्रृंखला को दिखाया गया है.

हालांकि, बिहार के निष्कर्ष देश में अब तक का सबसे अधिक अंडरकाउंट फैक्टर दिखाते हैं. यह आश्चर्य की बात नहीं है, क्योंकि नीति आयोग के स्वास्थ्य सूचकांक, 2020 में देश में (यूपी के बाद) बिहार नीचे से दूसरे स्थान पर है. देश की 9% आबादी होने के बावजूद, कोविड के कारण 9,649 मौतों की पुष्टि हुई है, जो सिर्फ हिन्दुस्तान टाइम्स कोविड डैशबोर्ड के अनुसार, 19 अगस्त तक देश में कुल 432,138 लोगों की मृत्यु का 2.2% है.

स्वास्थ्य मंत्री का क्या कहना है?

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे का कहना है कि वह CRS डेटा पर टिप्पणी नहीं कर सकते हैं. लेकिन सभी कोविड -19 संबंधित मौतों की पुष्टि जिलाधिकारियों और सिविल सर्जनों द्वारा की गई है. उन्होंने कहा,

इसीलिए हम जून में एक संशोधित मौत के आंकड़े देने में सक्षम थे. फिर भी हमने समय-समय पर सभी से अनुरोध किया है कि यदि उनके परिवार में मृत्यु हुई है और मृत्यु प्रमाण पत्र पर मौत का कारण कोविड 19 लिखा गया है तो वे अपनी एंट्री रिकॉर्ड करवा सकते हैं और राज्य सरकार द्वारा घोषित मुआवजे का दावा कर सकते हैं.

वहीं विश्व स्तर पर, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अनुमान लगाया है कि कोविड -19 की मौत आधिकारिक रूप से बताई गई संख्या से दो-तीन गुना अधिक हो सकती है.


‘कोरोना में ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं’ जैसा बयान सरकार ने इसलिए दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?