Submit your post

Follow Us

तेज प्रताप यादव पत्रकारों को किस बात पर धमका रहे हैं?

लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (RJD) चर्चा में है. वजह है पार्टी नेतृत्व को लेकर लगाई जा रही अटकलें. दरअसल, पिछले दिनों ऐसी खबरें आईं जिनमें दावा किया गया कि तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. इस दावे को तब और हवा मिल गई जब पार्टी दफ्तर पर तेज प्रताप यादव का पोस्टर हटाकर, उनके छोटे भाई तेजस्वी यादव का पोस्टर लगा दिया गया. इसके बाद मंगलवार 10 अगस्त को तेज प्रताप यादव ने एक फेसबुक लाइव किया. इसमें उन्होंने इन तमाम खबरों को गलत और तेजस्वी को अपना अर्जुन बताया. साथ ही कुछ पत्रकारों व मीडिया संस्थानों के खिलाफ मानहानि के मुकदमे की धमकी भी दी. उधर, तेजस्वी यादव की ओर से इस पर कोई टिप्पणी सामने नहीं आई है.

RJD में पोस्टर वॉर?

रविवार 8 अगस्त. RJD की छात्र ईकाई के एक कार्यक्रम ‘छात्र बैठक’ में तेज प्रताप यादव शामिल हुए. इस कार्यक्रम के लिए पार्टी के प्रदेश कार्यालय के बाहर एक होर्डिंग लगा, जिसमें तेज प्रताप यादव के साथ लालू यादव और राबड़ी देवी को जगह दी गई. लेकिन इस पोस्टर से तेजस्वी यादव गायब थे.

Bihar 1
तेज प्रताप की बैठक का पोस्टर. फोटो- आजतक

इसी पोस्टर में RJD के छात्र नेता आकाश यादव की भी फोटो थी, लेकिन तेजस्वी इसमें नहीं थे. इसको लेकर RJD के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा था,

“तेजस्वी जी, तेज प्रताप जी के दिल में बसते हैं. ये कोई वर्चस्व की लड़ाई नहीं है, कोई मुगालते में नहीं रहे. तेजस्वी जी की तस्वीर तमाम चौराहे पर है, कटआउट लगा है. ये छात्र बैठक है और तेज प्रताप जी इसके प्रभारी हैं. इसीलिए उनकी तस्वीर है.”

बैठक के अगले दिन आकाश यादव की तस्वीर पर किसी ने कालिख लगा दी. इसको लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म रहा. फिर इस होर्डिंग को हटाकर एक दूसरा होर्डिंग लगा दिया गया. इसमें लालू यादव और राबड़ी देवी के साथ तेजस्वी यादव की तस्वीर थी. यहां तेज प्रताप यादव गायब दिखे.

Bihar 2
तेजस्वी यादव की फोटो वाला पोस्टर. फोटो- आजतक

इस पर जब आजतक ने पार्टी नेता और प्रवक्ता शक्ति यादव से सवाल किया तो उन्होंने कहा,

“एक दिन का कार्यक्रम था. पोस्टर लगा और हटा दिया गया. जब तेज प्रताप जी ने स्वयं कह दिया कि हमारे नेता वही हैं तो कुछ बच गया क्या? फिर लोग बाल की खाल क्यों नोंच रहे हैं? यहां एक विचारधारा है. कहीं कोई समस्या नहीं है.”

जगदानंद को तेज प्रताप ने बताया हिटलर

छात्रों को संबोधित करने के दौरान तेज प्रताप ने RJD प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह को मंच से ही हिटलर कह दिया था. जगदानंद, तेजस्वी के करीबी माने जाते हैं. ऐसा बताया जाता है कि तेज प्रताप जगदानंद को पसंद नहीं करते. कार्यक्रम में उन्हें लेकर तेज प्रताप ने तंज और चेतावनी भरे लहजे में कहा,

“जगदानंद सिंह सब जगह जाकर के हिटलर की तरह बोलते हैं. पहले जब मैं पार्टी कार्यालय आता था, उस वक्त और अब में जमीन आसमान का फर्क आ गया है. जब पिताजी यहां थे तो पार्टी का गेट हमेशा खुला रहता था. मगर उनके जाने के बाद बहुत लोगों ने मनमानी करनी शुरू कर दी है. कुर्सी किसी की बपौती नहीं है.”

ये पहली बार नहीं था जब तेज प्रताप ने जगदानंद सिंह को लेकर कुछ कहा हो. इससे पहले भी वे उनकी कार्यशैली पर सवाल खड़े करते रहे हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक, जगदानंद सिंह ने लालू यादव से इस्तीफे की पेशकश भी की थी. लेकिन लालू के मनाने के बाद वे अपने पद पर बने रहे थे.

फेसबुक लाइक में गुस्सा हुए तेज प्रताप

10 अगस्त को तेज प्रताप यादव ने एक फेसबुक लाइव किया. इसमें उन्होंने उनके और तेजस्वी के बीच किसी भी तरह की प्रतिद्वंद्विता की बात को नकार दिया. उन्होंने साफ कहा कि तेजस्वी उनके अर्जुन हैं, उनके नेता हैं. ऐसे में दोनों के बीच कहीं किसी तरह का कोई ‘स्पेस’ नहीं है.

इस फेसबुक लाइव के दौरान तेज प्रताप काफी गुस्से में दिखाई दिए. उन्होंने आरोप लगाते हुए ऐसे पत्रकारों और मीडिया को कोर्ट केस व मानहानि के मुकदमे की धमकी दी, जो उनके परिवार में तकरार की खबरें दिखा और छाप रहे हैं. लालू यादव के बड़े बेटे ने कहा,

“जो मैं कहता हूं, वो मैं करता हूं और आज ही अपने वकील को बुलाकर ऐसे मीडिया के खिलाफ एक्शन लूंगा.”

तेज प्रताप ने बीजेपी का नाम लिए बिना पत्रकारों पर बड़ा आरोप लगाया. कहा,

“छात्र के कार्यक्रम में हमने इस इस बात को कहा कि आदरणीय तेजस्वी जी, जो हमारे सीएम बन रहे हैं, हम उनको अपना अर्जुन मानने का काम कर रहे हैं पूरे दिल से. ये चंद लोग जो हमारे परिवार का नाम जपते हैं, रात में कमल के फूल वाले बैनर के नीचे लाल पानी पिलवाते हैं. ये वे लोग हैं जो सोशल मीडिया में अनाप-शनाप लिखते हैं. मैं इन पर ध्यान भी नहीं देता हूं. ये जो तेजस्वी यादव का पोस्टर हटाने का काम किया है, वो हमारा छोटा भाई है और सबसे पहले वो आप लोगों का नेता है. मैंने लगातार तेजस्वी का पक्ष रखने का काम किया है.”

तेज प्रताप ने कहा कि उन्होंने सड़क से सदन तक तेजस्वी का पक्ष रखा है. उन्होंने बार-बार तेजस्वी को अर्जुन कहा और उन्हें अपना ‘मुख्यमंत्री’ भी बताया. तेज प्रताप ने ये भी कहा- जिसको जलन होता है वो जले, हमें तो आगे बढ़ते जाना है.

पुरानी है तकरार की कहानी

तेज प्रताप दावा करते रहे हैं कि उनके और तेजस्वी के बीच कोई तकरार नहीं है. हालांकि इसे लेकर सियासी चर्चाओं का दौर पहले भी गर्माता रहा है. कई बार सवाल किया गया है कि क्या लालू यादव के बड़े और छोटे बेटे के बीच सब कुछ ठीक है? ऐसा इसलिए, क्योंकि काफी वक्त से ऐसा माना जाता रहा है कि तेज प्रताप RJD में अपनी स्थिति से खुश नहीं हैं. 2015 के विधानसभा चुनाव के बाद बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में RJD-JDU की गठबंधन सरकार बनी. तब तेजस्वी यादव को डिप्टी सीएम का पद मिला था. वही, तेज प्रताप को स्वास्थ्य मंत्री बनकर संतोष करना पड़ा.

बाद में जब गठबंधन खत्म हुआ और RJD विपक्ष में आ गई, तब भी तेजस्वी को ही पार्टी का नेता चुना गया था. यही नहीं, पिछले विधानसभा चुनावों के दौरान भी RJD के पोस्टरों में तेजस्वी को ज्यादा जगह मिली थी, जबकि तेज प्रताप को उतना स्पेस नहीं मिल सका था. तब मीडिया रिपोर्टों में तेज प्रताप की नाराजगी की बातें छपी थीं. हालांकि उन्होंने अलग-अलग मंच से कई बार यही कहा कि वे RJD में कृष्ण की भूमिका में हैं और तेजस्वी उनके अर्जुन हैं.


वीडियो- बिहार के दरभंगा में राम मंदिर निर्माण की तरह ईंट क्यों जुटाए जा रहे है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

पांचवा टेस्ट तय तो हो गया लेकिन 54 सालों का इतिहास डरा रहा है!

पांचवा टेस्ट तय तो हो गया लेकिन 54 सालों का इतिहास डरा रहा है!

क्या विराट कोहली कमाल कर पाएंगे.

दिल्ली, मुंबई, कोलकाता नहीं, देश के इस शहर में मिलता है सबसे महंगा पेट्रोल

दिल्ली, मुंबई, कोलकाता नहीं, देश के इस शहर में मिलता है सबसे महंगा पेट्रोल

भोपाल, इंदौर, चेन्नई, हैदराबाद, कोच्चि, बेंगलुरु के बारे में सोच रहे हैं तो वो भी गलत है.

हत्या से पहले कौन लखबीर सिंह को गांव से सिंघु बॉर्डर लाया था? गांव के लोगों ने बड़ी जानकारी दी

हत्या से पहले कौन लखबीर सिंह को गांव से सिंघु बॉर्डर लाया था? गांव के लोगों ने बड़ी जानकारी दी

ये भी पता चला है कि लखबीर सिंह का परिवार बहुत दयनीय हालत में पहुंच गया है.

रहाणे की मानें तो UAE में गेंदबाज़ी और बल्लेबाज़ी से भी अहम क्या होने वाला है?

रहाणे की मानें तो UAE में गेंदबाज़ी और बल्लेबाज़ी से भी अहम क्या होने वाला है?

रहाणे ने बताया कि पिच कैसा खेल दिखाने वाली है.

नकली पैर की वजह से एयरपोर्ट पर बार-बार रोके जाने से दुखी सुधा चंद्रन ने PM मोदी से क्या अपील की?

नकली पैर की वजह से एयरपोर्ट पर बार-बार रोके जाने से दुखी सुधा चंद्रन ने PM मोदी से क्या अपील की?

इंस्टाग्राम पर वीडियो शेयर कर अपनी परेशानी बताई है.

'समीर वानखेड़े ने दुबई-मालदीव में वसूली की', नवाब मलिक के आरोप पर NCB का जवाब आ गया

'समीर वानखेड़े ने दुबई-मालदीव में वसूली की', नवाब मलिक के आरोप पर NCB का जवाब आ गया

समीर वानखेड़े की भी प्रतिक्रिया आई है.

लखीमपुर मामला: आशीष मिश्रा का नया वीडियो सामने आया, बंदूक लेकर कहां जा रहा था?

लखीमपुर मामला: आशीष मिश्रा का नया वीडियो सामने आया, बंदूक लेकर कहां जा रहा था?

एक दूसरे वीडियो में किसान आशीष को खेतों में तलाशते दिखे.

आमिर खान ने विज्ञापन में सड़क पर पटाखे न फोड़ने की नसीहत दी, BJP सांसद बोले- जुम्मे की नमाज़ पर भी बोलो

आमिर खान ने विज्ञापन में सड़क पर पटाखे न फोड़ने की नसीहत दी, BJP सांसद बोले- जुम्मे की नमाज़ पर भी बोलो

पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत हेगड़े ने सड़क पर नमाज और मस्जिदों में लाउडस्पीकर को लेकर क्या मांग कर दी?

किसानों के हक की आवाज उठा रहे योगेंद्र यादव को संयुक्त किसान मोर्चा ने सस्पेंड क्यों कर दिया?

किसानों के हक की आवाज उठा रहे योगेंद्र यादव को संयुक्त किसान मोर्चा ने सस्पेंड क्यों कर दिया?

मामला लखीमपुर हिंसा से जुड़ा है.

पीएम नरेंद्र मोदी ने बताया कि ताली-थाली बजाने और दीया जलाने का क्या फायदा हुआ है

पीएम नरेंद्र मोदी ने बताया कि ताली-थाली बजाने और दीया जलाने का क्या फायदा हुआ है

देश के नाम संबोधन में मोदी ने वैक्सीनेशन अभियान में VIP कल्चर को लेकर क्या कहा?