Submit your post

Follow Us

बिहार बाढ़ की ये 10 तस्वीरें 'बाढ़' को लेकर आपका नज़रिया बदल देंगी

170
शेयर्स

गुज़रते हुए मॉनसून ने शायद ही कभी इतना कहर बरपाया होगा. आसमान से बारिश नहीं नाउम्मीदी बरस रही है. और लगातार ये बढ़ती जा रही है. मौसम विभाग ने हाथ खड़े कर लिए हैं. रेड अलर्ट पहले से जारी था. अब और ज़्यादा पानी बरसने की बात कही है. रेड से भी ज़्यादा और कितना रेड अलर्ट हो सकता है.

बारिश के हालात बुरे से बदतर होते जा रहे हैं. लगभग दो दर्जन लोग बाढ़ से सिर्फ़ बिहार में मारे गए हैं. और सिर्फ़ 29 सितंबर को ही इतना पानी बरस गया कि पिछले कई बरसों का रिकॉर्ड टूट गया. रिकॉर्ड और भी टूट रहे हैं. लेकिन हर टूटता रिकॉर्ड उम्मीद नहीं जगाता है. नाकामियां और अव्यवस्थाएं भी रिकॉर्ड तोड़ती हैं. यूपी-बिहार के कई शहरों में पानी भरा हुआ है. आम जनजीवन ठप है. कहीं बच्चों को दूध नहीं मिल रहा, कहीं दवाएं नहीं पहुंच रहीं. ये वो बाढ़ है जिसने महंगे इलाकों को भी नहीं बख्शा. मुख्यमंत्री हों या अफ़सर, सबका दरवाज़ा पानी ने खटखटा ही दिया है. बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी पिछले तीन दिनों से अपने घर में फंसे हुए थे उन्हें आज 30 सितंबर को बचाया जा सका है.

अब वो 10 तस्वीरें देखिए जो बिहार बाढ़ के बारे में आपका नज़रिया बदल देंगी. क्योंकि अब भी लोग ‘बिहार तो बाढ़ वाला बेल्ट है ही’ का तर्क दे रहे हैं.

शहर में चारों ओर पानी ही पानी है. लोगों के शौचालय तक में पानी भरा हुआ है. लोगों के पास खाने को नहीं है. पीने का साफ़ पानी नहीं है , लोग इसलिए भी नहीं खा रहे कि फिर शौच को कहां जाएंगे.
शहर में चारों ओर पानी ही पानी है. लोगों के शौचालय तक में पानी भरा हुआ है. लोगों के पास खाने को नहीं है. पीने का साफ़ पानी नहीं है , लोग इसलिए भी नहीं खा रहे कि फिर शौच को कहां जाएंगे. 

 

खाना बनाने की जगह नहीं है. मदद लोगों तक पहुंच नहीं रही है . किसी को इस बात का अंदाज़ा भी नहीं था कि मुसीबत इतनी बड़ी बन जाएगी
खाना बनाने की जगह नहीं है. मदद लोगों तक पहुंच नहीं रही है . किसी को इस बात का अंदाज़ा भी नहीं था कि मुसीबत इतनी बड़ी बन जाएगी

 

ये तस्वीर उनके लिए जिन्हें ये लगता है कि बाढ़ केवल सस्ते और झुग्गी टाइप के इलाकों तक ही पहुंची है
ये तस्वीर उनके लिए जिन्हें ये लगता है कि बाढ़ केवल सस्ते और झुग्गी टाइप के इलाकों तक ही पहुंची है

 

सिर पर काग़ज़ पत्तर और थोड़ा बहुत नगद नारायण लेकर ये लोग उस जगह की तलाश में निकले हैं जो अब तक सूखी हो, लेकिन बरसात ने कोई और दरवाज़ा खुला नहीं रखा है
सिर पर काग़ज़ पत्तर और थोड़ा बहुत नगद नारायण लेकर ये लोग उस जगह की तलाश में निकले हैं जो अब तक सूखी हो, लेकिन बरसात ने कोई और दरवाज़ा खुला नहीं रखा है

 

व्यवस्था का ठप्प हो जाना इसे कहते हैं. बाढ़ के पानी के साथ सांप घर में चले आ रहे हैं. इसमें से कुछ ज़हरीले भी होंगे. अगर परिवार में सांप किसी को काट ले तो अस्पताल फोन करेगा, लेकिन एम्बुलेंस आएगी कैसे? वो भी तो बीच मंझदार खड़ी है
व्यवस्था का ठप्प हो जाना इसे कहते हैं. बाढ़ के पानी के साथ सांप घर में चले आ रहे हैं. इसमें से कुछ ज़हरीले भी होंगे. अगर परिवार में सांप किसी को काट ले तो अस्पताल फोन करेगा, लेकिन एम्बुलेंस आएगी कैसे? वो भी तो बीच मंझदार खड़ी है

 

घरों दफ्तरों में पानी है लेकिन वो सामान भी तो है जिसे बरसों की मेहनत के बाद इकठ्ठा किया है. उसे किसके भरोसे छोड़कर जाएं? पानी जब उतरेगा तो खाने को रोटी भी तो चाहिए होगी
घरों दफ्तरों में पानी है लेकिन वो सामान भी तो है जिसे बरसों की मेहनत के बाद इकठ्ठा किया है. उसे किसके भरोसे छोड़कर जाएं? पानी जब उतरेगा तो खाने को रोटी भी तो चाहिए होगी

 

ये तस्वीर ध्यान से देखिए, देख चुके तो एक बार और देखिए. इसे सरसरी निगाह से नहीं देखा जाना चाहिए. स्ट्रेचर घसीटकर ले जाया जा रहा है, और इस स्ट्रेचर पर इस महिला के साथ सरकारी व्यवस्था भी धराशायी है
ये तस्वीर ध्यान से देखिए, देख चुके तो एक बार और देखिए. इसे सरसरी निगाह से नहीं देखा जाना चाहिए. स्ट्रेचर घसीटकर ले जाया जा रहा है, और इस स्ट्रेचर पर इस महिला के साथ सरकारी व्यवस्था भी धराशायी है

 

लोग दूध सब्ज़ी लाने के लिए भी नाव से जा रहे हैं, वो भी तब जब कहीं मिल सके. दूध और पीने का साफ़ पानी बेशक़ीमती हुआ जा रहा है पटना में
लोग दूध सब्ज़ी लाने के लिए भी नाव से जा रहे हैं, वो भी तब जब कहीं मिल सके. दूध और पीने का साफ़ पानी बेशक़ीमती हुआ जा रहा है पटना में

 

अस्पताल में मरीज़ भर्ती हैं. बेड तक पानी भरा हुआ है. पानी के मारे लोग बीमारी से परेशान हाल जब अस्पताल आ रहे हैं तो यहां भी पानी ही उनका एहतराम कर रहा है
अस्पताल में मरीज़ भर्ती हैं. बेड तक पानी भरा हुआ है. पानी के मारे लोग बीमारी से परेशान हाल जब अस्पताल आ रहे हैं तो यहां भी पानी ही उनका एहतराम कर रहा है

 

'शिव' से केवल एक मात्रा कम हो जाए तो 'शव' हो जाता है. बाढ़ के बीच चलती शवयात्रा व्यवस्था का शोकगीत है और इसे गा रहे हैं मुख्यमंत्री समेत वो अफ़सर और नेता जिन्होंने शहर की किडनियां फेल होने तक ये नहीं सोचा कि पानी निकलने का रास्ता नहीं बना सके तो शहर पनीली कब्रगाह बन जाएगा. ठेकेदारों को ठेके दिए गए, बिना ये सोचे कि क्या वो शहर के ड्रेनेज सिस्टम पर कोई असर तो नहीं डाल रहे. अब हालात सामने हैं, शहर समंदर बन चुका है
‘शिव’ से केवल एक मात्रा कम हो जाए तो ‘शव’ हो जाता है. बाढ़ के बीच चलती शवयात्रा व्यवस्था का शोकगीत है और इसे गा रहे हैं मुख्यमंत्री समेत वो अफ़सर और नेता जिन्होंने शहर की किडनियां फेल होने तक ये नहीं सोचा कि पानी निकलने का रास्ता नहीं बना सके तो शहर पनीली कब्रगाह बन जाएगा. ठेकेदारों को ठेके दिए गए, बिना ये सोचे कि क्या वो शहर के ड्रेनेज सिस्टम पर कोई असर तो नहीं डाल रहे. अब हालात सामने हैं, शहर समंदर बन चुका है
लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

गुजरात दंगों के किस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार को हड़का दिया है

बिलकिस बानो. हां, वही बिलकिस बानो.

सनी देओल का गुरदासपुर से सांसद बनना मुंबई के इस लड़के को भारी पड़ गया

कॉल पे कॉल और मैसेज पे मैसेज आ रहे हैं.

कश्मीर का मसला सुप्रीम कोर्ट गया तो रंजन गोगोई ने कहा, 'हमारे पास समय नहीं'

लेकिन एक और बात है, जान लीजिए.

'बिग बॉस 13' की वजह से सलमान खान को एक बड़ा नुकसान सहना पड़ रहा है

मगर वो शो छोड़ भी नहीं सकते क्योंकि मजबूरी है.

गाजियाबाद में पेड़ से लटकी मिली लड़के की लाश

क्या हत्या को सुसाइड बनाकर दिखाया गया है?

योगी ने किस औरत के साथ फोटो लगाकर डिलीट कर दी?

और क्यों? खुद पढ़िए.

गूगल मैप देखकर गाड़ी चला रहा था, फुटपाथ पर सो रहे आदमी को कुचल दिया

दिल्ली से राजस्थान जा रही थी कार.

ओ तेरी! आदित्य ठाकरे चुनाव लड़ेंगे, परिवार में पहले ऐसे शख्स जो मैदान में उतरे हों

न कभी बाल ठाकरे ने चुनाव लड़ा, न उद्धव ने, न राज ने. फिर आदित्य क्यों?

दुनिया के सबसे तेज़ आदमी उसैन बोल्ट को पीछे छोड़ने वाली औरत 10 महीने पहले मां बनी है

एलिसन फीलिक्स को भागते हुए देखिए, मन खुश हो जाएगा.

कल से बदल जाएंगे ये नियम, बैंक से लेकर होटल और गाड़ियों तक पर पड़ेगा ये असर?

जानिए क्या होगा सस्ता और क्या होगा महंगा.