Submit your post

Follow Us

दिल्ली का भजनपुरा मर्डर केस: बच्चे स्कूल से आते गए, वो एक-एक कर मारता चला गया

दिल्ली का भजनपुरा इलाका. यहां 12 फरवरी को एक घर में परिवार के पांच लोगों की लाश मिली थी. घर से बदबू आने के बाद पड़ोसियों ने पुलिस को सूचना दी थी, जिसके बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू की थी. पुलिस को शुरुआती जांच में ये मामला आत्महत्या का लग रहा था. लेकिन जब आगे जांच की गई, तो मालूम हुआ कि हत्या इनके ही रिश्तेदार ने की है. साथ ही हत्या के पीछे 30 हजार रुपये की उधारी की बात सामने आ रही है.

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और पूछताछ कर रही है. वहीं, डेडबॉडी को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है.

# आरोपी कौन है?

पुलिस के मुताबिक, आरोपी का नाम प्रभु चौधरी है. उसकी उम्र करीब 28 साल है. वो मृतकों में से एक शंभुनाथ का फुफेरा भाई है, यानी बुआ का लड़का है. आरोपी सुपौल, बिहार का रहने वाला है. केल्विन कोचिंग इंस्टीट्यूट में कोई छोटी-मोटी नौकरी करता है. और एक कमेट में भी काम करता है.

# हत्या क्यों की?

आरोपी ने शंभुनाथ से 30 हज़ार रुपये उधार लिए थे. इसी को लेकर शंभुनाथ की पत्नी से कई बार कहासुनी भी हुई थी. उन्हीं पैसों को देने के बहाने आरोपी ने शंभुनाथ को दिल्ली के लक्ष्मीनगर बुलाया था. आरोपी ने पुलिस को पूछताछ के दौरान बताया कि तीन फरवरी को करीब 3:30 बजे के आसपास शंभुनाथ को लक्ष्मीनगर बुलाया. पैसे के बारे में डिस्कशन के लिए. शंभुनाथ गया भी. लेकिन आरोपी वहां न जाकर शंभुनाथ के घर चला गया. भजनपुरा, जहां शंभुनाथ की पत्नी सुनीता अकेली थी. वहां दोनों का झगड़ा हुआ और इसी दौरान आरोपी ने सुनीता की हत्या कर दी.

# बच्चों की हत्या कब की?

पुलिस से आरोपी ने बताया कि सुनीता की हत्या के बाद उसकी बेटी कोमल घर पहुंची. पौने पांच बज रहे होंगे, जब उसने उसकी हत्या की. आरोपी का कहना है कि उसने कोमल से कहा कि वो अंधेरे में चल सकती है या नहीं, ये देखने के लिए उसने कोमल की आंख पर पट्टी बांध दी. और जैसे ही कोमल आगे बढ़ी, लोहे की छड़ से आरोपी ने उस पर हमला कर दिया. और बाकी दोनों बच्चों को भी इसी तरह हत्या की. पुलिस का कहना है कि हत्या किसी धारदार हथियार से नहीं की गई है. लोहे की रॉड से ही उसने सब पर हमला किया था.

# शंभुनाथ की हत्या कब की?

पुलिस के मुताबिक, आरोपी ने बताया कि करीब 7.30 बजे उसने शंभुनाथ से फोन पर बात की. उसे वहीं किसी पास के एक गांव में बुलाया. दोनों ने वहां साथ में शराब पी.  हालांकि इस दौरान शंभुनाथ को मालूम नहीं था कि उसकी पत्नी और बच्चों की हत्या हो चुकी है. रात 11 बजे घर दोनों जब घर पहुंचे, तो आरोपी शंभुनाथ की भी हत्या कर देता है. उसके बाद घर के बाहर ताला लगाकर फरार हो गया.

# आरोपी कैसे पकड़ा गया?

पुलिस का कहना है कि उन्हें पहले लग रहा था कि इनकी हत्या में कई लोग शामिल होंगे. लेकिन जब पुलिस ने आरोपी को दिल्ली से गिरफ्तार किया, तो मालूम हुआ कि ये हत्याएं उसने अकेले की हैं. पुलिस ने केस की जांच के लिए पास के CCTV फुटेज की जांच की थी, जिसमें प्रभु घर की ओर जाता दिख रहा था. साथ ही शंभुनाथ के फोन रिकॉर्ड को भी खंगाला था. जिसमें ये मालूम हुआ कि तीन फरवरी को शंभुनाथ की आखिरी बात प्रभु चौधरी नाम से हुई है. 4 फरवरी की कोई डिटेल नहीं मिली. इससे साफ हुआ कि हत्या 3 फरवरी को की गई है. साथ ही बच्चों के स्कूल से पता चला कि बच्चे आखिरी बार तीन फरवरी को ही स्कूल गए थे. उसके बाद की कोई डिटेल नहीं मिली. फिलहाल पुलिस इसके बारे में आरोपी प्रभु चौधरी से पूछताछ कर रही है.

# इन बातों पर संशय बना हुआ है

पुलिस का कहना है कि आरोपी ने हत्या का पहले प्लान बनाया या तुरंत ही हत्या की, ये साफ नहीं है. आरोपी की बातें कितनी सच हैं? हत्या के पीछे 30 हजार रुपये की बात है या कुछ और? शंभुनाथ को लक्ष्मीनगर बुलाकर खुद उसके घर क्यों गया? आरोपी ने यौन शोषण किया है या नहीं? ऐसे तमाम सवालों के जवाब के लिए पुलिस पूछताछ कर रही है.

# परिवारवालों का क्या कहना है?

आरोपी प्रभु के परिवारवालों का कहना है कि उन्हें पैसे की लेनदेन के बारे में जानकारी नहीं थी. प्रभु अपने बड़े भाई दीनानाथ चौधरी के साथ रहते हैं. प्रभु अपने परिवार के साथ जहां ‘सी- ब्लॉक’ की गली नंबर आठ में रहता था, तो वहीं शंभुनाथ गली नंबर 10 में रहता था. दीनानाथ ने दावा किया कि वो और प्रभु, दोनों गली नंबर आठ से गली नंबर 18 में चले गए थे. दीनानाथ का कहना है कि उनका भाई यानी प्रभु पांच लोगों का मर्डर कर सकता है, इस बात का यकीन नहीं है.


वीडियो देखें : कोरोना वायरस पर डॉ. हर्षवर्धन ने बताई क्या है सरकार की तैयारी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

यूपी में बिना परमिशन पैदल नहीं चल सकते? पुलिस ने 10 लोगों को किया गिरफ़्तार

एक सरकारी अधिकारी ज़मानत के लिए क्यों चाहिए?

रवि बिश्नोई के पिता बोले, 'U-19 वर्ल्ड कप फाइनल वाले दिन से उसकी मां ने कुछ खाया नहीं'

अंडर-19 वर्ल्ड कप में रवि ने 17 विकेट लिए थे.

केजरीवाल के जीतने के बाद अखबारों ने वो लिख दिया, जो सोच भी नहीं सकते

और भी बहुत सारे अखबारों ने बहुत कुछ लिखा.

डेढ़ सौ रुपए तक महंगा हुआ सिलेंडर, छह महीने में छठी बार दाम बढ़े

इस बार तो एक तारीख़ का भी इंतज़ार नहीं किया गया.

बीजेपी कल राज्यसभा में कुछ बड़ा करने वाली थी, लेकिन दिल्ली में चुनाव हार गयी

क्या था उस तीन लाइन की चिट्ठी में?

दिल्ली में जीत वाले दिन ही AAP MLA पर गोली चली, पार्टी कार्यकर्ता की मौत

महरौली सीट से जीतने के बाद मंदिर में दर्शन करने गए थे. लौटते वक़्त हमला हुआ.

MP अजब है! यहां कागज़ों में ही बन गए 4.5 लाख टॉयलेट

और 540 करोड़ रुपये खर्च भी हो गए.

U19 World Cup Final: जीतते-जीतते तीन विकेट से पांचवां वर्ल्ड कप हार गई टीम इंडिया

बांग्लादेश क्रिकेट के इतिहास में नया सूर्य उदय हुआ है.

राम मंदिर ट्रस्ट : ऐलान होते ही इन तीन लोगों ने अड़ंगा लगा दिया

किसको शामिल करने की बात कर रहे हैं ये तीन लोग?

CAA पर नाटक खेलने वाले नाबालिग बच्चों से पुलिस ने 5 बार पूछताछ करके बवाल फान लिया

लोगों ने पूछा, आरएसएस के लोगों को क्यों नहीं किया गिरफ्तार?