Submit your post

Follow Us

BCCI के सालाना कॉन्ट्रैक्ट में किन प्लेयर्स का खेल बिगड़ गया?

द बोर्ड ऑफ कंट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया यानी BCCI ने अक्टूबर 2020 से सितंबर 2021 तक के लिए खिलाड़ियों के सालाना कॉन्ट्रैक्ट का ऐलान कर दिया है. 15 अप्रैल को BCCI ने लिस्ट जारी की. कुल 28 खिलाड़ियों को BCCI का सालाना कॉन्ट्रैक्ट दिया गया है. यानी पिछली बार से एक ज़्यादा. पिछली बार 27 खिलाड़ियों को कॉन्ट्रैक्ट मिला था.

अलग-अलग ग्रेड में खिलाड़ियों को मिलने वाली रकम उतनी ही है. A+ वाले खिलाड़ियों को 7 करोड़ रुपये, A ग्रेड वाले खिलाड़ियों को 5 करोड़ रुपये, B ग्रेड वाले खिलाड़ियों को 3 करोड़ और C वालों को एक करोड़ रुपये सालाना. A+ ग्रेड में 3 खिलाड़ी हैं. A में 10, B में 5 और C ग्रेड में 10 खिलाड़ी हैं.

A+ ग्रेड – विराट कोहली, रोहित शर्मा, जसप्रीत बुमराह.

A ग्रेड – आर अश्विन, रविंद्र जडेजा, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, शिखर धवन, केएल राहुल, मोहम्मद शमी, ईशांत शर्मा, ऋषभ पंत, हार्दिक पंड्या.

B ग्रेड – ऋद्धिमान साहा, उमेश यादव, भुवनेश्वर कुमार, शार्दुल ठाकुर, मयंक अग्रवाल.

C ग्रेड – कुलदीप यादव, नवदीप सैनी, दीपक चाहर, शुभमन गिल, हनुमा विहारी, अक्षर पटेल, श्रेयस अय्यर, वॉशिंगटन सुंदर, युज़वेंद्र चहल, मोहम्मद सिराज.

केदार जाधव और मनीष पांडेय ऐसे नाम हैं, जो पिछली बार कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट में शामिल थे. लेकिन इस बार नहीं हैं. वहीं कुलदीप यादव पिछली बार A ग्रेड में थे और युजवेंद्र चहल B ग्रेड में. इस बार दोनों को C ग्रेड में रखा गया है. वहीं 3 खिलाड़ी ऐसे भी हैं, जिन्हें पहली बार BCCI का सालाना कॉन्ट्रैक्ट मिला है. ये नाम हैं- शुभमन गिल, अक्षर पटेल और मोहम्मद सिराज.

गिल ने भारत के लिए 7 टेस्ट में 378 रन बनाए हैं. इनमें 3 अर्धशतक शामिल रहे हैं. वहीं 3 वनडे में गिल ने 49 रन बनाए हैं. अक्षर पटेल ने 38 वनडे में 45 विकेट, 12 T20 में 9 विकेट और और 3 टेस्ट में 27 विकेट लिए हैं. मोहम्मद सिराज ने 5 टेस्ट में 16 विकेट और 3 T20 में 3 विकेट लिए हैं. इसके अलावा सिराज ने एक वनडे भी खेला है, जिसमें कोई विकेट नहीं मिला.


IPL 2021: विराट कोहली को क्यों आया इतना गुस्सा कि कुर्सी ही तोड़ दी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राजस्थान में क्या सचमुच कोरोना वैक्सीन की जमकर बर्बादी हो रही है?

राजस्थान में क्या सचमुच कोरोना वैक्सीन की जमकर बर्बादी हो रही है?

अशोक गहलोत सरकार का इनकार, लेकिन आंकड़े कुछ और ही बता रहे.

रिटायर्ड जस्टिस अरुण मिश्रा को मोदी सरकार ने NHRC चेयरमैन बनाया तो बवाल क्यों हो रहा है?

रिटायर्ड जस्टिस अरुण मिश्रा को मोदी सरकार ने NHRC चेयरमैन बनाया तो बवाल क्यों हो रहा है?

लोग जस्टिस अरुण मिश्रा को इस पद के लिए चुने जाने का बस एक ही कारण गिना रहे हैं.

क्या कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों को लेकर मोदी सरकार झूठ बोल रही है?

क्या कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों को लेकर मोदी सरकार झूठ बोल रही है?

अलग-अलग आंकड़े क्या कहानी बताते हैं?

लक्षद्वीप में दारू और बीफ़ वाले नियमों पर बवाल बढ़ा तो अमित शाह ने क्या कहा?

लक्षद्वीप में दारू और बीफ़ वाले नियमों पर बवाल बढ़ा तो अमित शाह ने क्या कहा?

लक्षद्वीप के सांसद मोहम्मद फैज़ल ख़ुद मिलने गए थे अमित शाह से

पत्रकार से IAS बने अलपन बंदोपाध्याय, जो ममता और मोदी सरकार में रस्साकशी की नई वजह बन गए हैं

पत्रकार से IAS बने अलपन बंदोपाध्याय, जो ममता और मोदी सरकार में रस्साकशी की नई वजह बन गए हैं

ममता बनर्जी ने केंद्र के आदेश की क्या काट ढूंढ निकाली है?

वैक्सीनेशन पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को घेरा, पूछा- वैक्सीन का एक रेट क्यों नहीं?

वैक्सीनेशन पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को घेरा, पूछा- वैक्सीन का एक रेट क्यों नहीं?

वैक्सीन की कमी, राज्यों के टेंडर जैसे मुद्दों पर भी सरकार से तीखे सवाल किए.

यूपी के महोबा में कूड़ा ढोने वाली गाड़ी से शव मोर्चरी में पहुंचाया

यूपी के महोबा में कूड़ा ढोने वाली गाड़ी से शव मोर्चरी में पहुंचाया

विवाद बढ़ता देख अब जांच के आदेश दिए गए.

इस जिले के DM का आदेश- वैक्सीनेशन के बिना नहीं मिलेगी सरकारी कर्मचारियों को सैलरी

इस जिले के DM का आदेश- वैक्सीनेशन के बिना नहीं मिलेगी सरकारी कर्मचारियों को सैलरी

कुछ सरकारी कर्मचारियों ने इस फैसले पर नाराजगी जताई.

छेड़छाड़ कर स्लॉट गायब करने की बात पर सरकार ने कहा-कोविन प्लेटफॉर्म हैक नहीं हो सकता

छेड़छाड़ कर स्लॉट गायब करने की बात पर सरकार ने कहा-कोविन प्लेटफॉर्म हैक नहीं हो सकता

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों का कहना है कि ऐप के साथ छेड़छाड़ कर स्लॉट गायब किए जा रहे हैं.

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की PM केयर्स फंड से इस तरह मदद करेगी सरकार

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की PM केयर्स फंड से इस तरह मदद करेगी सरकार

कमाऊ सदस्यों को खोने वाले परिवारों के लिए भी योजना का ऐलान.