Submit your post

Follow Us

UP में एक दलित ने स्टैंप पेपर पर अंगूठा लगाकर विधायक पुत्र को अपने बेटे के कत्ल के आरोप से बरी कर दिया

बहराइच में भाजपा विधायक के बेटे पर पर दो बच्चों की हत्या का इल्ज़ाम लगने के मामले में बड़ा बदलाव हुआ है. इस घटना में मरने वाले दलित बच्चे के पिता ने अपना बयान बदल दिया है. 25 जून की दोपहर उन्होंने स्टांप पेपर पर लिखकर अपना एक बयान जारी किया कि उनके बच्चे की मौत के पीछे पयागपुर से भाजपा विधायक सुभाष त्रिपाठी के बेटे का हाथ नहीं है.

मामला क्या था?

21 जून को बहराइच के भौरी गांव के दो बच्चे – करण (10 साल) और निसार (11 साल) अपने खेतों की ओर निकले, तो शाम तक नहीं लौटे. जब उन्हें ढूंढा गया तो घाघरा नदी के पास करण की लाश मिली. करण के पिता चेतराम ने कहा कि उनके बेटे को पास चलने वाली रेत खदान के लोगों ने ज़िंदा रेत में दफन कर दिया था. निसार का पता पूरी रात नहीं चला, अगली सुबह उसकी लाश नदी में रेत खदान के पास ही एक गड्ढे में मिली. दो बच्चों की मौत के बाद गांव वाले भड़क गए. उन्होंने रेत खदान की मशीनों और गाड़ियों तोड़फोड़ मचा दी.

todfod

मामले की शिकायत पुलिस को की गई तो उसमें खदान सूपरवाइज़र मनोज शुक्ला के साथ-साथ पयागपुर से भाजपा विधायक सुभाष त्रिपाठी का बेटा निशंक नामज़द थे. लोगों की शिकायत थी कि खदान का ठेकेदार श्रीराम मिश्रा अवैध रूप से नदी से रेत निकाल रहा था और इसमें उसका साथ निशंक दे रहा था. रेत की खुदाई चेतराम की ज़मीन पर भी हो रही थी जिसकी शिकायत उन्होंने प्रशासन से की थी. कहा गया कि इसी अदावत के चलते बच्चों की जान गई है.

तोड़फोड़ करने वाले ग्रामीणों के खिलाफ पुलिस में शिकायत की गई जिनमें चेतराम के साथ 50 लोगों के नाम थे. 179 अज्ञात लोगों का भी ज़िक्र था. इससे मामले में दो एफआईआर हो गईं. एक चेतराम की ओर से और एक उनके खिलाफ. लेकिन 25 जून तक चेतराम अपनी बात पर अडिग रहे. वो कहते रहे कि उनके बेटे की नाक में बालू (रेत) मिली है. इसलिए यकीनन उसे ज़िंदा ही रेत में गाड़ दिया गया था. इसके लिए वो खनन ठेकेदार के साथ विधायक के बेटे पर आरोप लगा रहे थे.

पुलिस को की गई शिकायत की प्रति
पुलिस को की गई शिकायत की प्रति

चूंकि चेतराम दलित समाज से आते हैं, उनकी त्रासदी पर तुरंत राजनीति भी होने लगी. आज़म खान ने पूछ लिया कि योगी के आने पर गुंडा राज के अंत के वादे का क्या हुआ. साथ ही उन्होंने मांग कर डाली कि एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार राम नाथ कोविंद करण की अंत्येष्टी में शामिल हों क्योंकि वो भी एक दलित हैं. भाजपा में इसका जवाब आज़म खान के कद के किसी नेता ने नहीं दिया. बस सुभाष त्रिपाठी कहते रहे कि उनके खिलाफ साजिश हुई है.

पहले भी हुई थी अवैध खनन की शिकायत

अवैध उत्खनन को लेकर चेतराम ने 17 और 19 जून को भी शिकायत दर्ज कराई थी. बहराइच डीएम से की उनकी शिकायत में उन्होंने कहा था कि ठेकेदार उनकी ज़मीन पर खुदाई कर रहा है और वहां गाड़ियां खड़ी करता है. भौंरी गांव वालों ने 24 जून को अवैध खनन के खिलाफ अनशन का ऐलान किया था. (हालांकि ये टल गया क्योंकि उसके पहले ही बच्चों की मौत हो गई.) कलेक्टर ने इसे लेकर एक कमिटी भी बनाई थी.

machine

 

फिर 25 जून को सब बदल गया

सुभाष त्रिपाठी मीडिया के सामने आए और बोले कि अगर उनपर या उनके बेटे पर आरोप साबित हो जाते हैं, तो वो राजनीति से आजीवन संन्यास ले लेंगे. उन्होंने आज़म खान को चुनौती देकर कहा कि वो तो संन्यास लेने को तैयार हैं, लेकिन अगर वो निर्दोष निकले तो आज़म खान क्या करेंगे?

 

पयागपुर से भाजपा विधायक सुभाष त्रिपाठी
पयागपुर से भाजपा विधायक सुभाष त्रिपाठी

 

 

लेकिन न सुभाष त्रिपाठी न आज़म खान के संन्यास की नौबत आई. 25 जून की दोपहर चेतराम मीडिया के सामने आए. उनके हाथ में 10 रुपए का एक स्टांप पेपर था. उसपर जो लिखा था, वो कुछ यूं था-

दावा 1 : मेरे बेटे की मौत डूबने से हुई है.

दावा 2 :  मैं और मेरी पत्नी अपने बच्चे की मौत से दुखी थे. भीड़ में से किसी ने मनोज शुक्ला और निशंक त्रिपाठी के खिलाफ शिकायत कर के मेरा अंगूठा कागज़ पर लगवा दिया था.

दावा 3 : इस मामले में निशंक त्रिपाठी और मनोज शुक्ला निर्दोष हैं. उनका इस मामले से कोई सरोकार नहीं.

 

मीडिया के सामने चेतराम ने ये बयान पेश किया
मीडिया के सामने चेतराम ने ये बयान पेश किया

 

इस सब से मामला एक बार को खत्म लगने लगता है. क्योंकि चेतराम अपने दावे से पलट गए हैं. लेकिन इस मामले में कुछ बातें हैं जो समझ से बाहर हैं और जिन पर गौर किया जाना चाहिए:

# मामले में पहले बच्चों की मौत की एफआईआर हुई. इसमें हत्या और हत्या के सबूत मिटाने जैसे गंभीर आरोप थे. करण वाले मामले में एससी-एसटी एक्ट की धाराएं भी लगी थीं. इसके बावजूद कोई गिरफ्तारी नहीं हुई. दी लल्लनटॉप के पास उपलब्ध जानकारी के अनुसार इस दौरान निशंक और मनोज शुक्ला फरार नहीं थे. फिर भी पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार नहीं किया.

# गांव वालों का कहना है कि पुलिस ने बच्चों के मरने की एफआईआर तब जाकर दर्ज की जब उन्होंने थाने का घेराव किया और ऐलान किया कि जब तक एफआईआर नहीं होगी, बच्चों की अंत्येष्टी नहीं की जाएगी.

# 4 दिन तक चेतराम कहते रहे कि उनके बच्चे की मौत रेत में गाड़े जाने से हुई है. फिर अचानक न सिर्फ उन्होंने शिकायत से विधायक के बेटे का नाम वापस लिया बल्कि बेटे के मरने की वजह पर भी अपना दावा वापस ले लिया. ये सब विधायक के मीडिया के सामने आने के कुछ घंटों बाद हुआ.

बच्चों की मौत के बाद जमा लोग
बच्चों की मौत के बाद जमा लोग

इस सब से ऐसा प्रतीत होता है कि प्रशासन बच्चों की मौत पर गंभीर कार्रवाई में रुचि नहीं ले रहा था. ज़्यादा ज़ोर इस बात पर था कि कैसे मामले में से विधायक के बेटे का नाम हटवाया जाए. ‘दी लल्लनटॉप’ ने इस बारे में एक स्थानीय पत्रकार से बात की. उन्होंने इसकी तस्दीक की. उनका कहना था कि सीधे नाम भले न लिया जा सके, पर इस बात से कतई इनकार नहीं किया जा सकता कि चेतराम अपना बयान बदलने के लिए खासे दबाव में थे और ये दबाव एक ही जगह से आ सकता था.

बहरहाल, चेतराम के बयान के बाद मामले का रुख बदला है लेकिन खत्म नहीं हुआ है. घटना में करण के अलावा निसार की जान भी गई थी. निसार के परिवार ने भी यही कहा था कि उनके बेटे की हत्या हुई है. उनका कहना था कि जिस गड्ढे में उसकी लाश मिली उसे रात में भी तलाशा गया था. लेकिन तब वो वहां नहीं मिला था. उसकी लाश सुबह वहां लाकर डाली गई. लेकिन इस पूरे शोर में निसार की कहानी कहीं गुम हो गई.

असल बात जो भी हो, उसके लिए एक निष्पक्ष जांच की ज़रूरत है.


ये भी पढ़ेंः

चंबल का ये गांव नदी से तैरती हुई लाशें हटा कर पानी भरता है

‘मोगली गर्ल’ के बारे में बताई गई सारी कहानियां झूठी थीं!

बहराइच ग्राउंड रिपोर्ट: जहां यूपी का एक मंत्री चाय पिलाने के लिए खुद भैंस दुहता है

बहराइच की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस के अति प्राचीन दफ्तर का किस्सा

 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

मोदी की 'हुंकार' रैली में धमाके करने के आरोपियों को NIA कोर्ट ने दोषी ठहराया

मोदी की 'हुंकार' रैली में धमाके करने के आरोपियों को NIA कोर्ट ने दोषी ठहराया

2013 का गांधी मैदान सीरियल ब्लास्ट मामला.

न्यूज़ीलैंड के साथ इतना बुरा तो मैच में भी नहीं हुआ था, जितना पाकिस्तानी फ़ैन्स ने मैच के बाद किया

न्यूज़ीलैंड के साथ इतना बुरा तो मैच में भी नहीं हुआ था, जितना पाकिस्तानी फ़ैन्स ने मैच के बाद किया

आदत से मजबूर है पाकिस्तानी फै़न्स.

शोएब अख्तर की पाकिस्तान में तगड़ी बेइज्जती हो गई!

शोएब अख्तर की पाकिस्तान में तगड़ी बेइज्जती हो गई!

अख्तर ने ट्विटर पर दी सफाई.

वे किरदार जिन्होंने मुंबई क्रूज ड्रग्स केस को हाई प्रोफाइल ड्रामा बना दिया

वे किरदार जिन्होंने मुंबई क्रूज ड्रग्स केस को हाई प्रोफाइल ड्रामा बना दिया

आर्यन खान इस ड्रामे के केंद्र में हैं, लेकिन अकेले नहीं हैं.

रेप केस में गिरफ्तार कांग्रेस MLA का बेटा थाने में भी हेकड़ी दिखाने से बाज़ नहीं आया

रेप केस में गिरफ्तार कांग्रेस MLA का बेटा थाने में भी हेकड़ी दिखाने से बाज़ नहीं आया

6 महीने से फरार था आरोपी.

कोवैक्सीन पर WHO से भारत को मिल रही है तारीख-पे-तारीख

कोवैक्सीन पर WHO से भारत को मिल रही है तारीख-पे-तारीख

WHO से इमरजेंसी अप्रूवल का मामला फिर लटक गया है.

8 लाख से कम कमाई वालों को ही गरीब क्यों मानती है सरकार, सुप्रीम कोर्ट में बताया है

8 लाख से कम कमाई वालों को ही गरीब क्यों मानती है सरकार, सुप्रीम कोर्ट में बताया है

मामला NEET के लिए EWS कोटे से जुड़ा है.

लखीमपुर हिंसा: BJP वर्कर्स की हत्या के दो आरोपी गिरफ्तार, एक की टीशर्ट पर भिंडरावाले की तस्वीर थी

लखीमपुर हिंसा: BJP वर्कर्स की हत्या के दो आरोपी गिरफ्तार, एक की टीशर्ट पर भिंडरावाले की तस्वीर थी

आरोपियों की पहचान विचित्र सिंह और गुरविंदर बिंदा के रूप में की गई है.

वकार युनूस ने अपने 'हिंदु-मुसलमान' वाले बेहूदे बयान पर आखिर माफी मांग ली है

वकार युनूस ने अपने 'हिंदु-मुसलमान' वाले बेहूदे बयान पर आखिर माफी मांग ली है

खेल के बीच धर्म को लाने पर हो रही थी आलोचना.

गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट देने वाली SIT की क्लोजर रिपोर्ट पर अब खुद गौर करेगा सुप्रीम कोर्ट

गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट देने वाली SIT की क्लोजर रिपोर्ट पर अब खुद गौर करेगा सुप्रीम कोर्ट

जकिया जाफरी की याचिका पर कोर्ट ने क्लोजर रिपोर्ट तलब की है.