Submit your post

Follow Us

राजनीति छोड़ने की घोषणा के बाद बाबुल सुप्रियो ने एक और FB पोस्ट लिख किसे जवाब दिया?

पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने शनिवार, 31 जुलाई को राजनीति छोड़ने की घोषणा की. उन्होंने फेसबुक पर लंबा चौड़ा पोस्ट लिखकर इसका ऐलान किया. बाबुल के इस फैसले पर कई तरह के रिएक्शन आए. इसके बाद बाबुल सुप्रियो ने फेसबुक पर एक और पोस्ट लिखा. इस पोस्ट में उन्होंने बंगाल BJP के अध्यक्ष दिलीप घोष और TMC नेता कुणाल घोष के बयानों का जिक्र किया. वहीं बाबुल ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मुलाकात की. नड्डा ने उन्हें अपने फैसले पर फिर से विचार करने को कहा है.

बाबुल ने लिखा,

“मैंने आप लोगों के कमेंट पढ़े हैं. हर कोई इसे अपने तरीके से देख रहा है, उसी तरह समझ रहा है और इसका समर्थन कर रहा है या विरोध कर रहा है. सवाल उठा रहा है और पूछ भी रहा है. कुछ लोग अपनी पसंद के अनुसार भाषा का प्रयोग कर रहे हैं. मैं यह सब स्वीकार करता हूं, लेकिन मैं अपने काम से जवाब दे सकता हूं. इसके लिए मुझे सांसद या मंत्री के पद पर क्यों रहना है? मुझे थोड़ा समय दीजिए. अब मैं अपनी सिंगिंग और शोज पर फोकस करूंगा. मेरे पास बहुत समय होगा.”

बाबुल ने दिलीप घोष और कुणाल घोष के बयानों का जिक्र करते हुए लिखा,

“मुझे हर रोज ऐसे कमेंट से नहीं जूझना पड़ेगा. पॉजिटिव एनर्जी बचेगी. इसका इस्तेमाल मैं अच्छे काम के लिए कर सकता हूं.”

क्या कहा था दोनों नेताओं ने?

बाबुल सुप्रियो के राजनीति छोड़ने के ऐलान को बंगाल में सत्ताधारी पार्टी TMC ने ड्रामा बताया था. TMC के प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा था-

“अगर कोई राजनीति छोड़ने की बात करता है तो पहले सांसद का पद छोड़े. नहीं तो मैं कहूंगा कि यह सब ड्रामा है. मंत्रालय छिनने के बाद उन्हें पार्टी में घेर लिया गया. हताशा के कारण वह दिल्ली का ध्यान अपनी ओर खींचने की कोशिश कर रहे हैं. लोकसभा चालू है. स्पीकर बैठे हैं. उनका इस्तीफा देने की जगह फेसबुक पर ड्रामा चल रहा है. उनकी राजनीति छोड़ने की कोई इच्छा नहीं है. वह कोशिश कर रहे हैं कि लोग उन पर ध्यान दें जैसे शोले में धर्मेंद्र पानी की टंकी पर चढ़ जाता है और नाटक करता है. बाबुल वास्तव में सिंगर थे, लेकिन अब वो ड्रामा कर रहे हैं.”

वहीं एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बंगाल में BJP के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा था कि कौन राजनीति में रहना चाहता है और कौन छोड़ना चाहता है, यह उनका निजी फैसला है. मेरे पास कहने के लिए कुछ नहीं है. क्या उन्होंने इस्तीफा दे दिया है? वह अभी भी सांसद हैं. मुझे उनके इस्तीफे की जानकारी नहीं है. फेसबुक पर कुछ पोस्ट करके कोई राजनीति नहीं छोड़ता.

वहीं ANI से बातचीत में बाबुल ने अपने फेसबुक पोस्ट के बारे में कोई भी टिप्पणी करने से मना कर दिया था. उन्होंने कहा था कि उन्हें जो कुछ कहना था, उन्होंने फेसबुक पर लिख दिया है.

बाबुल का पॉलिटिकल करियर

शनिवार रात जेपी नड्डा के घर पर बाबुल सुप्रियो की उनसे मुलाकात हुई. सुप्रियो को नड्डा ने उनके निर्णय पर दोबारा सोचने को कहा है. एक दिन का समय दिया है. बताया ये भी जा रहा है कि सोमवार को सदन की कार्यवाही खत्म होने के बाद जेपी नड्डा और बाबुल सुप्रियो के बीच दोबारा मुलाकात होनी है. कहा जा रहा है कि मंलगवार, 3 अगस्त तक BJP में बने रहने को लेकर बाबुल सुप्रियो अंतिम फैसला लेंगे.

बाबुल सुप्रियो 2019 के लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल की आसनसोल सीट से दूसरी बार BJP के टिकट पर जीते थे. उन्हें मंत्री बनाया गया था, लेकिन हाल ही में कैबिनेट में फेरबदल के बाद उन्हें मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था. इससे पहले BJP ने उन्हें पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में विधायकी लड़वाया था, लेकिन सुप्रियो हार गए थे. उन्होंने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि बंगाल चुनाव से पहले ही कुछ मुद्दों पर राज्य नेतृत्व के साथ मतभेद थे. कुछ मुद्दे सार्वजनिक रूप से सामने आ रहे थे. कहीं न कहीं वो इसके लिए जिम्मेदार हैं. उन्होंने लिखा है कि वह काफी समय से इसके बारे में सोच रहे थे और फाइनली उन्होंने राजनीति छोड़ने की घोषणा कर दी.


जाधवपुर यूनिवर्सिटी में बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो का हुआ था विरोध

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

7 लाख का इनामी गैंगस्टर काला जठेड़ी यूपी के सहारनपुर से गिरफ्तार

साथी अनुराधा उर्फ मैडम मिंज भी गिरफ्तार.

संसद में हंगामे का नतीजा, लोकसभा में इन 5 चर्चित विधेयकों को पारित होने में एक घंटा भी नहीं लगा

राज्यसभा का हाल भी जान लीजिए.

धनबाद: चोरी के ऑटो से मारी थी जज को टक्कर; हादसा नहीं, हत्या है?

CCTV फुटेज ने दिखाई असलियत.

चर्चित हत्याकांड की सुनवाई कर रहे जज की टेम्पो से टक्कर के बाद मौत, वीडियो ने खड़े किए सवाल

घटना झारखंड के धनबाद की है.

बिहार के इस IAS से लोगों को इतना प्यार कि ट्रांसफर रोकने के लिए ट्विटर पर मुहिम चला दी

अपने पूरे करियर में IAS रंजीत सिंह ने सराहनीय काम किए हैं.

कौन हैं बसवराज बोम्मई, जिन्हें कर्नाटक का नया सीएम बनाया गया है?

27 जुलाई को बीजेपी विधायक दल की बैठक में बसवराज बोम्मई के नाम पर मुहर लग गई.

छत्तीसगढ़ कांग्रेस के विधायकों का यह झगड़ा भूपेश बघेल सरकार के लिए संकट बनेगा?

भाजपा को भूपेश बघेल सरकार पर निशाना साधने का बढ़िया मौका मिल गया है.

राज कुंद्रा ने 121 कथित पॉर्न वीडियोज़ की इंटरनेशनल डील की, जिसकी कीमत हैरान कर देती है

ये वीडियोज़ इतनी महंगी बिकने वाली थीं, इसका उनमें काम करने वालों को अंदाज़ा भी नहीं होगा.

तस्वीरों में: महाराष्ट्र में भारी बारिश से बाढ़ के हालात, पानी बसों की छत तक पहुंचा

ठाणे, रत्नागिरी, यवतमाल समेत राज्य के इलाकों में हालात बदतर होते दिख रहे हैं.

संसद: TMC सांसद ने मंत्री के हाथ से पेपर छीनकर फाड़े, लेकिन हरदीप पुरी पर क्या आरोप लगे?

TMC सांसद पर क्या कार्रवाई की तैयारी कर रही सरकार?