Submit your post

Follow Us

आयुष मंत्रालय के सचिव ने हिंदी को लेकर क्या कह दिया कि बवाल कट गया है?

आयुष मंत्रालय विवादों में है. इसके सचिव वैद्य राजेश कोटेचा पर एक ट्रेनिंग सेशन में गैर हिंदी भाषी डॉक्टरों से चले जाने को कहने का आरोप लगा है. यह आरोप तमिलनाडु के योग और नेचुरोपैथी के डॉक्टरों ने लगाया है. इन डॉक्टरों ने इस बात पर आपत्ति जताई थी कि ट्रेनिंग सेशन अंग्रेजी के बजाए हिंदी में किया जा रहा है. इस ट्रेनिंग सेशन में करीब 300 लोग शामिल हुए थे. तमिलनाडु से 37 प्रतिभागी इसका हिस्सा थे. डॉक्टरों के आरोप के बाद तमिलनाडु के सांसदों ने सरकार से आयुष सचिव को सस्पेंड करने की मांग की है. अभी तक सरकार की ओर से इस बारे में कोई बयान नहीं आया है.

क्या है मामला 

डॉक्टरों के हवाले से डेक्कन हेराल्ड अखबार ने लिखा है कि तीन दिन का ट्रेनिंग सेशन था. लेकिन इसमें केवल चार सेशन ही अंग्रेजी में थे. बाकी सब हिंदी में थे. उन्होंने बार-बार कहा कि ये सेशन अंग्रेजी या दोनों पक्षों के समझ में आने वाली भाषा में कराए जाएं. लेकिन किसी ने कोई ध्यान नहीं दिया. बाद में उनसे कहा गया कि वे सेशन छोड़कर जा सकते हैं. आरोप लगा रहे डॉक्टरों ने आयुष सचिव वैद्य राजेश कोटेचा का एक वीडियो भी रिलीज किया. इसमें कोटेचा ने कहा कि वे अच्छे से अंग्रेजी नहीं बोल सकते. वे यह कहते सुनाई देते हैं,

पिछले दो दिन से इस इवेंट में शामिल होने वाले सभी लोगों को वे बधाई देते हैं. एक समस्या है… लोग जा सकते हैं… मुझे अंग्रेजी अच्छे से नहीं आती. इसलिए मैं हिंदी में बोलूंगा.

तमिलनाडु के नेताओं ने जताया ऐतराज़

तमिलनाडु के नेताओं ने इस मामले पर कड़ी प्रतिक्रिया दी हैं. तूतूकुडी से डीएमके सांसद कनिमोझी ने आयुष सचिव वैद्य राजेश कोटेचा को सस्पेंड करने की मांग की. उन्होंने ट्वीट किया और सचिव के बयान की आलोचना करते हुए केंद्र सरकार से अनुशासनात्मक कार्रवाई करने को कहा. उन्होंने लिखा,

आयुष मंत्रालय के सचिव वैद्य राजेश कोटेचा ने एक ट्रेनिंग सेशन के दौरान कहा कि गैर हिंदी भाषी प्रतिभागी सेशन से जा सकते हैं. यह बयान हिंदी थोपे जाने के दबदबे को दिखाता है. इसकी कड़ी आलोचना होनी चाहिए.

उन्होंने आगे लिखा,

सरकार को सचिव को सस्पेंड कर देना चाहिए और उनके खिलाप जरूरी अनुशासनात्मक कार्रवाई करनी चाहिए. कब तक हिंदी न बोलने वालों को बाहर करने का बर्ताव सहन किया जाएगा.

कांग्रेस सांसद कार्ति चिदंबरम ने भी कनिमोझी की मांग का समर्थन किया. उन्होंने भी हिंदी बोले जाने की जबरदस्ती को अस्वीकार्य बताया. तमिलनाडु की शिवगंगा सीट से सांसद कार्ति ने लिखा,

आयुष ट्रेनिंग में हिंदी के जरिए तमिलनाडु के नुमाइंदों को नज़रअंदाज़ किया. अंग्रेजी न आना समझा जा सकता है लेकिन हिंदी नहीं जानने वालों को जाने को कहने और हिंदी बोलने पर जोर देने के अहंकार को स्वीकार नहीं किया जा सकता.

एक्टर और राजनेता कमल हासन ने भी इस मसले पर अपनी राय रखी. उन्होंने कहा कि सरकार को सबके समझ में आने वाली भाषा अपनानी चाहिए, उन्होंने लिखा,

आयुष मंत्रालय के अधिकारी हमारी दवाओं को कैसे समझेंगे जब वे हमारी तमिल भाषा को ही नहीं समझते. यह हमारे डॉक्टरों की उदारता है कि उन्होंने उनसे सवाल नहीं किया. सरकार को ऐसी भाषा में काम करना चाहिए जो सबको समझ आए. यह हिंदी सरकार नहीं है. मत भूलिए कि यह भारतीय सरकार है.

महीने की शुरुआत में भी हुआ था विवाद

बता दें कि इस अगस्त के शुरुआत में भाषा के मसले पर विवाद हुआ था. कनिमोई ने आरोप लगाया था कि जब उन्होंने एक सीआईएसएफ अधिकारी से तमिल या अंग्रेजी में बात करने को कहा, तो उसने सवाल किया कि वह भारतीय हैं या नहीं. मामला सामने आने के बाद सीआईएसएफ ने जांच के आदेश दिए थे.


Video: डिटेंशन कैंप में शुरू हुआ था IIT खड़गपुर, आज यहां से पढ़ने वाले कमाल कर रहे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या बढ़िया फ्रिज न होने के कारण इंडिया में कोरोना वैक्सीन लगने में और लेट हो सकती है?

कोल्ड चेन का पूरा तिया पांचा यहां समझिए.

साल 2015 के बाद गुजरात, केरल, बंगाल, महाराष्ट्र और बिहार के बच्चों में बढ़ा कुपोषण

सर्वे का दावा, बच्चों की लम्बाई और वज़न ख़तरनाक तरीक़े से घट रहे

क्या कोरोना की नई वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों को लकवा मार जा रहा है?

वैक्सीन लगवाने पर कुछ लोगों में एलर्जी की समस्या भी सामने आई है.

किसान आंदोलन के समर्थन में वैज्ञानिक ने केंद्रीय मंत्री के हाथ से अवॉर्ड लेने से मना कर दिया

पत्र में कहा, 'ये मेरी अंतरात्मा के खिलाफ़ है'

350 करोड़ का स्कैम उजागर करने वाले RTI एक्टिविस्ट की मौत पर पुलिस और फ़ैमिली अलग कहानी क्यों बता रहे?

पुलिस ने कहा कि दुर्घटना में मौत हुई, परिवार हत्या का आरोप लगा रहा

एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा, 'ऐसा ही चलता रहा तो कोई भी शिकार बन सकता है'

हैदराबाद के ICFAI लॉ स्कूल में रूल ऑफ लॉ पर लेक्चर दे रहे थे जस्टिस चेलमेश्वर.

कोरोना का ट्रायल वैक्सीन लेने वाले हरियाणा के मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए

कोरोना की वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के दौरान टीका लगाया गया था.

उइगर मुस्लिम ने बताया, 'चीन में हमें ज़बरदस्ती सूअर का मांस खिलाया जाता था'

नसबंदी न करवाने पर उइगर मुस्लिमों के साथ क्या होता है?

सरकार और किसानों के बीच साढ़े सात घंटे तक चली बैठक में क्या नतीजा निकला, जान लीजिए

कृषि मंत्री ने बताया, सरकार किन-किन बातों पर राजी हो गई है

दुनिया को मिली पहली 'भरोसेमंद' कोरोना वैक्सीन, अगले हफ्ते से लगेंगे टीके

ब्रिटेन पहला पश्चिमी देश है, जहां कोविड-19 वैक्सीन को हरी झंडी दी गई है