Submit your post

Follow Us

अयोध्या : मुस्लिम पक्ष ने कोर्ट में वो बात कह दी जो किसी ने सोचा भी नहीं होगा

अयोध्या मामले में रोज़ सुनवाई हो रही है. 32वें दिन की सुनवाई हो रही है 26 सितम्बर को. इसके ठीक एक दिन पहले यानी 25 सितम्बर को सुप्रीम कोर्ट में बहस के दौरान के मामले के मुस्लिम पक्ष सुन्नी वक्फ बोर्ड ने कोर्ट में दलील दी कि पुरातत्त्व विज्ञान “असली विज्ञान” नहीं है.

सुन्नी वक्फ बोर्ड की वकील मीनाक्षी अरोरा इस मामले को कल पेश कर रही थीं. वे Archaeological Survey of India यानी ASI की रिपोर्ट पर कल सुप्रीम कोर्ट में बात कर रही थीं. उन्होंने कहा 2003 में बाबरी मस्जिद की जगह पर किये गए पुरातात्विक अध्ययन में बहुत सारी गड़बड़ियां हैं.

जब मीनाक्षी अरोरा ने ये बात कोर्ट में रखी तो चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सवाल किया कि जब इस मामले की सुनवाई इलाहाबाद हाईकोर्ट में हो रही थी, सुन्नी वक्फ बोर्ड ने सर्वे रिपोर्ट में गड़बड़ी होने की बात तब क्यों नहीं उठायी. बेंच ने ये अचरज दिखाया कि सुप्रीम कोर्ट में ये ही बिंदु क्यों उठाया जा रहा है, हाईकोर्ट में क्यों नहीं उठाया गया, जिसके आदेशों के बाद ही विवादित स्थल की पुरातात्त्विक जांच हुई थी.

इस पर मीनाक्षी अरोरा ने कहा कि आपत्ति को हाईकोर्ट में उठाया गया था, लेकिन कोर्ट ने बस इतना कहा था कि उनके प्रदर्शन से बाद में निपटा जाएगा. उन्होंने कहा कि लेकिन ऐसा नहीं हो सका. सुप्रीम कोर्ट ने फिर से कहा कि अगर आपने तब हाईकोर्ट में अपना प्रतिरोध नहीं दर्ज किया, तो अब किया गया प्रतिरोध नहीं दर्ज किया जा सकता है.

दरअसल जब ये मामला इलाहाबाद हाईकोर्ट में चल रहा था, उस समय हाईकोर्ट ने ASI को आदेश दिया कि विवादित स्थान की जांच की जाए. ASI ने रिपोर्ट किया कि बाबरी मस्जिद के नीचे किसी विशाल स्ट्रक्चर के अवशेष मिले हैं. जो बाबरी मस्जिद के बनने से पहले से वहां मौजूद थे. इसके बारे में मामले की हिन्दू पार्टियों ने दावा किया वो तोड़े गए राम मंदिर के अवशेष थे.

इस बारे में मीनाक्षी अरोरा ने कोर्ट में कहा कि ASI की रिपोर्ट एक कमज़ोर सबूत है, वो सिर्फ एक राय हो सकती है. अरोरा ने कहा कि ASI की रिपोर्ट पर किसी अधिकारी के हस्ताक्षर नहीं हैं. ये भी कि रिपोर्ट के हर अध्याय एक दूसरे से बिलकुल अलग हैं, और उनमें कोई पुख्ता संबंध नहीं हैं.

उन्होंने ये भी कहा कि ASI की रिपोर्ट के मामले में ये बिलकुल अंधेरे में है कि इन आंकड़ों को किसने देखा? डिस्कशन पर किसी के साइन नहीं हैं. मीटिंग क्या हुई? नोट्स के रिकॉर्ड कहां हैं? इन चीज़ों के न होने से इस रिपोर्ट का पूरा महत्त्व ख़त्म हो जाता है. इसके अलावा जिस एक और महत्त्वपूर्ण बात की ओर मीनाक्षी अरोरा ने कोर्ट का ध्यान खींचना चाहा, वो ये कि ASI ने अपनी रिपोर्ट में इस बात के कोई सबूत नहीं दिए कि मंदिर को तोड़कर वहां मस्जिद बनायी गयी. इसके बारे मीनाक्षी अरोरा ने कहा,

“Archaeology यानी पुरातत्त्व विज्ञान असली विज्ञान नहीं है. इससे निष्कर्ष नहीं मिलता है.”

जिस पर कोर्ट ने जवाब दिया कि अगर आपको इस पर बहस करनी है कि पुरातत्त्व विज्ञान खगोल विज्ञान जैसा असली विज्ञान नहीं है, इस पर हम आपको अलग से सुन लेंगे.

इसके एक दिन पहले यानी 24 सितम्बर को मामले की सुनवाई में एक रोचक मोड़ आया था. मुस्लिम पक्ष के अन्य वकील ज़फरयाब जिलानी ने के बारे में खबरें छपीं कि मुस्लिम पक्ष ने माना कि अयोध्या में ही राम का जन्म हुआ था. लेकिन विवादित स्थल पर नहीं, बल्कि राम चबूतरे पर. इस दिन की सुनवाई में मुस्लिम पक्ष से पूछा गया कि उन्हें इस बात से कोई आपत्ति नहीं है? इस पर ज़फरयाब जिलानी का बयान था कि “पहले आपत्ति थी.” लेकिन अगले दिन यानी 25 सितम्बर की सुनवाई में ज़फरयाब जिलानी ने बेंच के सामने साफ़ किया कि उन्हें अभी भी आपत्ति है. फिर ज़िक्र आया ASI का. जिसके बारे में ये तमाम बहसें हुईं.


लल्लनटॉप वीडियो : तो क्या अब उत्तर प्रदेश का बंटवारा होने जा रहा है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

मेडिकल सामान घोटाले के बीच हिमाचल प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष ने पद से इस्तीफा दिया

कहा- पार्टी बेदाग, नैतिक आधार पर छोड़ रहा हूं पद.

125 लोगों के साथ नमाज़ के लिए जुटना महाराष्ट्र के इस नेता को भारी पड़ गया

इन सभी लोगों पर सोशल डिस्टेंसिंग न मानने का केस दर्ज़ हो गया है.

क्या उत्तराखंड के जंगल पिछले चार दिन से धधक रहे हैं?

हर साल उत्तराखंड के जंगलों में आग क्यों लग जाती है?

'गुलाबो सिताबो' में अमिताभ का लुक एक साल पहले खींची गई इस फोटो से हूबहू मिल रहा है

ऐसा कैसे मुमकिन हो पाया, ये अभी रहस्य है.

ये मासूम अपनी मां की डेडबॉडी के साथ ये क्या कर रहा है!

बिहार के मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन पर सामने आया ये दृश्य.

ऑस्ट्रेलिया टूर में अपना पहला टेस्ट किस मैदान पर खेलेगा भारत?

उस ग्राउंड पर आज तक एक भी टेस्ट नहीं जीत पाई है टीम इंडिया.

इयान बिशप की ये बातें सुन जसप्रीत बुमराह को बेहद खुशी होगी

लेकिन साथ में एक दिक्कत भी है.

विराट कोहली या स्टीव स्मिथ, कौन बनेगा डॉन ब्रेडमैन जैसा?

ब्रेट ली ने बताई अपनी पसंद.

UP: पति ने शादी से बाहर संबंध का आरोप लगाया, तीन बच्चों के साथ ट्रेन के आगे कूद गई महिला

गांव की पंचायत में पति ने आरोप लगाया था.

ग़ज़ब! दुनिया की सबसे महंगी लेखिका ने नई किताब लिखी और फ्री में बांटनी शुरू की

जे के रोलिंग की किताबों पर कई ब्लॉकबस्टर फ़िल्में बनी हैं.