Submit your post

Follow Us

अगले CJI ने अयोध्या ज़मीन विवाद के केस में आस्था वाले ऐंगल पर क्या कहा है?

5
शेयर्स

देश के अगले चीफ जस्टिस होने जा रहे हैं जस्टिस शरद अरविंद बोबड़े. उन्होंने अयोध्या लैंड डिस्प्यूट केस पर बयान दिया है. कहा है, अयोध्या भूमि विवाद में आस्था वाले ऐंगल की तरफ नहीं देख रही है अदालत. उन्होंने कहा कि अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट पर किसी किस्म का दबाव नहीं है. न ही अदालत इस केस को हिंदू बनाम मुसलमान के अर्थ में देखती है.

‘इंडिया टुडे’ को दिए एक इंटरव्यू में जस्टिस बोबड़े ने ये बात कही. कहा, सुप्रीम कोर्ट बस लिटिगेंट्स द्वारा अयोध्या भूमि विवाद में उठाए गए मसलों को देख रही है. उन्होंने कहा कि अयोध्या केस में सुप्रीम कोर्ट को बस इतना करना है कि फैसला सुनाना है. ये पूछे जाने पर कि अगर अयोध्या जैसे मुआमले सुप्रीम कोर्ट को राजनैतिक जाल की तरफ ले जाते हैं, जस्टिस बोबड़े बोले कि ये राजनैतिक मसला है ही नहीं. उन्होंने कहा-

ये एक लैंडमार्क केस है, मगर राजनैतिक मसला नहीं है. इसका कुछ ऐसा असर हो सकता है, जिसे हम अभी नहीं देख सकते.

इस सवाल पर कि क्या किसी एक खास याचिकाकर्ता के पक्ष में फैसला आने पर बतौत जज उन्हें किसी किस्म की चिंता होती है, जस्टिस बोबड़े बोले-

मुझे नहीं लगता कि सुप्रीम कोर्ट को इस बात की परवाह करनी चाहिए. हमें बस फैसला देना है. मुझे नहीं पता कि कोई उस फैसले की कैसे व्याख्या करेगा या कर सकता है. हम तक एक केस आया और हम बस उसपर फैसला सुना रहे हैं.

जस्टिस बोबड़े से सवाल पूछा गया. कि वो काफी संवेदनशील समय में CJI का पद संभालने जा रहे हैं. ऐसे वक़्त में, जब सारी नज़रें सुप्रीम कोर्ट पर लगी हुई हैं. तो क्या ये चीजें उनके ऊपर अतिरिक्त दबाव बना रही हैं. इसके जवाब में जस्टिस बोबड़े ने कहा-

नहीं, ऐसा तो नहीं है. हां, मगर प्राथमिकताएं बदल जाएंगी. चुनना होगा कि किस बात को पहले सुना जाए. किस मसले को वरीयता दी जाए. अदालत में लंबित पड़े मामलों और न्यायिक प्रक्रिया को लेकर चिंताएं बढ़ी हैं. लोग इन चीजों के बारे में बातें कर रहे हैं. मुझे इसमें कोई बुराई नज़र नहीं आती. कुछ कदम उठाए जाने होंगे, ताकि सामान्य स्थिति बहाल की जा सके.

मौजूदा चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं. संभावना है कि रिटायर होने से पहले वो अयोध्या केस का फैसला सुनाएंगे. CJI रंजन गोगोई के नेतृत्व में पांच जजों की एक कॉन्स्टिट्यूशन बेंच अयोध्या विवाद का फैसला सुनाएगी. 40 दिनों तक चली सुनवाई के बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखा. दिवाली की छुट्टियों के बाद 4 नवंबर को दोबारा कोर्ट खुलेगा.


जस्टिस शरद अरविंद बोबडे अगले CJI होंगे, जो जस्टिस रंजन गोगोई की जगह लेंगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या मुखर्जी नगर में रहने वाले स्टूडेंट्स को जबरन छुट्टी पर भेज रही है दिल्ली पुलिस?

लोग इसे CAA प्रोटेस्ट से जोड़कर देख रहे हैं.

यूपी : बिजनौर के गांववालों ने बताया, 'पुलिस घरों में घुसकर मुस्लिमों को प्रताड़ित कर रही है'

दो लड़कों की मौत, और एक भीड़ से भरी हुई जेल.

पहले CAA आएगा फिर NRC, ये हम नहीं अमित शाह कई बार कह चुके हैं, ये रहे सबूत

लेकिन कानून मंत्री कह रहे हैं ऐसा कोई प्लान नहीं है.

CAA Protest: RJD के बिहार बंद में हिंसक प्रदर्शन की खबर

आम जनता को परेशान करने के वीडियो सामने आए.

उन्नाव रेप केस : पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को कोर्ट ने क्या सजा दी है?

25 लाख रुपए का मुआवजा भी देना होगा.

CAA PROTEST: जामा मस्ज़िद के बाहर भीम आर्मी का प्रदर्शन, अमित शाह के घर के बाहर प्रोटेस्ट में शर्मिष्ठा मुखर्जी अरेस्ट

आज देश में कहां पर क्या हो रहा है?

पूरे देश में नागरिकता संशोधन क़ानून को लेकर हो रहे प्रदर्शन, कई नामी लोग हिरासत में

और लोग पूछ रहे, "सब चंगा सी?"

जयपुर सीरियल बम ब्लास्ट के फैसले में एक आरोपी को क्यों छोड़ा गया?

इस ब्लास्ट में 71 लोगों की जान गई थी और 185 ज़ख्मी हुए थे.

कोर्ट ने रतन टाटा का मूड खराब कर दिया, वापिस आ गए साइरस मिस्त्री

और अब टाटा समूह जाएगा सुप्रीम कोर्ट!

जामिया प्रोटेस्ट: पुलिस की FIR में कांग्रेस के पूर्व MLA समेत इन 6 लोगों के नाम हैं

आरोप है कि हिंसा से दो दिन पहले से वो लोगों को भड़का रहे थे.