Submit your post

Follow Us

कोरोना प्रोटोकॉल पालन करवाने पहुंची पुलिस, तो गांव वालों ने उन्हें ही पीट दिया

ओडिशा का मयूरभंज जिला. यहां के उडाला ब्लॉक का देबानबहाली गांव. कुछ गांव वालों ने पुलिस के जवानों को पीट दिया. सिर्फ इसलिए कि पुलिस के जवान उनसे कोविड प्रोटोकॉल्स का पालन करने के लिए कह रहे थे. इस मामले में अब तक 12 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

क्या है पूरा मामला?

इंडिया टुडे से जुड़े मोहम्मद सूफियान की रिपोर्ट के मुताबिक एक मई को पूरे राज्य में चैती परबा का त्योहार मनाया जा रहा था. पुलिस को जानकारी मिली कि त्योहार मनाने के लिए देबानबहाली गांव में हजारों ग्रामीणों की भीड़ इकट्ठा हुई है. सरत पुलिस स्टेशन के ASI बिश्वजीत दास मोहापात्रा के नेतृत्व में एक पुलिस टीम बनी. यह पुलिस टीम तुरंत गांव पहुंची.

रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस टीम ने गांव वालों को समझाया कि उन्हें कोविड प्रोटोकॉल्स का पालन करना चाहिए. अगर नहीं करेंगे तो उन्हें खुद तो कोरोना संक्रमण होगा ही, दूसरी जगहों पर भी यह तेजी से फैलेगा.

लेकिन गांव वालों के कान पर जूं तक नहीं रेंगी. पुलिस की सलाह मानने की जगह उल्टा कुछ लोग पुलिस के जवानों से ही गाली गलौच करने लगे. बात बढ़ गई तो गांव वालों ने मिलकर पुलिस के जवानों पर हमला कर दिया. उन्हें लाठी और डंडों से पीटा. पुलिस की गाड़ियों को भी नुकसान पहुंचाया.

इस हमले में ASI बिश्वजीत दास मोहापात्रा समेत पुलिस के दो और जवान घायल हो गए.

पुलिस ने क्या किया?

सीनियर अधिकारियों को जब इस हमले की जानकारी मिली तो उन्होंने आरोपियों को खोजना शुरू किया. मयूरभंज के SP स्मित परमार ने इंडिया टु़डे को बताया कि इस मामले में अलग-अलग धाराओं के तहत कुल 12 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इसमें मुख्य आरोपी के साथ वे लोग भी शामिल हैं, जिन्होंने हमला किया. मामले की जांच जारी है. कुछ और लोगों को भी गिरफ्तार किया जा सकता है.

दूसरी तरफ राज्य में बढ़ते हुए कोरोना मामलों के मद्देनजर ओडिशा सरकार ने वीकेंड लॉकडाउन पहले से ही लागू है.

वीडियो- ओडिशा: मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने पत्रकारों को फ्रंटलाइन कोविड वारियर्स माना, लेकिन केंद्र अब तक चुप

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

भारत सरकार की ओर से इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने ऑक्सीजन की किल्लत पर केंद्र सरकार को बुरी तरह लताड़ दिया है

बुधवार रात 8 बजे हुई सुनवाई में कोर्ट ने केंद्र को जमकर खरी-खोटी सुनाई.