Submit your post

Follow Us

UP: नए धर्मांतरण कानून में धरे गए शख़्स को हाईकोर्ट ने जमानत देते हुए क्या कहा?

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश धर्मांतरण कानून के तहत चार्ज झेल रहे एक व्यक्ति को जमानत दे दी है. इस व्यक्ति पर अपनी पार्टनर को जबरन धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर करने और दुष्कर्म करने का आरोप है. इंडिया टुडे के रिपोर्टर अभिषेक मिश्रा की ख़बर के मुताबिक जस्टिस राहुल चतुर्वेदी की सिंगल जज बेंच ने कहा कि अभी तक पीड़िता का धर्म परिवर्तन तो हुआ ही नहीं है. साथ ही अदालत ने ये भी कहा कि

“याचिकाकर्ता (जमानत याचिका) और पीड़िता पिछले करीब 4 साल से रिलेशन में थे. तब इस संबंध में (धर्मांतरण का) कोई कानून नहीं था और न ही पीड़िता की तरफ से कोई आपत्ति थी. कानून आने के बाद अचानक से वह अपने अधिकारों को लेकर जागरूक हो गईं. पिछले 4 साल में उन दोनों के बीच जो भी संबंध रहे, उसमें पीड़िता स्वेच्छा से शामिल रहीं.”

पीड़िता और आरोपी महोबा के एक मोहल्ले में साथ रहते थे. पीड़िता का आरोप है कि इस दौरान आरोपी ने उसके कुछ आपत्तिजनक फोटोग्राफ्स और वीडियो लिए और बाद में इसके दम पर वो ब्लैकमैल करता था और शारीरिक संबंध बनाता था.

इसके अलावा ये बात भी रिकॉर्ड में आया कि पिछले साल 8 दिसंबर को पीड़िता की शादी किसी और व्यक्ति से हो गई थी. शादी के बाद वह दिल्ली चली गई. इसके कुछ समय बाद पीड़िता दिल्ली से वापस उरई आ गई और तब वह आरोपी के साथ थी. इसी के बाद उसने आरोप लगाया कि आरोपी उस पर धर्म परिवर्तन का दबाव डाल रहा है. इन सारे तथ्यों को नज़र में रखते हुए कोर्ट ने आरोपी को जमानत देने का फैसला किया.

UP का धर्मांतरण कानून

बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार इसी साल जनवरी में धर्मांतरण कानून (Uttar Pradesh Prohibition of Unlawful Conversion of Religion Ordinance, 2020 ) लाई थी. इस कानून के आने के बाद इलाहाबाद हाई कोर्ट में इसे रद्द करने की मांग को लेकर एक याचिका भी लगी थी. इसके जवाब में सरकार ने कोर्ट में जो हलफनामा दाखिल किया, उसमें कहीं भी ‘लव जिहाद’ शब्द का जिक्र नहीं था. हलफनामे के अनुसार लव जिहाद के नाम से किसी को भी गिरफ्तार करने का प्रावधान नहीं है. इस हलफनामे में यूपी सरकार यह समझाने की कोशिश करती दिखती है कि कानून को एक खास वजह से लाया गया है और इसके दुरुपयोग का खतरा नहीं है. सरकार का कहना है कि यह कानून गलत बयानी, ताकत, अनुचित प्रभाव, जबरदस्ती, पैसे देकर या दूसरे तरीकों से धोखाधड़ी करने और शादी के नाम पर धर्म परिवर्तन को रोकने के लिए है.


कोरोना पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने यूपी की स्वास्थ्य सेवाओं को ‘राम भरोसे’ बताया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब के अलावा बाकी चुनाव भी साथ लड़ने की घोषणा.

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

मुकुल रॉय को बराबर में बिठाकर ममता बनर्जी किन गद्दारों पर भड़कीं?

लक्षद्वीप: किस एक बयान के बाद फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हो गया?

लक्षद्वीप: किस एक बयान के बाद फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हो गया?

पहले TV डिबेट में बोला, फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखा.

कोरोना वैक्सीन लेने के बाद शरीर से सिक्के-चम्मच चिपकने के दावों में कितना सच?

कोरोना वैक्सीन लेने के बाद शरीर से सिक्के-चम्मच चिपकने के दावों में कितना सच?

क्या शरीर में वाकई चुंबकीय शक्ति पैदा हो जाती है?

पावर बैंक ऐप, जिसने 15 दिन में पैसे डबल करने का झांसा दे 4 महीने में 250 करोड़ उड़ा लिए

पावर बैंक ऐप, जिसने 15 दिन में पैसे डबल करने का झांसा दे 4 महीने में 250 करोड़ उड़ा लिए

पैसा शेल कंपनियों में लगाते, फिर क्रिप्टोकरंसी बनाकर विदेश भेज देते थे.

भूटान के बाद अब नेपाल ने पतंजलि की कोरोनिल दवा बांटने पर रोक क्यों लगा दी?

भूटान के बाद अब नेपाल ने पतंजलि की कोरोनिल दवा बांटने पर रोक क्यों लगा दी?

नेपाल के अधिकारियों ने IMA के उस लेटर का भी हवाला दिया है, जिसमें कोरोनिल को लेकर रामदेव को चुनौती दी गई थी.

दक्षिण में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ीं, कर्नाटक और केरल में टॉप नेता सवालों में क्यों हैं?

दक्षिण में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ीं, कर्नाटक और केरल में टॉप नेता सवालों में क्यों हैं?

मामला इतना बढ़ गया कि बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व को दखल देना पड़ा है.

आसिफ को भीड़ ने पीटकर मार डाला तो आरोपियों की रिहाई के लिए महापंचायतें क्यों हो रही हैं?

आसिफ को भीड़ ने पीटकर मार डाला तो आरोपियों की रिहाई के लिए महापंचायतें क्यों हो रही हैं?

करणी सेना के नेता धमकी दे रहे- जो भी हमें रोकेंगे, उन्हें ठोक देंगे.

तमिल नेता ने अमेज़न से कहा 'फैमिली मैन 2' को बंद करो, वरना...

तमिल नेता ने अमेज़न से कहा 'फैमिली मैन 2' को बंद करो, वरना...

अमेज़न प्राइम वीडियो की हेड को लेटर लिख दी है खुली चेतावनी.